This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

लूट की योजना बनाते सुक्खा काहलवां गैंग के छह सदस्य गिरफ्तार

लूटपाट की तैयारी में घूम रहे गैंगस्टर सुक्खा काहलवां गैंग के छह सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है।

Fri, 14 Dec 2018 01:50 PM (IST)
लूट की योजना बनाते सुक्खा काहलवां गैंग के छह सदस्य गिरफ्तार

जागरण संवाददाता, जालंधर : लूटपाट की तैयारी में घूम रहे गैंगस्टर सुक्खा काहलवां गैंग के छह सदस्यों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। गिरफ्तारी निझरां गेट से की गई। आरोपितों से पिस्तौल, तेजधार हथियार व नशीला पदार्थ भी बरामद हुआ है। पुलिस ने जिस समय उन्हें गिरफ्तार किया वे होशियारपुर के भगौड़े गैंगस्टर की कार में सवार थे। आरोपितों में गैंगस्टर सुक्खा काहलवां के मर्डर का मुख्य गवाह गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी निझर भी शामिल है। निझर सुक्खा काहलवां की मौत के बाद उसके गैंग को ऑपरेट कर रहा था।

जालंधर देहात के एसएसपी नवजोत सिंह माहल ने बताया कि गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी निज्झर निवासी जयरामपुर जिला कपूरथला, गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी शूटर निवासी घोड़ावाहा जिला होशियारपुर, राजिंदर कुमार उर्फ बगड़ निवासी निआड़ा जिला होशियारपुर, शहजाद चौधरी उर्फ छोटा निवासी मोहल्ला कमालपुरा होशियारपुर, अविनाश कुमार उर्फ संजू निवासी मोहल्ला विजय नगर नजदीक गुरु तेग बहादुर गुरुद्वारा मॉडल टाउन होशियारपुर व अमित कुमार उर्फ काकू निवासी मोहल्ला गाजी गुला न्यू फ्लाईओवर नजदीक सोढल मंदिर जालंधर शामिल हैं। वहीं, रणजीत सिंह उर्फ रणिया निवासी पुरहीरा मॉडल टाउन होशियारपुर वहां से फरार हो गया।

आरोपितों से 7.65 बोर के दो पिस्तौल, 315 बोर के 2 देसी पिस्तौल, 7 कारतूस, 2 दातर, एक कार व 250 ग्राम नशीला पदार्थ बरामद किया गया है। इन आरोपितों पर लूटपाट की योजना बनाने, आ‌र्म्स एक्ट के तहत केस दर्ज किया जा चुका है।

गोपी ने इसी साल होशियारपुर के मनी का किया था कत्ल

गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी शूटर ने अपने साथियों के साथ मिलकर इसी साल 28 जून को किसी रंजिश के चलते मोहल्ला गुरुनानक नगर भोगपुर निवासी जशन कुमार के घर में घुसकर उसके साथ रहने वाले दोस्त मनप्रीत सिंह उर्फ मनी निवासी खडियाला होशियारपुर का कत्ल कर दिया था। इसमें जशन कुमार भी जख्मी हो गया था। इस मामले में उनके खिलाफ थाना भोगपुर में कत्ल व जानलेवा हमले का केस दर्ज है।

गैंगस्टर की कार में घूम रहे थे सभी

एसएसपी नवजोत माहल के मुताबिक आरोपितों से बरामद अरटिगा कार पीबी-07बीसी-8605 के मालिक की पड़ताल की गई तो वो जतिंदर कुमार निवासी बी-24, एमसीएच 137 मोहल्ला फतेहगढ़ जिला होशियारपुर के नाम पर रजिस्टर्ड है। पुलिस जांच में पता चला कि जतिंदर भी एक नामी गैंगस्टर है और उसे होशियारपुर जिले के कई केसों में भगौड़ा करार दिया हुआ है।

आठवीं से लेकर इंजीनियरिंग डिग्री होल्डर

पूछताछ में खुलासा हुआ कि गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी निझर ने 12वीं की पढ़ाई की है और वह खेतीबाड़ी करता है। सुक्खा काहलवां की मौत के बाद वही गैंग को ऑपरेट कर रहा था। गैंगस्टर काहलवां की 21 जनवरी 2015 को फगवाड़ा में गैंगस्टर विक्की गौंडर ने साथियों के साथ मिलकर पुलिस वैन में हत्या कर दी थी। गोपी निझर उस केस में मेन गवाह होने के साथ पंजाब यूनीवर्सिटी के बल्लू नामक व्यक्ति से 30 हजार के माउजर लेकर 80 हजार में उन्हें आगे बेच देता था। बल्लू मूल रूप से यूपी का रहने वाला था। इसके खिलाफ अमृतसर में भी केस दर्ज है। वहीं, गुरप्रीत सिंह उर्फ गोपी शूटर 10वीं पास है और घर में करियाने की दुकान चलाता है। उसके खिलाफ इसी साल कत्ल का केस दर्ज हुआ था लेकिन नाबालिग होने की वजह से 3 महीने जेल में रहने के बाद वो जमानत पर बाहर आ गया था।

राजिंदर कुमार उर्फ बंगड़ ने पूछताछ में बताया कि उसने सिविल इंजीनियरिंग की डिग्री की है। उसके खिलाफ पहले भी मॉडल टाउन थाना होशियारपुर में नशा बेचने के केस दर्ज हैं। अमित कुमार काकू की उम्र 19 साल है और वह आठवीं पास है। वो स्टिकर का काम करता है। शहजाद चौधरी उर्फ छोटा ने बताया कि वो 11वीं में पढ़ रहा है। अविनाश कुमार उर्फ संजू 27 साल का है और उसने बारहवीं तक पढ़ाई की है।

गौंडर गैंग से दुश्मनी के चलते रखे थे हथियार

सुक्खा काहलवां की हत्या के बाद सबसे बड़े चश्मदीद के रूप में गोपी निज्जर का नाम आया था। जिस दिन सुक्खा काहलवां पेशी पर आया था, उसी दिन गोपी भी किसी केस में पेशी पर आया था। जब वह अदालत परिसर में खड़ा था तो उसी समय गौंडर, प्रेमा लाहौरिया के साथी वहां मौजूद थे। गोपी उनके पीछे ही खड़ा था और उसने बताया था कि सभी वहां खड़े होकर सुक्खा को मारने की योजना बना रहे थे। उनमें से एक ने सुक्खा के जाने के बाद गौंडर को फोन किया था। सुक्खा की हत्या के बाद पुलिस को यह नहीं पता था कि सुक्खा की हत्या किसने की है सिवाय गौंडर के, जो हत्या के बाद खुद वहां पर भांगड़ा डालकर खुद को गौंडर बता रहा था। गोपी की गवाही के बाद बाकी सारे लोगों के नाम सामने आए थे। सुक्खा की मौत के बाद उसका गैंग गोपी निज्जर व उसके साथी चला रहे थे। वहीं गौंडर की मौत के बाद उसका गैंग भी आपरेट हो रहा है। ऐसे में कभी भी गैंगवार हो सकती है जिसके चलते निज्जर हथियारों व साथियों के साथ चलता था।

Edited By

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

जालंधर में कोरोना वायरस से जुडी सभी खबरे

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!