किसान आंदोलन की सफलता में महिलाओं की भूमिका अहम : पंधेर

किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब महासचिव सरवन सिंह पंधेर ने कहा कि कृषि कानूनों को रद करवाने के लिए चले दिल्ली आंदोलन में महिलाओं की भूमिका विशेष रही है।

JagranPublish: Wed, 19 Jan 2022 07:01 PM (IST)Updated: Wed, 19 Jan 2022 07:01 PM (IST)
किसान आंदोलन की सफलता में महिलाओं की भूमिका अहम : पंधेर

जागरण संवाददाता, अमृतसर : किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब महासचिव सरवन सिंह पंधेर ने कहा कि कृषि कानूनों को रद करवाने के लिए चले दिल्ली आंदोलन में महिलाओं की भूमिका विशेष रही है। अगर महिलाओं का सहयोग न रहता तो किसानों के लिए आंदोलन को लंबा चलाया जाना मुश्किल था। किसानों और किसान महिलाओं के सांझा संघर्ष ने ही सरकार को कृषि कानून रद करवाने के लिए मजबूर किया है। पंधेर महिलाओं की एक कांफ्रेंस के दौरान संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को आयोजित किए जाने वाली फतेह कांफ्रेंस में भी महिलाओं को बड़ी संख्या में शामिल होने की अपील की।

पंधेर की ओर से चार जोनों मजीठा, कत्थूनंगल, बाबा बुड्ढा, कत्थूनंगल, टाहली साहिब की महिलाओं को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आज पुरानी राजनीतिक पार्टियां सत्ता के लालच में आम लोगों से झूठे वादे करके गुमराह कर रही है। इसके लिए 26 जनवरी को जंडियाला गुरु अनाज मंडी में आयोजित की जाने वाली कांफ्रेंस पंजाब की राजनीति में एक इतिहास स्थापित करेगी।

किसान नेता गुरबचन सिंह चब्बा, रणजीत सिंह कलेरबाला ने कहा कि आज कुछ शक्तियां पंजाब की भाईचारक सांझ को तोड़ने में लगी हुई हैं, जिसको किसी भी तरह पंजाब के इंकलाबी लोग सफल नही होंगे देंगे।

इस मौके पर किसान नेताओं बलदेव सिहाना बग्गा, बीबी रूपिदर कौर, बीबी जसविदर कौर, बीबी कुलवंत कौर, मुख्तार सिंह, सविदर सिंह रूपोवाली, गुरभेज सिंह, कंधार सिंह, किरपाल सिंह, सरबनिरंजन सिंह, मेजर सिंह, टेक सिंह, सुखदेव सिंह, गोपाल सिंह आदि मौजूद थे।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept