लुधियाना में 68 हेल्थ केयर वर्करों सहित 745 काेराेना पाजिटिव, एक्टिव मरीजाें की संख्या 3500 के पार

Ludhiana Covid Cases Updateः जिले में मंगलवार को एक बार फिर बड़ी संख्या में लोग कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। 68 हेल्थ केयर वर्करों सहित 745 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। इनमें से 678 लुधियाना जिले और 67 दूसरे जिलों के रहने वाले हैं।

Vipin KumarPublish: Wed, 12 Jan 2022 08:44 AM (IST)Updated: Wed, 12 Jan 2022 08:44 AM (IST)
लुधियाना में 68 हेल्थ केयर वर्करों सहित 745 काेराेना पाजिटिव, एक्टिव मरीजाें की संख्या 3500 के पार

जासं, लुधियाना। Ludhiana Covid Cases Updateः  जिले में मंगलवार को एक बार फिर बड़ी संख्या में लोग कोरोना पाजिटिव पाए गए हैं। 68 हेल्थ केयर वर्करों सहित 745 लोगों की रिपोर्ट पाजिटिव आई है। इनमें से 678 लुधियाना जिले और 67 दूसरे जिलों के रहने वाले हैं। पाजिटिव पाए गए अधिकतर हेल्थ केयर वर्कर सीएमसी अस्पताल के बताए जा रहे हैं। सिविल अस्पताल के भी 2 इमरजेंसी मेडिकल अफसर (ईएमओ) कोरोना की चपेट में आए हैं। सिविल में कुल सात ईएमओ में से चार पाजिटिव आ चुके हैं।

वहीं, अस्पताल में भर्ती 50 वर्षीय एक व्यक्ति की कोरोना से मौत भी हुई है। जिले में कोरोना के सक्रिय मरीजों की संख्या भी बढ़कर 3500 पार हो चुकी है। फिलहाल 3572 सक्रिय मरीज हैं। इनमें से 3503 संक्रमित होम आइसोलेशन में हैं जबकि 12 सरकारी और 57 संक्रमित निजी अस्पतालों में उपचाराधीन हैं। तीन संक्रमित वेंटिलेटर पर भी हैं।

गडवासू ने बंद की पशु अस्पताल की ओपीडी

गुरु अंगद देव वेटनरी व एनिमल साइंसिज यूनिवर्सिटी (गडवासू) ने पशु अस्पातल की ओपीडी बंद कर दी है। पशु अस्पताल के निदेशक डा. स्वर्ण सिंह रंधावा ने बताया कि एहतियात के तौर पर यह फैसला लिया है। पिछले कुछ दिन में यूनिवर्सिटी के 50 से अधिक डाक्टर, सहायक पाजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने कहा कि यह सेवाएं कोरोना लहर समाप्त होने तक बंद करने का फैसला लिया गया है। वहीं बीमार पशुओं और जानवरों का इलाज पहले से लिए समय के बाद ही जांच व इलाज किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सभी किसान और मालिक 17 जनवरी, 2022 से 0161-2414011 नंबर पर समय ले ही अस्पताल में आएं। वहीं एमरजेंसी सेवाएं सोमवार से शुक्रवार तक सुबह 9 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक जारी रहेंगी जबकि शनिवार और सरकारी छुट्टी के दिन 9.30 बजे से दोपहर 12.30 बजे तक जारी रहेंगी।  यूनिवर्सिटी अस्पताल में डाक्टर की ओर से भेजे गए केसों का ही इलाज किया जाएगा। पूरी जांच और इलाज के लिए पशुपालक समय लेकर ही 9 बजे अस्पताल पहुंचे।

Edited By Vipin Kumar

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept