नवजोत सिद्धू बोले- वादे करने वालों से सवाल करें कि नौकरियां कहां से देंगे; बिजली फ्री नहीं, 24 घंटे चाहिए

जालंधर के केएमवी में नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि मैं किसी भी पालिटिशन का नाम नहीं लूंगा। आप सब समझ जाएं। 26 लाख नौकरी। घर-घर नौकरी। मैंने आज तक ऐसे वायदे नहीं किए क्योंकि मैं जानता हूं कि जाब्स क्रिएट करने के लिए भारी भरकम बजट चाहिए।

Pankaj DwivediPublish: Sat, 04 Dec 2021 06:40 PM (IST)Updated: Sat, 04 Dec 2021 06:40 PM (IST)
नवजोत सिद्धू बोले- वादे करने वालों से सवाल करें कि नौकरियां कहां से देंगे; बिजली फ्री नहीं, 24 घंटे चाहिए

अंकित शर्मा, जालंधर। कन्या महाविद्यालय (केएमवी) में विद्यार्थियों के साथ इंटरैक्शन करने आए नवजोत सिंह सिद्धू के तेवर तल्ख दिखे।उन्होंने बिना किसी का नाम लिए अकाली दल और आम आदमी पार्टी पर हमला किया। यहां तक कि अपनी पार्टी कांग्रेस को भी नहीं छोड़ा। केएमवी में आयोजित स्टूडेंट्स इंट्रेक्शन प्रोग्राम पंजाब का भविष्य में नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि मैं किसी भी पालिटिशन का नाम नहीं लूंगा। आप सब समझ जाएं। 26 लाख नौकरी। घर-घर नौकरी। मैंने आज तक ऐसे वायदे नहीं किए क्योंकि मैं जानता हूं कि जाब्स क्रिएट करने के लिए भारी भरकम बजट चाहिए। 

सिद्धू ने कहा कि 26 लाख नौकरियां देनी हैं तो 30 हजार रुपये मासिक वेतन होना चाहिए। इसका एक साल का बजट अलोकेशन 93 हजार करोड़ रुपये बनेगा। बच्चियों और महिलाओं को 1 हजार रुपये फ्री देने का दावा करने वाले जान लें कि पंजाब की महिलाएं भिखारी नहीं हैं। हमें ऐसी भीख नहीं चाहिए। उन्हें ऐसी शिक्षा चाहिए जिससे वे हजारों रुपये कमाने के योग्य बन सकें।

सिद्धू ने कहा कि 26 लाख युवाओं को नौकरी देने का दावा करने वाले 1 लाख नौकरियां भी नहीं दे पाए। बेबाकी से बात रखते हुए सिद्धू ने कहा कि मैं बाते सच्च की करता हूं। इसे ये मत समझना कि मैं सरकार के खिलाफ बात करता हूं। मैं सच बोलने से कभी नहीं डरा और न ही डरुंगा। सिद्धू ने कहा फ्री बिजली देने के लिए 3600 करोड़ रुपये का बजट चाहिए। हमें बिचली फ्री नहीं चाहिए बल्कि 24 घंटे चाहिए और वो भी 3 रुपये में।

कन्या महाविद्यालय में छात्राओं से इंटरैक्ट करते हुए पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू। साथ हैं राष्ट्रीय प्रवक्ता अलका लांबा, शिक्षा मंत्री परगट सिंह व अन्य।

स्टूडेंट्स से कहा- वादा करने वालों से पूछें पैसे कहां से आएंगे

पंजाब कांग्रेस प्रधान ने कहा कि बिना टैलेंट के अवसर नहीं मिलते हैं। अवसरों के साथ-साथ क्वालिटीज बेहद जरूरी है। चाहे सिद्धू आए। चाहे केजरी वाल आए या फिर कोई भी आए। सवाल करें कि पैसे कित्थों आएंगे ए दस। कहां से नौकरियां निकालेंगे, नोट छापने की कहीं मशीन तो नहीं लगाई बजट कित्थे है।

मीडियोकर से उठकर डिस्टिंक्शन में आए, नौकरी खुद चलकर आएगी

सिद्धू से छात्राओं ने सवाल किया कि पढ़ने-लिखने के बावजूद नौकरियां नहीं हैं। जवाब में सिद्धू ने कहा कि

केवल 33 फीसद अंक आना ही काफी नहीं। मीडियोकर कोई भी होगा, उसे इज्जत नहीं मिलेगी। मिडियोकर से उठकर डिस्टिंक्शन में आएं, तब नौकरी खुद घर चलकर आएगी। अभी एजुकेशन सिस्टम नहीं है, सिर्फ खानापूर्ति है। जिसमें बच्चे सिर्फ पढ़-लिख जाते हैं, उसके बाद नौकरियां नहीं हैं। यही हमारी सबसे बड़े समस्या है। शिक्षा ही कामधेनू गाय है। जिसके पास शिक्षा है वो कुरूप भी सुंदर हो जाता है। शिक्षा पाने के लिए कोई भी शार्टकट नहीं हैं। इस दौरान उनके साथ कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता अल्का लांबा, कृष्णा अलाहु, गौतम सेठ भी थे।

फिर की पाकिस्तान के साथ व्यापार शुरू करने की हिमायत

अमृतसर, एएनआइ। पंजाब कांग्रेस प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने एक बार फिर पाकिस्तान के साथ व्यापार शुरू करने का मुद्दा उठाया है। शनिवार को अमृतसर में बोलते हुए उन्होंने कहा कि मैंने पहले भी इसके लिए निवेदन किया था और मैं दोबारा कहता हूं कि व्यापार को शुरू किया जाए। इससे सभी को लाभ होगा। उन्होंने कहा कि वर्तमान में भारत और पाकिस्तान के बीच 37 बिलियन अमेरिकी डालर व्यापार की क्षमता है लेकिन अभी केवल 3 बिलियन डालर का व्यापार हो रहा है जो कि क्षमता का 5 प्रतिशत भी नहीं है।

सिद्धू ने कहा पंजाब को पिछले 34 महीनों में करीब 4000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। 1500 नौकरियां गई हैं। रोजगार आगामी विधानसभा चुनाव में बड़ा मुद्दा होने वाला है। मैं आपको गारंटी देता हूं कि जल्द हम आपको अपना वीजन देंगे। सिद्धू ने कहा कि आंखें तो सभी लोगों के पास होती हैं लेकिन दूरदृष्टि बहुत कम लोग ही पाते हैं।

Edited By Pankaj Dwivedi

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept