भाजपा ने कहा- लोकतंत्र नहीं, कांग्रेस का भ्रष्ट्राचार तंत्र है खतरे में; अगर राहुल व सोनिया गांधी निर्दोष हैं तो डर क्यों रहे

राहुल गांधी पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा कि संसद के दोनों सदनों में महंगाई पर चर्चा हो चुकी है। ऐसे में राहुल गांधी सरकार पर महंगाई और बेरोजगारी पर नहीं बोलने देने का आरोप कैसे लगा सकते हैं।

Dhyanendra Singh ChauhanPublish: Fri, 05 Aug 2022 09:16 PM (IST)Updated: Fri, 05 Aug 2022 09:16 PM (IST)
भाजपा ने कहा- लोकतंत्र नहीं, कांग्रेस का भ्रष्ट्राचार तंत्र है खतरे में; अगर राहुल व सोनिया गांधी निर्दोष हैं तो डर क्यों रहे

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्र सरकार पर राहुल गांधी के हमले का भाजपा ने तीखा प्रतिकार किया है। भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने राहुल गांधी के 'लोकतंत्र खतरे में है' के आरोप पर कहा कि लोकतंत्र नहीं, कांग्रेस का भ्रष्टाचार तंत्र खतरे में आ गया है। राहुल गांधी के सच बोलने के दावे पर तंज कसते हुए उन्होंने जमानत पर बाहर होने की सच्चाई देश को बताने की चुनौती दी। सूचना व प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कांग्रेस के धरना प्रदर्शन को सरकार और जांच एजेंसियों पर दबाव बनाने की कोशिश करार दिया। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के अंदर छटपटाहट है कि परिवार को कैसे बचाएं। अगर राहुल और सोनिया निर्दोष हैं तो फिर डर क्यों रहे हैं।

राहुल गांधी पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए रविशंकर प्रसाद ने कहा कि संसद के दोनों सदनों में महंगाई पर चर्चा हो चुकी है। ऐसे में राहुल गांधी सरकार पर महंगाई और बेरोजगारी पर नहीं बोलने देने का आरोप कैसे लगा सकते हैं। महंगाई और बेरोजगारी तो सिर्फ बहाना है, असल उद्देश्य तो ईडी को धमकाना और परिवार को बचाना है। भ्रष्टाचार के खिलाफ मोदी सरकार की कार्रवाई से कांग्रेस को परेशानी हो रही है। मोदी सरकार ने बिचौलियों के लिए दरवाजे पूरी तरह से बंद कर दिए हैं।

परिवार की जेब में जा रही अब कांग्रेस की संपत्ति

सोनिया गांधी और राहुल गांधी के 76 प्रतिशत शेयर वाले यंग इंडिया के एसोसिएटेड जर्नल लिमिटेड (एजेएल) की पांच हजार करोड़ की संपत्तियों के जाने का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी परिवार की जेब में है, उसके नेता परिवार की जेब में हैं और अब कांग्रेस की संपत्ति भी परिवार की जेब में जा रही है।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी को देश को बताना चाहिए कि वे किस मामले में जमानत पर हैं। उनके अनुसार नेशनल हेराल्ड का केस मोदी सरकार के सत्ता में आने के पहले का है। इसमें सोनिया गांधी और राहुल गांधी पर लगे आरोपों को अदालत ने न सिर्फ स्वीकारते हुए समन जारी कर दिया, बल्कि इसे धोखाधड़ी और सार्वजनिक संपत्ति को हड़पने का स्पष्ट केस भी बताया। हाईकोर्ट और सुप्रीम कोर्ट ने भी इसे स्वीकार करते हुए उन्हें राहत देने से इन्कार कर दिया।

लोकतंत्र को बदनाम न करें राहुल

भाजपा नेता ने कहा कि जनता द्वारा नकार दिए जाने के बाद राहुल गांधी को लोकतंत्र को बदनाम करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए। लोकतंत्र का अब विस्तार हो गया है। जनता परिवार को नकार कर अपने नेता को चुन रही है। यदि जनता उन्हें वोट नहीं दे रही है, तो इसकी जिम्मेदारी किसी और पर कैसे दी जा सकती है। इस सिलसिले में उन्होंने इंदिरा गांधी के समय लगे आपातकाल में लोकतंत्र को कुचले जाने की घटनाओं का भी जिक्र किया।

राहुल 'नकली गांधी' : जोशी

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार संसद परिसर में संवाददाताओं से बातचीत करते हुए संसदीय कार्यमंत्री प्रल्हाद जोशी ने राहुल गांधी को 'नकली गांधी' करार दिया और उनकी विचारधारा को भी नकली बताया।

जोशी ने कहा, 'वह (राहुल गांधी) महात्मा गांधी के वंशज नहीं हैं। वह एक नकली गांधी हैं। यह एक नकली विचारधारा है।' जोशी ने यह बात राहुल गांधी के इस आरोप पर कही, जिसमें कांग्रेस नेता ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा था कि हम एक विचाराधारा के लिए लड़ रहे हैं, इसलिए गांधी परिवार पर हमला किया जा रहा है।

Edited By Dhyanendra Singh Chauhan

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept