This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

पीपीई किट व मास्क के बाद अब लुधियाना का मिशन ऑक्सीजन फतेह, प्रतिदिन 800 ऑक्सीजन सिलेंडर हाे रहे तैयार

कोरोना काल में जब देश पीपीई किट व मास्क की कमी से जूझ रहा था तो लुधियाना ने इसकी बंपर प्रोडक्शन करके देश को राह दिखाई थी।

Thu, 10 Sep 2020 11:03 AM (IST)
पीपीई किट व मास्क के बाद अब लुधियाना का मिशन ऑक्सीजन फतेह, प्रतिदिन 800 ऑक्सीजन सिलेंडर हाे रहे तैयार

लुधियाना, [राजेश शर्मा]। कोरोना काल में जब देश पीपीई किट व मास्क की कमी से जूझ रहा था तो लुधियाना ने इसकी बंपर प्रोडक्शन करके देश को राह दिखाई थी। इसी तर्ज पर कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे जिला प्रशासन ने जिले में ऑक्सीजन की कमी नहीं आने देने की तैयारी की है।

इस पर जिला प्रशासन न सिर्फ सफल हुआ है, बल्कि जिले को इतना सक्षम बना दिया कि आसपास के जिलों को भी ऑक्सीजन की आपूर्ति की जा सकती है। अब लुधियाना में ही प्रतिदिन 800 ऑक्सीजन सिलेंडर तैयार करने के साथ-साथ आठ हजार सिलेंडर भरने की व्यवस्था भी कर ली गई है। बता दें कि इससे पहले हरियाणा के पानीपत व हिमाचल के बद्दी से ऑक्सीजन के टैंकर आते थे, जिनसे सिलेंडर भरकर अस्पताल व इंडस्ट्री को सप्लाई कर दिए जाते थे।

दरअसल, कोरोना के मरीजों को मुख्य रूप से सांस की ही दिक्कत होती है। ऐसे में ऑक्सीजन की कमी आ जाए तो इस बीमारी से निपटना मुश्किल है और लुधियाना इसके लिए पानीपत व बद्दी पर निर्भर था। अगर वहां से ऑक्सीजन की सप्लाई रुक जाती तो जिले के अस्पतालों में बड़ी दिक्कत हो जाती। इसी समस्या से निपटने के लिए डीसी वरिंदर शर्मा ने स्थानीय निकाय के डिप्टी डायरेक्टर अमित बैंबी की अध्यक्षता में कमेटी का गठन किया। इंडस्ट्री विभाग के जीएम महेश खन्ना, जोनल लाइसेसिंग अथॉरिटी कुलविंदर सिंह को कमेटी का सदस्य बनाया गया।

योजना बनी कि किसी तरह लुधियाना में ही ऑक्सीजन तैयार की जाए। इसी बीच पता चला कि ग्यासपुरा में पहले वेलटेक इक्वामेंट इंफ्रास्ट्रक्टचर लिमिटेड प्लांट में ऑक्सीजन तैयार होती थी, जो इन दिनों बंद है। कंपनी के मैने¨जग डायरेक्टर जतिंदर सिंह मनचंदा से संपर्क करके उन्हें प्लांट चालू करने के लिए राजी किया गया। प्लांट शुरू करने में कई औपचारिकताएं थीं, जिन्हें जिला प्रशासन ने पहले के आधार पर पूरी कीं। डीसी वरिंदर शर्मा के निर्देशों पर पूरी प्रक्रिया को अंजाम दिया गया और अब 800 सिलेंडर ऑक्सीजन प्रतिदिन तैयार किए जाने लगे हैं।

स्पलायर्स को दिलाए अस्पताल में सप्लाई के लाइसेंस

इस पूरी प्रक्रिया में बड़ी चुनौती थी कि कोरोना के चलते अस्पतालों में प्रतिदिन ऑक्सीजन सिलेंडर की खपत एक हजार से 1500 सिलेंडर प्रतिदिन पहुंच चुकी थी। इस गैप को पूरा करने के लिए डीसी और अमित बैंबी ने पानीपत व बद्दी से ऑक्सीजन लाकर सिलेंडर भरने वाले लुधियाना के छह कारोबारियों से मीटिंग की। इसमें पता चला कि अधिकतर सप्लायर्स के पास सिर्फ इंडस्ट्री को ही सप्लाई करने का लाइसेंस है, वे अस्पतालों को ऑक्सीजन ने दे सकते।

अड़चनें दूर कर टारगेट को किया अचीव

इस पर कमेटी मेंबर जोनल लाइसेसिंग अथॉरिटी कुलविंदर सिंह की ड्यूटी लगी कि सप्लायर्स को इसकी भी मंजूरी दिलाई जाए और सभी अड़चनें दूर कर इस टारगेट को भी अचीव कर लिया गया। गरीब मरीजों को मुफ्त मिलेगी ऑक्सीजन शहर में गरीबों के लिए निशुल्क ऑक्सीजन की व्यवस्था की गई है। संभव फाउंडेशन के बैनर तले शुरु की गई इस व्यवस्था के तहत लुधियाना में एकमात्र ऑक्सीजन प्रोडेक्शन वाली फर्म वेलटेक द्वारा निशुल्क दी जाने वाली सेवा के लिए जरूरतमंद परिवार को फोन नंबर 97799-18899 व 98140-27317 पर संपर्क करना होगा।

फिलहाल ग्यासपुरा स्थित यूनिट से सिलेंडर मिलेगा। हालांकि वेलटेक के मैनेजिंग डायरेक्टर जतिंदर सिंह ने बताया कि इलाके की खराब सड़कों के मद्देनजर शहर के विभिन्न इलाकों में सिलेंडर उपलब्ध करवाने की योजना तैयार की गई है, जो आने वाले सप्ताह में शुरू हो जाएगी। इसके तहत विभिन्न इलाकों के प्रमुख प्वाइंटस पर ऑक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध करवा दिए जाएंगे।

 

Edited By

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

लुधियाना में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!