अपने पसंदीदा टॉपिक्स चुनें
Dainik Jagran Hindi News
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

तस्वीरों के जरिए जानें, भगवान शिव के ये आभूषण देते हैं किन बातों का संदेश

6 Photos Published Mon, 13 Nov 2017 10:56 AM (IST)
//www.jagranimages.com/images/lord-shiva_2017_11_13_105829_s.jpg

शिव त्रिदेवों में एक देव हैं। इन्हें देवों के देव भी कहते हैं। इन्हें महादेव, भोलेनाथ, शंकर, महेश, रुद्र, नीलकंठ के नाम से भी जाना जाता है। तंत्र साधना में इन्हे भैरव के नाम से भी जाना जाता है। हिन्दू धर्म के प्रमुख देवताओं में से हैं। वेद में इनका नाम रुद्र है। यह व्यक्ति की चेतना के अन्तर्यामी हैं। शिव अधिक्तर चित्रों में योगी के रूप में देखे जाते हैं और उनकी पूजा शिवलिंग तथा मूर्ति दोनों रूपों में की जाती है। शिव के गले में नाग देवता विराजित हैं और हाथों में डमरू और त्रिशूल लिए हुए हैं। कैलाश में उनका वास है। तस्वीरों में जानिए शिव के इस स्वरूप को।

//www.jagranimages.com/images/shiva-third-eye_2017_11_13_105839_s.jpg

तीसरी आंख

शिव की जो तस्वीर हमारे मस्तिष्क में अंकित है उसमें शिव को तीन नेत्रों वाला दिखाया गया है। माना गया है कि मनुष्य की दो आँखें सांसारिक वस्तुओं को दर्शाता है। वहीं शिव की तीसरी नेत्र सांसारिक वस्तुओं से परे संसार को देखने का बोध कराती है। यह एक दृष्टि का बोध कराती है जो पाँचों इंद्रियों से परे है। इसलिये शिव को त्रयंबक कहा गया है।

//www.jagranimages.com/images/shiva-snake_2017_11_13_105852_s.jpg

सर्प है कुंडलिनी

योग में सर्प को कुंडलिनी का प्रतीक माना गया है। इस अंदरूनी उर्जा का दर्ज़ा हासिल है जिसका प्रयोग अब तक नहीं हुआ है। कुंडलिनी के स्वभाव के कारण ही उसके अस्तित्व का पता नहीं चल पाता। इंसान के गले के गड्ढ़े में विशुद्धि चक्र होता है जो बाहर के हानिकारक प्रभावों से आपके शरीर को बचाता है। साँप में जहर होता है और विशुद्धि चक्र को छलनी की संज्ञा दी गयी है।

//www.jagranimages.com/images/trishul-shiva_2017_11_13_10593_s.jpg

जीवन के तीन पहलुओं का प्रतिबिंब है त्रिशूल

शिव का त्रिशूल मानव शरीर में मौजूद तीन मूलभूत नाड़ियों बायीं, दाहिनी और मध्य का प्रतिबिंब है। इनसे 72,000 नाड़ियाँ निकलती हैं। सजगता की स्थिति में यह बात महसूस की जा सकती है कि उर्जा की गति अनियमित न होकर निर्धारित पथों यानी 72,000 नाड़ियों से होकर गुजर रही है।

//www.jagranimages.com/images/shiva-nandi_2017_11_13_105912_s.jpg

नंदी है सजगता के साथ प्रतीक्षा का प्रतीक

प्रतीक्षा ग्रहणशीलता का मूल तत्व है और नंदी को इसका प्रतीक माना गया है। नंदी में ग्रहणशीलता के गुण है और वो शिव के करीब हैं। नंदी को सक्रिय और सजग माना गया है जो सुस्त नहीं हैं और जिनके अदंर जीवन है। भारतीय संस्कृति में योग भी सक्रियता का उद्यम माना गया है।

//www.jagranimages.com/images/shiva-som_2017_11_13_105926_s.jpg

सोम का अर्थ केवल चंद्रमा नहीं

भगवान शिव को सोम भी कहा गया है सोम का पर्याय नशा भी होता है। नशे में रहने के लिये केवल मय या अन्य भौतिक वस्तुओं की जरूरत नहीं होती। इंसान अपने जीवन में मदमस्त होकर भी नशे में रह सकता है। नशे का आनंद उठाने के लिये सचेतावस्था में रहना आवश्यक है। वहीं, चंद्रमा को भी सोम कहा गया है जिसे नशे का स्रोत माना गया है। भगवान शिव चंद्रमा को आभूषण की तरह पहनते है। चंद्र धारण करने वाले शिव अपने जीवन में योगी की तरह मस्त रहते हैं जो जीवन का आनंद तो उठाता है लेकिन किसी क्षणिक आनंद को स्वयं पर हावी नहीं होने देता।

राज्य चुनें
  • उत्तर प्रदेश
  • पंजाब
  • दिल्ली
  • बिहार
  • उत्तराखंड
  • हरियाणा
  • मध्य प्रदेश
  • झारखण्ड
  • राजस्थान
  • जम्मू-कश्मीर
  • हिमाचल प्रदेश
  • छत्तीसगढ़
  • पश्चिम बंगाल
  • ओडिशा
  • महाराष्ट्र
  • गुजरात
आपका राज्य