This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

पेगासस जासूसी मामले की छत्तीसगढ़ सरकार करेगी जांच, चार सदस्यीय जांच कमेटी का किया गठन

पेगासस जासूसी मामले में छत्तीसगढ़ के कनेक्शन की अब जांच होगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को मीडिया से चर्चा में कहा कि छत्तीसगढ़ में भी कुछ लोगों की जासूसी हुई है। इसकी जांच होनी चाहिए। पेगासस जासूसी मामले में मुख्यमंत्री ने चार सदस्यीय जांच कमेटी बनाई है।

Arun Kumar SinghWed, 21 Jul 2021 09:45 PM (IST)
पेगासस जासूसी मामले की छत्तीसगढ़ सरकार करेगी जांच, चार सदस्यीय जांच कमेटी का किया गठन

 रायपुर, राज्य ब्यूरो। पेगासस जासूसी मामले में छत्तीसगढ़ के कनेक्शन की अब जांच होगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बुधवार को मीडिया से चर्चा में कहा कि छत्तीसगढ़ में भी कुछ लोगों की जासूसी हुई है। इसकी जांच होनी चाहिए। यह प्रजातांत्रिक देश है। पेगासस जासूसी मामले में मुख्यमंत्री ने चार सदस्यीय जांच कमेटी बनाई है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा, पेगासस के लोग आए थे छत्तीसगढ़, कुछ लोगों से भी मिले थे

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह बात सामने आई है कि पेगासस बनाने वाले कंपनी के लोग छत्तीसगढ़ आए थे और कुछ लोगों से मिले थे। उन्होंने कहा कि पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह को बताना चाहिए कि वे किनसे मिले थे और किस तरह की डील हुई थी। भूपेश ने कहा कि वो (पेगासस) कह रहे हैं कि भारत सरकार को सेवाएं देते हैं। भारत सरकार को बताना चाहिए कि उनसे डील हुई या नहीं हुई। मंत्रियों, विपक्ष के नेता और पत्रकारों की जासूसी करा रहे हैं। सामाजिक कार्यकर्ताओं की जासूसी करा रहे हैं। आखिर उद्देश्य क्या था? ये तो पूरे देश को जानने का हक है। आखिर उनसे डील हुई कि नहीं हुई।

पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन को निशाने पर लेते हुए कहा- किस तरह की डील हुई है, बताना चाहिए

मुख्यमंत्री बघेल ने सवाल किया कि दूसरे देशों में जांच हो रही है, यहां क्यों नहीं होनी चाहिए। यह तो प्रजातांत्रिक देश है। इससे पहले मुख्यमंत्री ने ट्वीट करके सवाल किया। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार के समय पेगासस के लोग छत्तीसगढ़ भी आए थे। हमने उसकी जांच शुरू की है। पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह को बताना चाहिए कि किससे डील हुई?

सरकार की चार सदस्यीय टीम करेगी जांच

पेगासस जासूसी मामले की जांच के लिए सरकार ने अपर मुख्य सचिव गृह की अध्यक्षता में चार सदस्यीय कमेटी बनाई गई है। इसमें पुलिस महानिदेशक, आइजी इंटेलिजेंस और जनसंपर्क आयुक्त शामिल हैं।

बेडरूम-बाथरूम की बात भी सुन सकती है मोदी सरकार

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम ने राजीव भवन में आयोजित पत्रकारवार्ता में कहा कि मोदी सरकार किसी के भी मोबाइल के अंदर नाजायज तौर से इजरायली साफ्टवेयर पेगासस डाल सकती है। आपकी बेटी, आपकी पत्नी के मोबाइल के अंदर यह हो सकता है। आप अगर बाथरूम में फोन लेकर जा रहे हैं, आपके बेडरूम में फोन है तो आप क्या बात क्या कर रहे हैं, सब कुछ मोदी सरकार सुन सकती है। अब लोग कहने लगे हैं कि अबकी बार देशद्रोही जासूस सरकार..। भाजपा का नाम अब भारतीय जासूस पार्टी हो गया पेगासस जासूसी मामले की छत्तीसगढ़ सरकार करेगी जांच

चार साल बाद आई याद, हर जांच को तैयार: रमन

पूर्व मुख्यमंत्री डा. रमन सिंह ने कहा कि सरकार को चार साल बाद जासूसी की याद आ रही है। पेगासस मामले में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष मोहन मरकाम को मेरी खुली चुनौती है। उनकी सरकार है, जो जांच कराना चाहें, करा लें। मुख्यमंत्री अब तक सो रहे थे, जो चार साल बार उन्हें अचानक सब याद आया। कांग्रेस के हाथ गंदगी से सने हुए हैं, इसलिए हमेशा तथ्यहीन, झूठे और अनर्गल आरोप मढ़ती है।