जीरकपुर के वार्ड-1 का हाल : टूटी सड़कें, नहीं आता पानी

पहले वार्ड नंबर-31 हुआ करता था में लोग कई परेशानियों से जूझ रहे हैं।

JagranPublish: Mon, 17 Aug 2020 09:11 PM (IST)Updated: Mon, 17 Aug 2020 09:11 PM (IST)
जीरकपुर के वार्ड-1 का हाल : टूटी सड़कें, नहीं आता पानी

जागरण संवाददाता, जीरकपुर : जीरकपुर का वार्ड नंबर-1, जोकि पहले वार्ड नंबर-31 हुआ करता था, में लोग कई परेशानियों से जूझ रहे हैं। यहां ड्रेनेज से लेकर टूटी सड़कों तक से लोग परेशान हैं। बरसात के दिनों में यहां कई-कई फुट पानी खड़ा हो जाता है, जिस कारण लोगों का अपने घरों तक से निकलना मुश्किल हो जाता है। नगर परिषद के चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे कांग्रेस नेता प्रताप सिंह राणा रविदरा एन्क्लेव-1 में रहते हैं। उन्होंने एक गंभीर मुद्दे पर जागरण टीम से बात करते कहा कि जब चुनाव आते हैं, तो यहां के विधायक एनके शर्मा लोगों को भ्रमित करते हैं, यहां पर कजौली वाटर व‌र्क्स का पानी लेकर आएंगे, लेकिन चुनाव होते ही वह इस अहम मुद्दे को भूल जाते हैं। विधायक शर्मा अब यह बोल रहे हैं कि कांग्रेस सरकार यह काम नहीं होने दे रही, लेकिन पिछले 10 साल यहां अकाली सरकार थी, कमेटी में उनके लोग शामिल थे, उस समय वह यह मता क्यों नहीं लेकर आए। यह समस्या केवल बलटाना, ढकौली की नहीं, बल्कि पूरे जीरकपुर की है। विधायक का कहना है कि यहां सभी अनप्लांड कॉलोनियां हैं, जहां काफी काम करना बाकी है, लेकिन प्रताप राणा का कहना है कि यहां लोग मूलभूत समस्याओं से जूझ रहे हैं, उसे ही पूरा नहीं कर पा रहे, तो ऐसे में झूठे वादे करने का क्या फायदा। ट्यूबवेल से पहुंच रहा लोगों को पानी

यहां के लोगों को नहरी पानी नहीं मिल रहा, चार लाख के करीब आबादी को ट्यूबवेल के जरिये पानी सप्लाई किया जा रहा है। अपने निजी हित देखकर काम किया है, लोगों के हितों की परवाह तक नहीं की। इस वार्ड में ड्रेनेज सिस्टम नहीं है और लोगों को गर्मियों में पीने के पानी की सप्लाई तक नहीं पहुंच रही। प्रताप राणा ने खुद के खर्च से अपने वार्ड में एलईडी लाइटें लगाई हैं। लेकिन ड्रेनेज न होने से बरसाती दिनों में लोगों को बहुत परेशानी उठाती पड़ती है।

-हरविदर सिंह, स्थानीय निवासी गलत प्लानिग की वजह से नहीं हुआ डेवलप

पंजाब, हरियाणा, हिमाचल का गेटवे है जीरकपुर, जोकि गुरुग्राम से ज्यादा डेवलप हो सकता था, लेकिन गलत प्लानिग की वजह से ऐसा नहीं हुआ। अगर जीरकपुर फ्लाईओवर को सही तरीके से डिजाइन किया होता तो यहां रोजाना लगने वाले जाम का दंड जीरकपुर-बलटाना के लोग न भुगत रहे होते। अपने शोरूम व प्रॉपर्टी को नुकसान से बचाने के लिए फ्लाईओवर को सीधा चंडीगढ़ से जोड़ दिया, जबकि इस फ्लाईओवर को शिमला व पटियाला से जोड़ा जाना था। यही गलती लंबे जाम की वजह बन रही है।

-अमनदीप हुंदल, स्थानीय निवासी रेलवे फाटक बन रहा है अड़चन

गांव रायपुर कलां के पास रेलवे फाटक है, जहां स्कूल के छोटे-छोटे बच्चों सहित बसें तक फाटक में फंस जाती हैं। जिस कारण लोगों को कई-कई घंटे वहां रुकना पड़ता है। अकाली विधायक को इस समस्या के बारे में कई बार बताया गया है, लेकिन समाधान नहीं हुआ। विधायक कहते हैं भट्ठे वाले ने स्टे ले रखी है, लेकिन जब पता किया तो कोई स्टे नहीं थी। प्रताप राणा चार दिन वहां अनशन पर बैठे, जिसके बाद प्रशासन ने इस मामले को पाइपलाइन में डाल दिया है। जिसका जल्द समाधान होगा।

-गिप्पी, स्थानीय निवासी विधायक को नजर आ रही है हार

विधायक एनके शर्मा ने वार्ड में कोई काम तो करवाया नहीं, लेकिन नगर परिषद के चुनाव रुकवाने के लिए कोर्ट का सहारा ले लिया। उन्हें अब अपनी हार नजर आ रही है, जिस कारण ऐसा कदम उठाया गया है। अगर उन्हें अपनी जीत पर पहले जैसा भरोसा होता, तो वह न्यायालय का सहारा नहीं लेते। पहले भी वार्ड में झूठे वायदे करके गए थे, लेकिन इस बार उन्हें चुनाव में जवाब देंगे।

-इमरान खान, स्थानीय निवासी

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept