1992 में सबसे कम व 2017 में हुई सबसे अधिक वोटिंग

लोकतंत्र के महापर्व में सभी वोटरों की भागीदारी के लिए जिला प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है जबकि समाजसेवी संस्थाएं भी इसमें अहम रोल अदा कर रही हैं

JagranPublish: Fri, 28 Jan 2022 10:22 PM (IST)Updated: Fri, 28 Jan 2022 10:22 PM (IST)
1992 में सबसे कम व 2017 में हुई सबसे अधिक वोटिंग

मोहित गिल्होत्रा, फाजिल्का : लोकतंत्र के महापर्व में सभी वोटरों की भागीदारी के लिए जिला प्रशासन हर संभव प्रयास कर रहा है, जबकि समाजसेवी संस्थाएं भी इसमें अहम रोल अदा कर रही हैं, जिसका नतीजा है कि लगातार फाजिल्का में वोटिग प्रतिशत बढ़ रहा है। इसको लेकर चुनाव आयोग ने भी इस बार कई अहम कदम उठाए हैं। इस बार विधानसभा चुनाव में वोटिग का समय एक घंटा बढ़ाया गया है। 20 फरवरी को सुबह आठ से शाम छह बजे तक मतदान होगा। विधानसभा चुनाव में ऐसा पहली बार होगा कि शाम पांच बजे बाद भी वोटिग चलेगी, जिससे इस बार वोटिग प्रतिशत बढ़ने की संभावना है।

फाजिल्का विधानसभा क्षेत्र के अब तक के इतिहास की बात करें तो आजादी के बाद पहली बार 1972 में चुनाव हुए। तब जागरूकता ना होने के बावजूद 70 प्रतिशत वोटिग हुई और फाजिल्का को कांशी राम के रूप में पहला विधायक मिला, तब से लेकर अब तक 10 बार हुए चुनाव में वोटों को लेकर उतार चढ़ाव देखने को मिले हैं। भले ही शुरुआत 70 प्रतिशत से हुई, लेकिन इसके बाद 1977 में यह कम होकर साढ़े 66 प्रतिशत और 1980 में साढ़े 64 प्रतिशत से भी कम हो गई। हालांकि इसके बाद 1985 में एक दम से इसमें उछाल आया और इस साल 74.24 प्रतिशत लोगों ने वोटिग की। लेकिन 1992 ऐसा साल रहा, जब सबसे कम 59.85 लोगों ने ही इसमें भागेदारी आजमाई, लेकिन इसके बाद समय की सरकारों ने लोगों को वोट के हक का अधिक से अधिक इस्तेमाल करन की तरफ प्रेरित किया, जिसके चलते पिछले पांच सालों से लगातार वोटिग प्रतिशत बढ़ रहा है। अब तक सबसे ज्यादा 2017 में 87.07 प्रतिशत वोटिंग हुई, जबकि 2012 में भी 85.98 प्रतिशत लोगों ने वोट के हक का इस्तेमाल किया। इस साल मतदाताओं का आंकड़ा भी बढ़ा है और युवाओं की संख्या। इसलिए जिला प्रशासन लगातार लोगों को वोट का हक जरूर इस्तेमाल करने के लिए हर प्लेटफार्म पर जागरूक कर रहा है। जिससे यही उम्मीद है कि इस साल वोटिग का प्रतिशत पिछले सारे रिकार्ड तोड़ेगा।

लोकतंत्र के पर्व में वोट ही सबसे बड़ा अधिकार है। लोगों को बिना किसी भय व लालच के वोट का इस्तेमाल करना चाहिए। जो नौजवान 18 साल की उम्र पूरी कर चुके हैं। अब उनकी नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि वह अब अपनी वोट के अधिकार का प्रयोग करें। हर व्यक्ति को वोट डालनी चाहिए और योग्य नागरिक को वोट डालकर अपनी पसंद का योग्य उम्मीदवार चुनने का अधिकार रखना चाहिए।

-- बबीता कलेर, जिला चुनाव अधिकारी-कम डीसी कब कितने फीसद हुई वोटिंग

वर्ष कुल मतदाता पोलिग वोट प्रतिशत 1972 63,838 43,853 70.06 1977 67,248 44,320 66.56 1980 79,661 50,535 64.22 1985 88,207 62,368 74.24 1992 1,06,585 60,203 59.85 1997 1,19,160 91,879 78.12 2002 1,28,071 92,396 73.02 2007 1,40,446 1,11,814 79.61 2012 1,46,892 1,26,300 85.98 2017 1,64,322 1,43,073 87.07

इस बार फाजिल्का में कुल वोटर: 1,76,718 पुरूष: 92,465, महिलाएं: 84,246, 07 थर्ड जेंडर

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept