टास्क फोर्स कमेटी को मिले आठ बाल मजदूर

राज्य को बाल श्रम मुक्त बनाने की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए पंजाब सरकार ने एक्शन वीक की शुरुआत की। इस बार एक्शन वीक सात दिन के बजाय महज पांच दिन का ही रखा गया। इस दौरान जिले में एक्शन वीक के अंतिम पांचवे दिन जिला टास्क फोर्स कमेटी को आठ बाल श्रमिक मिले।

JagranPublish: Fri, 03 Dec 2021 08:21 PM (IST)Updated: Fri, 03 Dec 2021 08:21 PM (IST)
टास्क फोर्स कमेटी को मिले आठ बाल मजदूर

जागरण संवाददाता, लुधियाना : राज्य को बाल श्रम मुक्त बनाने की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए पंजाब सरकार ने एक्शन वीक की शुरुआत की। इस बार एक्शन वीक सात दिन के बजाय महज पांच दिन का ही रखा गया। इस दौरान जिले में एक्शन वीक के अंतिम पांचवे दिन जिला टास्क फोर्स कमेटी को आठ बाल श्रमिक मिले। टास्क फोर्स एक्शन टीम ने डिप्टी डायरेक्टर फैक्ट्री नरिदर पाल सिंह के नेतृत्व में जेके गारमेंट्स फैक्ट्री, काली सड़क पर दबिश दी, जिसमे जैकेट बनाने वाली फैक्ट्री से आठ बाल श्रमिक मुक्त हुए। मौके पर जब टीम पहुंची तो बच्चे सिलाई मशीनों पर बैठे जैकेट सिल रहे थे। इस अवसर पर जिला टास्क फोर्स कमेटी के एक सदस्य ने बताया कि सभी बच्चे बिना न्यूनतम मजदूरी के लगभग 12 घंटे काम करने को विवश थे, कुछ बच्चों के माता पिता गांव मे ही हैं।

छापामार कार्यवाही टीम ने डिप्टी डायरेक्टर फैक्ट्री नरिदर पाल सिंह, लेबर इंस्पेक्टर हरप्रीत कौर, जिला बाल सुरक्षा यूनिट से रितु सूद, शिक्षा विभाग से हरमिदर रोमी व दलजीत सिंह व एन्टी ह्यूमन ट्रैफिकिग विग की फोर्स के साथ बचपन बचाओ आंदोलन से दिनेश कुमार, हरचरण सिंह व चाइल्ड लाइन के सदस्य हरजीत शामिल थे।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept