कपूरथला में भाजपा से टिकट के पांच दावेदार, असमंजस में हाईकमान

विरासती विधानसभा हलका कपूरथला से भाजपा का टिकट अभी तक फाइनल नहीं हो सका है।

JagranPublish: Wed, 19 Jan 2022 01:10 AM (IST)Updated: Wed, 19 Jan 2022 01:10 AM (IST)
कपूरथला में भाजपा से टिकट के पांच दावेदार, असमंजस में हाईकमान

हरनेक सिंह जैनपुरी, कपूरथला

विरासती विधानसभा हलका कपूरथला से भाजपा का टिकट अभी तक फाइनल नहीं हो सका है। हालाकि टिकट के लिए भाजपा के करीब 4-5 वरिष्ठ नेताओं की तरफ से दावेदारी जताई जा रही है लेकिन भाजपा आलाकमान अभी तक अपना प्रत्याशी तय नही कर पाई है। भाजपा हाईकमान अपने पुराने नेताओं को नाराज नहीं करना चाहती और दूसरे दलों से आने वालों को भी सम्मान देना चाहती है जिसकी वजह से नए पुराने दोनों तरह के नेताओं में तालमेल बिठाने की कोशिश की जा रही है।

इस समय भाजपा के करीब पांच वरिष्ठ नेताओं की तरफ से भाजपा टिकट पाने के लिए आलाकमान पास जोर अजमाइश कर रहे है, जिनमें शिअद छोड़ भाजपा में आए एक युवा नेता भी शामिल है। विरासती शहर में मेडिकल कालेज की स्थापना करवाने की मुहिम को लेकर काफी लंबे समय से जुटे भाजपा की प्रदेश कार्यकारणी के सदस्य एवं इंप्रूवमेंट ट्रस्ट कपूरथला के साबका चेयरमैन उमेश शारदा प्रबल दावेदार माने जाते हैं। 1982-83 में अपना राजनीतिक करियर शुरू करने वाले उमेश शारदा भाजपा लोकल बाडी सेल पंजाब के प्रधान व इंप्रूवमेंट ट्रस्ट कपूरथला के चेयरमैन रहे हैं।

उमेश शारदा ने दी संगठन की मजबूती को तरजीह

प्रदेश कार्यकारिणी के सदस्य व भाजपा प्रदेश बूथ मैनेजमेंट कमेटी के इंचार्ज उमेश शारदा जमीन से जुड़े एक कर्मठ कार्यकर्ता माने जाते हैं जिन्होंने हमेशा संगठन की मजबूती को सबसे ज्यादा तरजीह दी है। निष्ठा से काम करने की अपनी कार्यशैली के चलते उन्होंने हमेशा शीर्ष लीडरशिप को प्रभावित किया है। वह हिमाचल प्रदेश एवं हरियाणा के विधानसभा चूनावों में पार्टी प्रत्याशियों को विजय बनाने में अहम रोल अदा कर चुके है।

----------

भाजपा जिला प्रधान रहे हैं शाम सुंदर

भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं दो बार भाजपा जिला प्रधान रहे शाम सुंदर अग्रवाल भी मजबूत दावेदारों में हैं। उन्होंने पार्टी के विभिन्न पदों पर रहते हुए पार्टी की मजबूती के लिए लंबे समय तक मशक्कत की है। शाम सुंदर अग्रवाल 1984 में संघ से जुड़े और 1985 में भाजपा में मंडल के कैशियर के तौर पर शामिल हुए। 1987 में भाजपा युवा मोर्चा के मंडल प्रधान बने। 2002 से 2010 तक दो बार भाजपा के जिला प्रधान के तौर पर कार्य किया और 2016 से 18 तक तीसरी बार भाजपा जिला प्रधान की जिम्मेदारी निभाई। शाम सुंदर अग्रवाल 25 साल तक लगातार काउंसलर रहे। इस समय वह प्रदेश कार्यकारणी के सदस्य व अमृतसर सेंट्रल के हलका इँचार्ज भी है।

------

आरएसएस के साथ जुडे यज्ञ दत्त भी दावेदार

भाजपा की टिकट की दावेदारी जताने वाले भाजपा के तीसरे बढ़े नेता यज्ञ दत्त ऐरी है, वह करीब 51 साल से आरएसएस के साथ जुडे हुए है। यज्ञ दत्त 1975 दौरान देश में लगी एमरजेंसी के समय सक्रिय हुए और 1990-92 दौरान वह राम जन्मभूमि के अंदोलन से भी जुड़े रहे। ऐरी भारतीय खाद्य निगम में विभिन्न पदों पर कार्यरत हैं और वह 2016 में एफसीआइ से बतौर मैनेजर रियाटर हुए है और उसके बाद वह संघ के साथ भारतीय जनता पार्टी में भी पूरी तरह सक्रिय हो गए। इस समय वह भाजपा की प्रदेश कार्यकारणी के सदस्य और जालंधर दक्षिण के प्रभारी के तौर पर सेवा निभा रहे हैं। इससे पहले वह संघ के प्रांत बोधिक प्रमुख, फिर प्रांत सेवा प्रणुख के पद भी सेवाएं निभाते रहे हैं। यज्ञ दत्त नमामि गंगे के साथ भी जुड़े रहे हैं।

-

पुरुषोत्तम पासी पार्टी में सक्रिय

भाजपा की टिकट के चौथे प्रमुख दावेदारों में भाजपा की प्रदेश कार्यकारणी के सदस्य एवं जालंधर साउथ के प्रभारी पुरुषोत्तम पासी है। पासी का परिवार शुरू से भाजपा व संघ से जुड़ा रहा है। भाजपा के वरिष्ठ नेताओं में शुमार व अपने बढ़े भाई जतिदर दत्त पासी की 1987 में शहादत के बाद पुरुषोत्तम पासी पूरी तरह भाजपा में सक्रिय हो गए। पासी 1995 से 97 और 1997 से 99 तक दो बार मंडल प्रधान रहे। वह 2013 से 15 तक भाजपा के पहली बार जिला प्रधान बने और फिर वह 2016 से 2019 तक भारतीय जनता पार्टी के जिला प्रधान के तौर पर कार्यरत रहे। पासी अकाली भाजपा सरकार में 2008 से 2013 तक नगर कौसिल के वाइस प्रधान के तौर पर सेवाएं निभात रहे है।

-----

शिअद छोड़ भाजपा में शामिल हुए थे रणजीत

शिअद की पीएसी सदस्यता छोड़ कर भाजपा में शामिल हुए रणजीत सिंह खोजेवाल भी टिकट के दावेदारों में शुमार है। इससे पहले वह शिअद से टिकट के दावेदार के तौर पर हलके के लोगों से संपर्क कर रहे थे लेकिन सुखबीर सिंह बादल की तरफ से कपूरथला की सीट बसपा को छोड़ने के बाद उन्होंने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया।

प्रचार में पिछड़ रही भाजपा

अब भाजपा हाईकमान तय करेगी कि कांग्रेस व आप के उम्मीदवारों को चनौती देने के लिए कौन सा नेता ज्यादा कारगर साबित होगा। टिकट में देरी के कारण भाजपा प्रचार के मामले में पिछड़ रही है।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept