ओलिंपियन अंजुम मोदगिल ने अंकुश भारद्वाज के साथ लिए सात फेरे, कोविड के बीच सादगी से हुआ विवाह समारोह

ओलंपियन अंजुम मोदगिल और अंकुश भारद्वाज दोनों डीएवी कालेज–10 के स्टूडेंट रहे हैं। अंजुम मोदगिल मूल रूप से हिमाचल के ऊना जिले की ग्राम पंचायत धुसाड़ा की रहने वाली है वहीं अंकुश भारद्वाज हरियाणा के अंबाला जिले के हैं।

Pankaj DwivediPublish: Sun, 23 Jan 2022 11:09 AM (IST)Updated: Sun, 23 Jan 2022 11:21 AM (IST)
ओलिंपियन अंजुम मोदगिल ने अंकुश भारद्वाज के साथ लिए सात फेरे, कोविड के बीच सादगी से हुआ विवाह समारोह

विकास शर्मा, चंडीगढ़। अक्सर मेडल जीतकर सुर्खियों में रहने वाली ओलंपियन अंजुम मोदगिल ने शनिवार को बेहद सादगी भरे अंदाज में इंटरनेशनल शूटर अंकुश भारद्वाज के साथ सात फेरे लिए। सेक्टर – 37 के कम्युनिटी सेंटर में आयोजित इस शादी में कोविड–19 प्रोटोकाल का पूरी तरह से ध्यान रखा गया। शादी में 100 के लोगों ने हिस्सा लिया। जिसमें दोनों दुल्हा-दुल्हन के करीबी व नजदीकी रिश्तेदार शामिल थे। अंकुश और अंजुम के इस खास पल को यादगार बनाने के लिए उनके दोस्त व इंटरनेशनल शूटर अजीतेश कौशल, अर्जुन बबूता, अभिषेक राणा मौजूद रहे।

दोनों ने डीएवी कालेज में की साथ में पढ़ाई

ओलंपियन अंजुम मोदगिल और अंकुश भारद्वाज दोनों डीएवी कालेज–10 के स्टूडेंट रहे हैं। अंजुम मोदगिल मूल रूप से हिमाचल के ऊना जिले की ग्राम पंचायत धुसाड़ा की रहने वाली है, वहीं अंकुश भारद्वाज हरियाणा के अंबाला जिले के चुड़याली गांव के रहने वाले हैं। डीएवी में पढ़ते हुए इन दोनों ने पंजाब यूनिवर्सिटी का प्रतिनिधित्व करते हुए वर्ष -2016 बनारस में आयोजित आल इंडिया यूनिवर्सिटी गेम्स एक साथ खेली थी। अंकुश ने वर्ष 2008 पुणे में आयोजित यूथ कामनवेल्थ गेम्स में गोल्ड मेडल जीतकर देश का मान बढ़ाया था।

टोक्यो ओलिंपिक में मेडल जीतने से चूक गई थी अंजुम मोदगिल

टोक्यो ओलिंपिक के दौरान शूटिंग टीम के लिए पहला कोटा हासिल करने वाली अंजुम मोदगिल शानदार प्रदर्शन के बावजूद इस बड़े टूर्नामेंट में मेडल जीतने से चूक गई थी। टोक्यो ओलिंपिक में अंजुम मोदगिल 50 मीटर राइफल थ्री पोजिशन इवेंट में 15वें स्थान पर रही थी। वहीं 10 मीटर एयर राइफल मिक्सड इवेंट में अंजुम मोदगिल ने दीपक कुमार के साथ जोड़ी बनाकर 623.8 अंक हासिल करते हुए प्रतियोगिता में 18 वां स्थान पाया था।

यह भी पढ़ें - ये है भारत का इस्लामाबाद, 12 मकानों में था क्रांतिकारियों के छिपने का ठिकाना, नेता जी सुभाष चंद्र बोस जुड़ा है रोचक किस्सा

Edited By Pankaj Dwivedi

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept