कोरोना जैसी बीमारियों पर अब चंडीगढ़ में होगा शोध, जीएमसीएच-32 में बनेगा एडवांस सेंटर फॉर इन्फेक्शियस डिजीज

ऐसे में जीएमसीएच-32 में संक्रामक रोगों के लिए एक अत्याधुनिक एडवांस सेंटर फॉर इंफेक्शियस डिजिज बनने जा रहा है। इस सेंटर में कोरोना जैसे जानलेवा संक्रमण से बचाव के तरीकों पर काम होगा। संक्रमण से लोगों को कैसे सुरक्षित रखा जाए इस पर काम होगा।

Ankesh ThakurPublish: Fri, 28 Jan 2022 09:58 AM (IST)Updated: Fri, 28 Jan 2022 09:58 AM (IST)
कोरोना जैसी बीमारियों पर अब चंडीगढ़ में होगा शोध, जीएमसीएच-32 में बनेगा एडवांस सेंटर फॉर इन्फेक्शियस डिजीज

विशाल पाठक, चंडीगढ़। कोरोना वायरस जैसे संक्रमण वाली बीमारियों पर अब चंडीगढ़ में ही शोध होगा। चंडीगढ़ प्रशासन की ओर से गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल (जीएमसीएच-32) में एडवांस सेंटर फॉर इन्फेक्शियस डिजीज बनाने की घोषणा की गई है। उत्तर भारत में या मात्र एक ऐसा सेंटर होगा जहां संक्रमण की रोकथाम और उस पर शोध होगा। कोरोना वायरस जैसे संक्रमण पर इस सेंटर में शोध किया जाएगा और उससे लोगों को कैसे सुरक्षित रखा जाए या संक्रमण कितना घातक है, यह किस प्रजाति और क्या इस संक्रमण के आगे संक्रमण बढ़ सकता है, इसको लेकर इस सेंटर में शोध किया जाएगा। कोविड-19 जैसे संक्रामक रोगों को प्रबंधन समय की मांग है। नए वायरस और उसके म्यूटेशन को पता लगाने के लिए इस प्रकार के सेंटर का होना बेहद आवश्यक है।

ऐसे में जीएमसीएच-32 में संक्रामक रोगों के लिए एक अत्याधुनिक एडवांस सेंटर फॉर इंफेक्शियस डिजिज बनने जा रहा है। इस सेंटर में कोरोना जैसे जानलेवा संक्रमण से बचाव के तरीकों पर काम होगा।

जीएमसीएच 32 में प्रशासन की ओर से 270 बेड का मदर एंड चाइल्ड केयर सेंटर का निर्माण कार्य लगभग पूरा कर लिया है जो कि जल्द ही शुरू कर दिया जाएगा मदर एंड चाइल्ड केयर सेंटर में गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं को बेहतरीन साथ सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। नवजात के पैदा होने के दौरान उसे किसी और ने प्रकार की बीमारी से कोई खतरा न हो और गर्भवती महिलाओं को बेहतर इलाज मिल सके इस मदर एंड चाइल्ड केयर सेंटर में यह सभी सुविधाएं उपलब्ध होंगी।

शहर की सभी डिस्पेंसरी की गई अपग्रेड

स्वास्थ्य विभाग की ओर से शहर की सभी डिस्पेंसरी यों को नई स्वास्थ्य सुविधाओं से लैस कर अपग्रेड कर दिया गया है डिस्पेंसरी में नई सुविधाएं जैसे ओपीडी सर्जरी और कई प्रकार की जांच सुविधाएं उपलब्ध है। इसके अलावा डिस्पेंसरी ओ को ईसंजीवनी और टेलीकंसल्टेशन के जरिए जोड़कर लोगों के घर तक डिस्पेंसरी के माध्यम से पीजीआई जीएमसीएच 32 जीएमसीएच 16 के वरिष्ठ डाक्टरों का परामर्श भी उपलब्ध कराया जा रहा है।

Edited By Ankesh Thakur

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम