चंडीगढ़ में बढ़ा कोरोना का खतरा, हेल्थ डिपार्टमेंट ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर, कोविड लक्षण हैं तो करें कॉल

शहर में साउथ अफ्रीका से आए एक व्यक्ति के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद शहरवासियों के साथ स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है। नए वेरिएंट ओमिक्रॉन का खतरा शहर में मंडराने लगा है। संक्रमित व्यक्ति उसकी पत्नी और नौकर के सैंपल जांच के लिए दिल्ली भेजे गए हैं।

Ankesh ThakurPublish: Wed, 01 Dec 2021 12:33 PM (IST)Updated: Wed, 01 Dec 2021 12:33 PM (IST)
चंडीगढ़ में बढ़ा कोरोना का खतरा, हेल्थ डिपार्टमेंट ने जारी किया हेल्पलाइन नंबर, कोविड लक्षण हैं तो करें कॉल

जागरण संवाददाता, चंडीगढ़। कोरोना महामारी एक बार फिर से जोर पकड़ने लगी है। कोरोना के केस अब लगातार बढ़ रहे हैं। अब जरा सा बीमार होने पर भी लोगों को अगर किसी को कोविड के लक्षण या संकेत लगें तो वह हेल्पलाइन नंबर 9779558282 पर संपर्क कर सकते हैं। हेल्थ डिपार्टमेंट की टीम इसके बाद संपर्क कर टेस्ट कराएगी। हेल्थ डिपार्टमेंट ने लोगों से आग्रह किया है कि अगर किसी को कोई भी लक्षण इस तरह के लगते हैं तो वह खुद भी नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर चैक करा सकते हैं। प्रशासन ने लोगों से आग्रह किया है कि भीड़ वाली जगहों से बचें। मास्क पहनें उचित दूरी रखें। खुले में न थूकें। गैर जरूरी कहीं भी जाने से बचा जाए। भीड़ का हिस्सा न बनें।

वहीं, शहर में साउथ अफ्रीका से आए एक व्यक्ति के कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद शहरवासियों के साथ स्वास्थ्य विभाग की चिंता बढ़ गई है। कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन का खतरा शहर में मंडराने लगा है। हालांकि अभी उक्त संक्रमित व्यक्ति और उसकी पत्नी और नौकर के सैंपल जांच के लिए दिल्ली भेजे गए हैं। उनकी रिपोर्ट आना अभी बाकि है।

संक्रमण के खतरे को देखते हुए प्रशासन ने सख्ती बढ़ा दी है। एस्टेब्लिशमेंट ब्रांच ने सभी सेक्रेटरी और हेड ऑफ डिपार्टमेंट को आदेश जारी कर कहा है कि केवल उन्हीं इंप्लाइज और विजिटर्स की सरकारी कार्यालय में एंट्री करना सुनिश्चित करें जो कोविड की कम से कम एक वैक्सीनेशन डोज लगवा चुके हैं या फिर 72 घंटे पहले की आरटीपीसीआर निगेटिव रिपोर्ट दिखाएं। यह रिपोर्ट और सर्टिफिकेट मोबाइल फोन या आरोग्य सेतू एप में भी दिखा सकते हैं। प्रशासन ने सभी से तुरंत वैक्सीनेशन कराने के लिए कहा है।

----

"अभी तक जो टेस्ट उपलब्ध हैं उन सभी से कोरोना के नए वेरिएंट को पकड़ा जा सकता है। फिर चाहे वह रियल टाइम पीसीआर टेस्ट हो या फिर रैपिड एंटिजन टेस्ट दोनों ही कोरोना के सभी वेरिएंट का पता लगा सकते हैं।

                                                   -प्रो. मिनी पी. सिंह, नोडल अधिकारी, कोविड-19 टेस्टिंग, पीजीआइ।

Edited By Ankesh Thakur

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept