पूर्व जेल मंत्री सरवन सिंह फिल्लौर और बेटे दमनवीर ने कहा कांग्रेस को गुडबाय, शिअद (संयुक्त) में होंगे शामिल

कांग्रेस ने फिल्लौर विधानसभा सीट से सांसद चौधरी संतोख सिंह के बेटे चौधरी विक्रमजीत सिंह को फिर से टिकट दे दी है। ऐसे में पूर्व जेल मंत्र सरवण सिंह फिल्लौर और उनके बेटे दमनवीर ने विकल्प की तलाश में शिअद (संयुक्त) में शामिल हो रहे हैं।

Pankaj DwivediPublish: Mon, 17 Jan 2022 12:09 PM (IST)Updated: Mon, 17 Jan 2022 03:33 PM (IST)
पूर्व जेल मंत्री सरवन सिंह फिल्लौर और बेटे दमनवीर ने कहा कांग्रेस को गुडबाय, शिअद (संयुक्त) में होंगे शामिल

जासं, जालंधर। पंजाब विधानसभा चुनाव में दल-बदल और तेज हो गया है। अब फिल्लौर से बड़ी खबर आ रही है। पुराने अकाली नेता और पूर्व कैबिनेट मंत्री सरवन सिंह फिल्लौर अपने बेटे दमनवीर सिंह फिल्लौर और परिवार सहित कांग्रेस को अलविदा कहने जा रहे हैं। वे सोमवार को शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) में शामिल हो जाएंगे। उन्हें शिअद (संयुक्त) के अध्यक्ष सुखदेव सिंह ढींडसा सोमवार दोपहर एक बजे चंडीगढ़ में पार्टी में शामिल करेंगे। शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) में जाने की पुष्टि की दमनवीर सिंह फिल्लौर ने की है।

अकाली दल छोड़ने के बाद सरवन सिंह फिल्लौर ने कांग्रेस जाइन कर ली थी। इस बार यह कयास लगाए जा रहे थे कि उन्हें या उनके परिवार में से किसी एक को कांग्रेस टिकट दे सकती है। हालांकि कांग्रेस ने फिल्लौर विधानसभा सीट से सांसद चौधरी संतोख सिंह के बेटे चौधरी विक्रमजीत सिंह को फिर से टिकट दे दी है। चौधरी विक्रमजीत सिंह को टिकट मिलने के बाद दमनवीर सिंह फिल्लौर ने पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के पंजाब मॉडल एवं फिल्लौर हलके में कांग्रेस की गतिविधियों को लेकर निशाना साधा था।

शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) में शामिल होने के बाद सरवण सिंह फिल्लौर या दमन वीर सिंह फिल्लौर उम्मीदवार भी बन सकते हैं। हालांकि इस बात को लेकर अभी तक किसी की तरफ से कोई पुष्टि नहीं की गई है। सरवण सिंह फिल्लौर पुराने अकाली नेता हैं लेकिन पिछले चुनाव में वह अकाली दल को छोड़कर कांग्रेस में शामिल हो गए थे। पार्टी न तो उन्हें और न ही उनके बेटे को कहीं से टिकट दिया। ऐसे में उन्होंने शिरोमणि अकाली दल संयुक्त का दामन थामने का फैसला किया है।

यह भी पढ़ें - जालंधर से लुधियाना जाने वाले ध्यान दें! रविदासिया समाज ने किया नेशनल हाईवे जाम, 6 घंटे रहेगा ब्लाक

बता दें कि सरवण सिंह 1977 में पहली बार फिल्लौर से अकाली दल के टिकट पर पंजाब विधानसभा के लिए चुने गए थे। वह 1980, 1985, 1997 और 2007 में फिल्लौर से फिर से चुने गए। 2012 में उन्होंने सफलतापूर्वक करतारपुर से चुनाव लड़ा।

Edited By Pankaj Dwivedi

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept