जी-23 नेताओं को खुर्शीद का खुला पत्र, कहा- जिस सीढ़ी पर चढ़कर ऊंचे मुकाम पर पहुंचे, क्या उसे गिराना सही है

पूर्व केंद्रीय मंत्री खुर्शीद ने कहा है कि असंतुष्ट नेताओं को इस पर चिंता करने की बजाय कि उन्हें क्या मिला कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ मिलकर पार्टी के सामान्य कार्यकर्ताओं को दिखाना चाहिए कि वर्तमान में अंधेरे से निकलकर रोशनी में कैसे पहुंचना है।

Bhupendra SinghPublish: Thu, 04 Mar 2021 01:09 AM (IST)Updated: Thu, 04 Mar 2021 01:09 AM (IST)
जी-23 नेताओं को खुर्शीद का खुला पत्र, कहा- जिस सीढ़ी पर चढ़कर ऊंचे मुकाम पर पहुंचे, क्या उसे गिराना सही है

नई दिल्ली, प्रेट्र। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सलमान खुर्शीद ने समूह 23 के नेताओं को खुला पत्र लिखकर पूछा है कि क्या वह पाला बदलने का विचार कर रहे हैं। इसके साथ ही खुर्शीद ने असंतुष्ट नेताओं से सवाल किया कि जिस सीढ़ी पर चढ़कर वे जिंदगी के सबसे ऊंचे मुकाम पर पहुंचे हैं, क्या उसे गिराना सही है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री खुर्शीद ने कहा- सही स्थान तलाशने के बजाय चिंतन करना चाहिए

पूर्व केंद्रीय मंत्री खुर्शीद ने इन नेताओं से कहा है कि उन्हें वर्तमान में सही स्थान तलाशने के बजाय इस पर चिंतन करना चाहिए कि इतिहास उन्हें कैसे याद रखेगा। जम्मू में गुलाम नबी आजाद के नेतृत्व में जी-23 नेताओं द्वारा सार्वजनिक तौर पर आक्रोश का प्रदर्शन करने के बाद खुर्शीद का यह बयान आया है।

खुर्शीद ने कहा- कार्यकर्ताओं को दिखाएं कि अंधेरे से निकलकर रोशनी में कैसे पहुंचना है

उन्होंने कहा कि असंतुष्ट नेताओं को इस पर चिंता करने की बजाय कि उन्हें क्या मिला, कांग्रेस के अन्य नेताओं के साथ मिलकर पार्टी के सामान्य कार्यकर्ताओं को दिखाना चाहिए कि वर्तमान में अंधेरे से निकलकर रोशनी में कैसे पहुंचना है। खुर्शीद ने कहा कि बलिदान के साथ सफलता मिलेगी ही यह जरूरी नहीं होता।

Edited By Bhupendra Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept