पांच हजार एनआरआइज और रेजिडेंट्स विदेशों से लौटेंगे चंडीगढ़

दूसरे राज्यों से लेबर और रेजिडेंट्स के लौटने का सिलसिला जारी है।

JagranPublish: Fri, 08 May 2020 09:54 PM (IST)Updated: Sat, 09 May 2020 06:06 AM (IST)
पांच हजार एनआरआइज और रेजिडेंट्स विदेशों से लौटेंगे चंडीगढ़

जागरण संवाददाता, चंडीगढ़ : कोरोना महामारी इन दिनों चरम पर है। वहीं, दूसरे राज्यों से लेबर और रेजिडेंट्स के लौटने का सिलसिला जारी है। इस बीच पांच हजार एनआरआइज और चंडीगढ़ के रेजिडेंट्स वापस लौटना चाहते हैं। इनको वापस लाने की तैयारी प्रशासन ने शुरू कर दी है। एडवाइजर मनोज परिदा ने बताया कि करीब पांच हजार एनआरआइ और रेजिडेंट्स विदेशों से चंडीगढ़ बाई एयर लौटना चाहते हैं। डीआइजी शशांक आनंद को इसके लिए नोडल ऑफिसर नियुक्त किया गया है। वह एयरपोर्ट अथॉरिटी, होटल और ट्रैवल को लेकर कोऑर्डिनेट करेंगे। दिल्ली से चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट मोहाली लौटने और फिर उन्हें चंडीगढ़ के होटलों में 14 दिन क्वारंटाइन पीरियड तक ठहराने की व्यवस्था भी देखेंगे। एडवाइजर मनोज परिदा ने बताया कि लद्दाख और जेएंडके यूनियन टेरीटरी से 700 लोगों को बसों के द्वारा भेजा गया है। इन अथॉरिटी के साथ सभी जरूरी कोऑर्डिनेशन किया गया है। प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने कहा कि जो लोग विदेश से चंडीगढ़ आ रहे हैं, उनको लेकर स्क्रीनिग जैसी सभी जरूरी सावधानियां बरती जानी चाहिए। क्वारंटाइन के दौरान इन्हें चंडीगढ़ के होटलों में रखा जाए। प्रशासन इनके स्वास्थ्य और इंफेक्शन की आशंका पर भी नजर बनाए रखे। बापूधाम के सभी रेजिडेंट्स का होगा टेस्ट

बापूधाम में पूरी की पूरी फैमिली संक्रमित मिल रही है। संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन कई बार स्क्रीनिग कर चुका है लेकिन यह रुकने का नाम नहीं ले रहा। कोरोना चेन टूट ही नहीं रही है। इसको देखते हुए अब बापूधाम के सभी रेजिडेंट्स का कोरोना टेस्ट करना जरूरी हो गया है। हेल्थ डिपार्टमेंट इसकी तैयारियों में लगा है। प्रशासक बदनौर ने कहा कि प्रशासन का फोकस बापूधाम और सेक्टर-30बी जैसे एरिया पर होना चाहिए। बड़े स्तर पर टेस्टिंग स्क्रीनिग करें जिससे संक्रमण का समय रहते पता चल सके। बदनौर ने सभी हॉस्पिटल के हेड से मीटिग कर हालात को रिव्यू किया। उन्होंने स्टाफ के सभी सदस्य को जरूरी सुरक्षा उपकरण की उपलब्धता सुनिश्चित करने के आदेश दिए। उन्होंने डीसी को आदेश दिए कि जो राज्य अपने लोगों को बुलाना चाहते हैं, उनसे कोऑर्डिनेशन किया जाए। सेक्टर-48 हॉस्पिटल को करो तैयार

केस बढ़ते देख अब प्रशासक ने जीएमसीएच-32 के डायरेक्टर प्रिसिपल डॉ. बीएस चवन को सेक्टर-48 के नए बने हॉस्पिटल को तैयार करने के आदेश दिए हैं। इसको कोरोना के लिहाज से सुविधापूर्ण बनाना होगा। जिससे ज्यादा केस आने पर उन्हें सेक्टर-48 भेजा जा सके। प्रिसिपल सेक्रेटरी होम एके गुप्ता ने बताया कि 2500 लोगों को होम क्वारंटाइन किया गया है। जबकि पीजीआइ के 300 डॉक्टर और हेल्थ वर्कर भी यह सुविधा ले रहे हैं।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept