धुंध में हादसों को निमंत्रण दे रहे सड़क के किनारे खड़े वाहन

सड़क पर अवैध पार्किंग से यातायात रुक रहा जिससे हादेस हो रहे।

JagranPublish: Mon, 20 Dec 2021 06:19 PM (IST)Updated: Mon, 20 Dec 2021 06:19 PM (IST)
धुंध में हादसों को निमंत्रण दे रहे सड़क के किनारे खड़े वाहन

संवाद सहयोगी, होशियारपुर :

बीते चौबीस घंटे में छह मौतें हो गई। कारण सड़कों पर यातायात नियमों का पालन न होना है। लोगों की सुरक्षा का बीड़ा उठाने का दम भरने वाली अफसरशाही का रवैया गैर जिम्मेदाराना है। यही कारण है कि सड़कों पर मौत नाचती है और अधिकारी मौत का तमाशा देखने में मशगूल हैं। कहीं पर सड़क हादसा होने पर परिवारों का सब कुछ उजड़ जाता है। मां अपने बेटे को खो देती है। पत्नी अपने पति को खो देती है। बच्चे अनाथ हो जाते हैं, परंतु अफसोस अफसरशाही खामोश है। इसी वजह से सड़कें खूनी हो रही हैं। आलम यही रहा तो आने वाले दिनों में सर्दी में पड़ने वाली धुंध और ज्यादा जानलेवा साबित होगी। लापरवाही के आलम में चौबीस घंटे में तीन मौतें हुई हैं। सड़कों पर टूटते नियमों की असलियत लाने के लिए दैनिक जागरण ने मौका मुआयना किया तो अधिकारियों के जिम्मेदारियों की असली तस्वीर सामने आ गई। दोपहिया वाहनों के चालान काटने वाले सरकारी तंत्र को सड़कों पर मौत बनकर खड़े वाहन दिखाई नहीं देते। हादसे को न्योता देते हैं सड़क किनारे खड़े ट्रक

सड़कों के किनारे खड़े होने वाले ट्रक हादसों का कारण बन रहे हैं। ट्रैफिक पुलिस इन्हें सड़कों से हटाना जरूरी नहीं समझता। पुलिस इन्हें सड़क से हटाने का केवल आश्वासन देती है, मगर हकीकत इससे कोसों दूर है। दैनिक जागरण ने शहर व इसके आसपास सड़कों का मौका मुआयना किया तो कई ट्रक सड़कों पर खड़े दिखाए दिए। शहर के भंगी चो के पास पुलिस कर्मियों की मौजूदगी में ही कुछ कदमों की दूरी पर सड़क पर ट्रक पार्क किए हुए थे और पुलिस ने इन्हें सड़क से हटाने की जहमत उठानी जरूरी नहीं समझी। इसी तरह फगवाड़ा रोड स्थित नई सब्जी मंडी के बाहर रोड पर ट्रक पार्क किए थे। टांडा रोड गांव हरदोखानपुर पर भी ट्रकों को लंबी कतारों में सड़क पर खड़ा किया था। इन मार्गो से अधिकारी भी गुजरते होंगे पर पुलिस की लापरवाही के चलते बेलगाम ट्रक चालक अपनी मनमानी कर ट्रक रोड पर ही पार्क कर देते हैं। इस वजह से हादसे होते हैं। वाहन खड़े करके चालक व परिचालक हो जाते हैं गायब

होशियारपुर फगवाड़ा रोड पर इंडस्ट्रीयल एरिया होने के कारण एक तो सारा दिन ट्रैफिक चलती है, दूसरी तरफ उसी मार्ग पर कई फैक्ट्रियों होने के कारण मजदूरों का आना-जाना लगा ही रहता है। महावीर स्पिनिंग मिल के पास देखा कि कुछ वाहन सड़क के बिल्कुल किनारे खड़े हैं, जब वाहन के अंदर झांक कर देखा तो न तो वाहन का चालक ही दिखाई दे रहा था और न ही परिचालक पास ही कुछ दुकानदारों से बात की तो उन्होंने बताया कि इन्ही ट्रकों की वजह से कोई न कोई हादसा होता ही रहता है और दूसरा उनके व्यापार पर भी असर पड़ता है। ट्रक चालक सड़क पर ही ट्रक खड़े करके सारा दिन गायब रहते है, क्योंकि फैक्ट्री से सामान रात को ही ट्रकों में भरा जाता है। बीच सड़क ही ट्रक खड़े करके कर रहे सामान की अदला-बदली

हैरानी तो उस समय हुई जब न्यू सब्जी मंडी के पास दो ट्रक बीच सड़क ही खड़े करके मजदूर एक दूसरे ट्रक से सामान एक ट्रक से दूसरे ट्रक में भर रहे थे और उन्हें ऐसे करने से न तो कोई पुलिस अधिकारी ही मौजूद था और न ही खुद दुकानदार ऐसा करने से रोक रहे थे।

उपर से पिछले तीन दिन से शहर और आसपास के इलाके में गहरी धुंध पड़ने लगी है जिससे शाम को ही विजिबिलिटी शून्य के बराबर हो जाती है, जिसके चलते दो ही दिन में कई भयानक हादसे हो गए है।

24 घंटे में तीन मौतें

गहरी धुंध के चलते होशियापुर बुल्लोवाल मार्ग पर गांव लाच्चोवाल के पास सड़क किनारे खड़े वाहन से एक स्कूटर सवार महिला टकरा कर बुरी तरह से घायल हो गई, जिसका आज भी इलाज चल रहा है तथा वह कोमा में है। दूसरा हादसा होशियारपुर जालंधर रोड पर गांव नसराला के पास सड़क किनारे खड़े ट्राले के साथ हुआ जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई। तीसरा हादसा होशियारपुर फगवाड़ा रोड पर गांव मरनाईयां के पास हुआ जिसमें एक पुलिस कर्मचारी के बेटे की मौत हो गई। होशियारपुर चौहाल भरवांई रोड पर गांव चोहाल के पास खड़े ट्रक के पीछे से टक्कर लगने से एक दंपति बूरी तरह से घायल हो गए।

अवैध रूप से पार्क ट्रकों को लिया जाएगा कब्जे में : ट्रैफिक इंचार्ज

ट्रैफिक इंचार्ज अजमेर सिंह से बात की तो उन्होंने बताया कि वह अभी चार पांच दिन पहले ही इंचार्ज बने है। आज ही सारे इलाके का दौरा करके एक बार सभी ट्रक चालकों को चेतावनी दी जाएगी अगर फिर भी नही माने तो चालान किया जाएगा और अगर फिर भी बात नही बनी तो ट्रक कब्जे में ले लिया जाएगा।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept