जालंधर माैसम अपडेटः लोहड़ी के दिन झेलना होगा ठंड का प्रकोप, मकर संक्रांति पर छाएंगे बादल

लोहड़ी से एक दिन पूर्व दिन ठंड का कहर बरपा। इस क्रम में दोपहर तक आसमान में धुंध की चादर बिछी रही। लोग लोहड़ी की जरूरी खरीद को छोड़कर घरों में दुबके नजर आए। इसके साथ ही दिन भर में अधिकतम व न्यूनतम तापमान में आधे का अंतर आ गया।

Vipin KumarPublish: Thu, 13 Jan 2022 08:42 AM (IST)Updated: Thu, 13 Jan 2022 08:42 AM (IST)
जालंधर माैसम अपडेटः लोहड़ी के दिन झेलना होगा ठंड का प्रकोप, मकर संक्रांति पर छाएंगे बादल

जागरण संवाददाता, जालंधर। लोहड़ी व मकर सक्रांति पर इस बार ठंड का प्रकोप झेलना होगा। इस दौरान धुंध की चादर छाए रहने तथा शीत लहर चलने की संभावना प्रबल है। बुधवार को दिन भर शीत लहर का प्रकोप जारी रहा था। पहाड़ी इलाकों में हुई बर्फबारी तथा शीत लहर से मैदानी इलाके बुरी तरह से प्रभावित हुए। उधर, मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक आने वाले 24 घंटे यानी लोहड़ी पर दिन भर आसमान में बादल छाए रहने की संभावना है। यहीं दौर मकर संक्रांति पर भी जारी रहेगा। इसके साथ ही मकर संक्रांति वाले दिन बाद दोपहर बूंदाबांदी की भी संभावना है। जिससे ठंड का कहर बढ़ जाएगा। इस कारण निश्चित रूप से तापमान में और भी गिरावट हो जाएगी।

लोहड़ी से एक दिन पूर्व दिन ठंड का कहर बरपा। इस क्रम में दोपहर तक आसमान में धुंध की चादर बिछी रही। लोग लोहड़ी की जरूरी खरीद को छोड़कर घरों में दुबके नजर आए। इसके साथ ही दिन भर में अधिकतम व न्यूनतम तापमान में आधे का अंतर आ गया। जिससे तड़के व रात के समय सर्दी का प्रकोप बढ़ गया। लोग घरों से बाहर निकलने से कतराते रहे। जिसका असर शहर के बाजारों में भी पड़ा। मुख्य मार्गों पर दिन के समय ही लोग वाहनों की लाइटें जलाकर चलते रहे। कारण, अधिक धुंध के कारण विजिबिलिटी कम होकर दस मीटर तक रह गई। जिससे वाहनों की रफ्तार भी कम हो गई।

बीते सप्ताह के अधिकतर दिन हुई बारिश के बाद तापमान में गिरावट हो गई है। इस सप्ताह की शुरुआत ही धुंध तथा कोहरे के साथ हुई है। लोहड़ी से एक दिन पहले दिन भर चली शीतलहर के बीच न्यूनतम तापमान लुढ़ककर 7.10 डिग्री सैल्सियस रह गया। जबकि, अधिकतम तापमान की दर 14.90 दर्ज की गई। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक लोहड़ी वाले दिन ठंड अपने यौवन पर रहेगी। इस दौरान आसमान में गरज के साथ बादल छा जाने, शील लहर का प्रकोप बढ़ने व बूंदाबांदी की संभावना है।

पश्चमी विक्षोभ के चलते बने हालात

इस बारे में मौसम विशेषज्ञ डा. विनीत शर्मा बताते हैं कि पश्चमी विक्षोभ के चलते हालाच बने है। उन्होंने कहा कि नववर्ष के शुरूआत में दोपहर के समय धूप खिल रही थी। जबकि, मध्यांतर से पहले सप्ताह भर बारिश के चलते हालात फिर से बदल गए है। उन्होंने कहा कि लोहड़ी के बाद मकर सक्रांति पर भी ठंड का प्रकोप बरकरार रहेगा। अगले तीन दिनों तक ठंड का प्रकोप यथावत रहेगा। इसके बाद आसमान में बादल छाए रहने व रविवार को बारिश की संभावना प्रबल है।

Edited By Vipin Kumar

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept