प्रलोभन देकर मतांतरण के खिलाफ बने कानून, पंजाब चुनाव के लिए जालंधर पहुंचे केजरीवाल ने की मांग

दिल्ली के सीएम व आम आदमी पार्टी के प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने पंजाब विधानसभा चुनाव को लेकर जालंधर में समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों से संवाद किया। इस दौरान उन्होंने मतांतरण पर कानून बनाने की मांग की।

Kamlesh BhattPublish: Sat, 29 Jan 2022 01:10 PM (IST)Updated: Sat, 29 Jan 2022 01:38 PM (IST)
प्रलोभन देकर मतांतरण के खिलाफ बने कानून, पंजाब चुनाव के लिए जालंधर पहुंचे केजरीवाल ने की मांग

जागरण संवाददाता, जालंधर। पंजाब विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री व आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल आज भी जालंधर में हैं। केजरीवाल शनिवार को स्थानीय होटल में उद्योगपतियों, व्यापारियों एवं समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों से रूबरू हुए। केजरीवाल ने कहा है कि प्रलोभन देकर अथवा जबरन करवाया गया मतांतरण गलत है। उन्होंने कहा कि धर्म एक निजी मामला है। इस देश में किसी को भी कोई भी धर्म अथवा भगवान को मानने का अधिकार प्राप्त है। इसमें जबरदस्ती नहीं की जा सकती है। उन्होंने कहा कि जबरन अथवा प्रलोभन देकर करवाए जा रहे मतांतरण के खिलाफ कानून बनना चाहिए, लेकिन साथ में यह भी बात है कि इस कानून का गलत उपयोग नहीं होना चाहिए। 

केजरीवाल ने कहा कि बच्चों को निशुल्क शिक्षा देना ही सही राष्ट्र निर्माण है। उन्होंने कहा कि अमेरिका के राष्ट्रपति की पत्नी विशेष तौर पर दिल्ली सरकार की तरफ से संचालित एक स्कूल का दौरा करने पहुंची थी। वह दुनिया के कई देशों का दौरा कर चुकी थी, लेकिन कभी भी किसी स्कूल का दौरा करने नहीं पहुंची थी। दिल्ली के स्कूलों में बच्चों को निशुल्क शिक्षा के अलावा निशुल्क यूनिफार्म निशुल्क किताबें मुहैया कराई जा रही हैं। 

निशुल्क बिजली दिए जाने के चुनावी वादे पर अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली सरकार की तरफ से दिल्ली में मात्र 200 यूनिट बिजली मुफ्त दी जा रही है, लेकिन पंजाब के मंत्री तो 4000 यूनिट मुफ्त बिजली ले रहे हैं। कहा कि जब जनता को मुफ्त बिजली देने की बात हो रही है तो पंजाब के मंत्री इसका विरोध जता रहे हैं। 

Edited By Kamlesh Bhatt

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept