This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

नेटवर्क ने नहीं दिया साथ, महज 16 बुजुर्गो को लगीं जिंदगी की डोज

जागरण संवाददाता जालंधर कोरोना वैक्सीनेशन के तीसरे चरण की शुरुआत हो गई है। पहले दि

JagranTue, 02 Mar 2021 07:47 AM (IST)
नेटवर्क ने नहीं दिया साथ, महज 16 बुजुर्गो को लगीं जिंदगी की डोज

जागरण संवाददाता, जालंधर : कोरोना वैक्सीनेशन के तीसरे चरण की शुरुआत हो गई है। पहले दिन नेटवर्क की समस्या ने खासा परेशान किया। लोगों ने वैक्सीन के लिए कोविन एप व अरोग्य सेतु एप पर खुद को रजिस्टर करने के लिए मोबाइल नंबर भरा लेकिन ओटीपी नहीं आया जिस कारण ज्यादातर लोग रजिस्ट्रेशन नहीं करवा पाए। सरकारी सेंटरों में भी सेहत विभाग के अमले को घंटो तक जूझना पड़ा। जालंधर में सुबह नौ बजे रजिस्ट्रेशन का काम शुरू होना था लेकिन दोपहर 12 बजे तक इन दोनों एप के सर्वर पर हैवी लोड होने के कारण एक भी रजिस्ट्रेशन नहीं हो पाई। हालांकि बाद दोपहर कुछ बुजुर्ग सरकारी सेहत केंद्रों में पहुंचे और वैक्सीन की प्रक्रिया पूरी की। पूरे जिले में 60 साल से अधिक आयु वर्ग के 16 लाभार्थियों को ही वैक्सीन लगी। गंभीर बीमारियों से ग्रस्त 45 से 59 साल के आयु वर्ग के लोगों को वैक्सीन लगवाने का मौका नहीं मिला। इसके अलावा निजी अस्पतालों में भी वैक्सीन नहीं लग पाई। तीसरे चरण की वैक्सीन सबसे पहले कपूरथला के पूर्व सिविल सर्जन डा. एचएस काहलों को लगीं। सिविल सर्जन डा. बलवंत सिंह ने बताया कि पहले दिन एक साथ लाखों लोगों के रजिस्ट्रेशन करवाने के कारण सर्वर पर लोड बढ़ गया। आने वाले दिनों में यह समस्या नहीं आएगी। उन्होंने बताया कि जिले के 17 सरकारी सेंटरों समेत 72 प्राइवेट सेंटर वैक्सीन के लिए तैयार किए गए हैं। चयनित 72 निजी अस्पतालों में प्रति डोज के लिए 250 रुपये ही देने होंगे। उन्होंने कहा कि पहले पंजीकरण करने में दिक्कतें आई थी और बाद में हेल्थ वर्करों व फ्रंटलाइन वर्करों को वैक्सीन लगवाने के समय भी कमजोर नेटवर्क के कारण जूझना पड़ा। इस संबंध में विभाग को बता दिया है। सिविल सर्जन ने मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. परमिदर कौर, डा. अशोक थापर, डा. इंदु सहित सेहत विभाग व अन्य के साथ सेंटर का जायजा भी लिया। ग्लोबल अस्पताल ने खोला खाता, मिली 500 डोज, आज वहां जाकर लगवा सकते हैं

जालंधर: आईएमए के राष्ट्रीय उपप्रधान ग्लोबल अस्पताल के डायरेक्टर डा. नवजोत सिंह दहिया ने बताया कि उन्होंने सबसे पहले अस्पताल में कोरोना वैक्सीन लगाने की कवायद की है। केंद्र सरकार की ओर से दिए गए स्टेट बैंक के खाते में पैसे जमा करवाकर सेहत विभाग से 500 डोज ली है। मंगलवार को सुबह सबसे पहले अस्पताल में वैक्सीन लगाने की प्रक्रिया शुरू करेंगे। मौके पर ही पंजीकरण करेंगे और सेहत विभाग की नीतियों की पालना करेंगे।

बाकी निजी अस्पतालों में अभी लग सकते हैं एक-दो दिन

पहले दिन सिर्फ आइडी बनाकर दी गई

सिविल सर्जन डा. बलवंत सिंह ने बताया कि जिले के 72 अस्पतालों को 250 रुपये प्रति वैक्सीन लगाने के लिए अनुमित दे दी है। इन सेंटरों को सोमवार को लागिन आईडी तैयार कर दे दी गई है। वे सभी सुबह जितनी डोज चाहिए, उसके पैसे भरकर वैक्सीन ले सकते हैं और आगे लोगों को इसे लगा सकते हैं। जैसे-जैसे वे पैसे भरते जाएंगे, उनके सेंटरों का नाम कोविन एप में आता जाएगा।

---------------

निजी अस्पतालों में इसलिए शुरू नहीं हो रही वैक्सीनेशन

आईएमए के राष्ट्रीय उपप्रधान डा. नवजोत सिंह दहिया ने बताया कि प्राइवेट अस्पताल 250 लेकर वैक्सीन तो लगा सकते हैं लेकिन सबसे पहले अस्पताल प्रबंधन को वैक्सीन खरीदनी होगी। केंद्र सरकार ने वैक्सीन खरीदने के लिए स्टेट बैंक आफ इंडिया का बैंक खाता दिया है। वहां एक साथ कई सौ या हजार डोज के पैसे जमा करवाने होंगे। अप्रूवल मिलने के बाद ही वैक्सीन निजी अस्पतालों तक डिलीवर होगी और वे उसे अगले दिन से लगा पाएंगे। उन्होंने बताया कि सोमवार को बैंक खाते में पैसे जमा करवाने में भी खासी दिक्कत आई। वहां भी सिस्टम स्लो दिखा। काफी मशक्कत करने के बाद पैसे जमा हुए। उसके बाद रसीद सिविल सर्जन आफिस देकर डोज ली गई।

---------

भुगतभोगी : वीके वर्मा व गीता वर्मा को करना पड़ा तीन घंटे इंतजार

न्यू जवाहर नगर से सिविल अस्पताल में वैक्सीन लगवाने पहुंचे वीके वर्मा व गीता वर्मा ने बताया कि सुबह 9 बजे ही आनलाइन पंजीकरण करने की प्रक्रिया शुरू कर दी थी। करीब 45 मिनट बाद पंजीकरण हुआ। कमजोर नेटवर्क के चलते ओटीपी नहीं आ रहा था। एक दो बार पूरी डिटेल भी नहीं भरी गई कि एप बंद हो गई। वैक्सीन लगवाने के लिए सिविल अस्पताल पहुंचे तो वहां कंप्यूटर में वेरिफिकेशन के लिए उनका नाम और नंबर नहीं मिला। डेढ़ घंटे तक इंतजार करने के बाद सिस्टम में सुधार हुआ और वैक्सीन लग पाई।

------ कम पड़ सकती है वैक्सीन

सेहत विभाग के पास स्टाक में केवल 11560 कोविशिल्ड व 11 हजार डोज कोवैक्सीन की है। पिछले महीने 60 हजार डोज की सप्लाई आई थी। 46 हजार सेना को दे दी गई थी। जिला टीकाकरण अधिकारी डा. राकेश चोपड़ा ने बताया कि राज्य में करीब चार लाख वैक्सीन की डोज सप्लाई आने वाली है। उन्होंने डिमांड भेज दी है। इन सेंटरों में मुफ्त लगेगी वैक्सीन

सिविल अस्पताल जालंधर

सिविल अस्पताल फिल्लोर

सिविल अस्पताल नकोदर

ईएसआई अस्पताल जालंधर

सीएचसी काला बकरा

सीएचसी बुंडाला

सीएचसी आदमपुर

सीएचसी पीएपी

सीएचसी खुरला किगरा

सीएचसी बस्ती गुजां

सीएचसी दादा कालोनी

सीएचसी करतारपुर

सीएचसी शाहकोट ------

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

जालंधर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!