मजीठिया ने मुझे, मुख्यमंत्री को दी थीं धमकियां : रंधावा

ड्रग तस्करी में नामजद पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया और पंजाब सरकार के बीच चल रहे द्वंद्व के बीच उपमुख्यमंत्री सुखजिदर सिंह रंधावा ने तीखा हमला किया है।

JagranPublish: Tue, 25 Jan 2022 07:29 PM (IST)Updated: Tue, 25 Jan 2022 07:41 PM (IST)
मजीठिया ने मुझे, मुख्यमंत्री को दी थीं धमकियां : रंधावा

जासं, अमृतसर: ड्रग तस्करी में नामजद पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया और पंजाब सरकार के बीच चल रहे द्वंद्व के बीच उपमुख्यमंत्री सुखजिदर सिंह रंधावा ने तीखा हमला किया है। यहां पत्रकार वार्ता में रंधावा ने कहा कि हाई कोर्ट से अंतरिम जमानत मिलने के बाद बिक्रम मजीठिया ने उन्हें, मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी सहित पुलिस अधिकारियों को धमकियां दी थीं। ड्रग तस्करी में शामिल एक नेता जिस पर एफआइआर दर्ज हो, सशर्त अंतरिम जमानत मिली हो, वह खुलेआम चैलेंज कर रहा है। लाखों माओं की अरदास से जमानत मिलने की बात कहने वाला मजीठिया बताए कि जो हजारों नौजवान नशे की भेंट चढ़ गए, क्या उनकी माओं की हाय नहीं लगेगी? अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल ने तो न्यायिक प्रणाली पर ही सवाल खड़े किए थे।

रंधावा ने कहा कि पंजाब में 2008 से पहले किसी ने चिट्टे और माफिया का नाम नहीं सुना था। जब मजीठिया की सरकार में दस्तक हुई तब चिट्टा बिकने लगा, ट्रांसपोर्ट, केबल माफिया और कई माफिया सक्रिय हो गए। रंधावा ने कहा कि अकाली दल की डोर जब प्रकाश सिंह बादल के हाथ में थी तब अकाली दल और कांग्रेस में कभी कड़वाहट नहीं घुली। मेरे पिता संतोख सिंह रंधावा और प्रकाश सिंह बादल विपक्ष में बैठते थे, पर कभी विवाद नहीं हुआ। यह कड़वाहट तब पनपी जब क्रूर जनरल डायर को सम्मानित करने वाले मजीठिया परिवार के बिक्रम सिंह मजीठिया की अकाली दल में एंट्री हुई। तभी से अकाली दल का विनाश शुरू हो गया। रंधावा ने कहा कि प्रकाश सिंह बादल ने जेल काटीं। आज भी मेरे मुंह से भी उनके लिए सम्मानजनक शब्द निकलते हैं, पर मेरा ख्याल है कि यदि सुखबीर बादल को आगे न लाते तो अकाली दल का यह हाल न होता।

कांग्रेस का सीएम फेस बनने के सवाल पर रंधावा ने कहा कि वह सिर्फ होम मिनिस्टर ही रहना चाहते हैं और पंजाब से सुखबीर व मजीठिया का गुंडाराज खत्म करना चाहते हैं। प्रदेश कांग्रेस का प्रधान बनाया जाए तो बेहतर होगा। लोकसभा सदस्य गुरजीत सिंह औजला ने कहा कि मजीठिया ने धमकी भरे लहजे में डीजीपी, गृह मंत्री व अधिकारियों को चेतावनी दी थी। मजीठिया पर दर्ज केस राजनीति से प्रेरित नहीं बल्कि नशे के सौदागरों पर नकेल कसी गई है। पाकिस्तान वाली को घर में रखते हैं कैप्टन

रंधावा ने कहा कि सिद्धू के साथ कोई नाराजगी नहीं है। उनके पिता और मेरे पिता दोस्त थे। सिद्धू के पाकिस्तान संबंधों पर रंधावा ने कैप्टन अमरिदर सिंह पर पलटवार किया। कहा- कैप्टन पाकिस्तानी वाली को अपने घर रखते हैं। साथ ही सिद्धू की ओर से दिए जा रहे पंजाब माडल पर उन्होंने कहा कि मैं पंजाब माडल नहीं, कांग्रेस माडल का हिमायती हूं। कैप्टन और कुंवर आपसे में मिले थे

पूर्व आइपीएस कुंवर विजय प्रताप पर हमला करते हुए रंधावा ने कहा कि बहिबला कलां प्रकरण में कुंवर ने राजनीति चमकाई। उनको जवाब देना होगा कि उन्होंने दसवां चालान क्यों पेश नहीं किया। कुंवर कहते थे कि वह सीधे मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदर से ही बात करेंगे। चालान पेश न करने से साफ है कि कैप्टन और कुंवर आपस में मिले थे।

Edited By Jagran

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept