This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

कोरम के अभाव में विदेश मामलों पर संसद की स्थायी समिति की बैठक टली

अध्यक्ष पीपी चौधरी समेत केवल तीन सांसद ही शुक्रवार को बैठक में पहुंचे थे। बैठक में उपस्थित दो अन्य सांसद केजे अल्फोंस और एसडी गुप्ता थे।

Bhupendra SinghFri, 17 Jul 2020 07:17 PM (IST)
कोरम के अभाव में विदेश मामलों पर संसद की स्थायी समिति की बैठक टली

नई दिल्ली, एएनआइ। विदेश मामलों पर संसद की स्थायी समिति की बैठक टाल दी गई। कोरम पूरा नहीं होने के कारण संसद भवन में होने वाली बैठक टाली गई।

अध्यक्ष पीपी चौधरी समेत केवल तीन सांसद ही बैठक में पहुंचे थे

सूत्रों ने कहा कि अध्यक्ष पीपी चौधरी समेत केवल तीन सांसद ही शुक्रवार को बैठक में पहुंचे थे। बैठक में उपस्थित दो अन्य सांसद केजे अल्फोंस और एसडी गुप्ता थे। दोनों राज्यसभा के सदस्य हैं।

विदेश मामलों पर संसदीय समिति में कुल 31 सदस्य हैं

शुक्रवार की बैठक के एजेंडे में 'अनिवासी भारतीयों के विवाह का पंजीकरण 2019' पर रिपोर्ट के मसौदे को मंजूरी देना था। इस संसदीय समिति में कुल 31 सदस्य हैं जिनमें से लोकसभा के 22 और राज्यसभा के नौ हैं।

राज्यसभा के नए निर्वाचित सदस्यों को 22 जुलाई को शपथ दिलाई जाएगी। सभापति के कक्ष में पहली बार अंतर सत्र के दौरान ये सभी शपथ लेंगे। वहीं दूसरी तरफ राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने संसद के आगामी मानसून सत्र के दौरान उच्च सदन की कार्यवाही आयोजित करने के लिए विभिन्न विकल्पों को लेकर अधिकारियों के साथ चर्चा की। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, शपथ ग्रहण समारोह के लिए राज्यसभा के 61 सदस्यों को पत्र भेजे गए हैं।

जानकारी के लिए बता दें कि भारतीय संसद में दो सदन हैं पहला लोकसभा और दूसरा राज्यसभा। राज्यसभा संसद का ऊपरी सदन कहा जाता है। बता दें कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 80 के मुताबिक राज्यसभा में सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 निर्धारित की गई है। इनमें से 12 वो सदस्य होते हैं जिन्हें स्वयं भारत के राष्ट्रपति मनोनीत या नामित करते हैं। इसके अलावा बाकी बचे 238 सदस्यों को संघ और राज्य के प्रतिनिधि चुनते हैं।

Edited By: Bhupendra Singh