मौसमी की महानता : कोरोना से पति की न बचा पाई जान तो इलाज को जुटाए 40 लाख रुपए किए दान

ओडिशा के भद्रक जिले के वासुदेवपुर इलाके की बहुचर्चित मृतक अभिषेक महापात्र की पत्‍नी मौसमी महापात्र ( Mosmi Mohapatra) ने मानवीयता का महान परिचय दिया है। पति की मौत के बाद उसने जिलाधीश को सौंपा 40 लाख रुपये का चेक।

Babita KashyapPublish: Tue, 18 Jan 2022 02:49 PM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 03:55 PM (IST)
मौसमी की महानता : कोरोना से पति की न बचा पाई जान तो इलाज को जुटाए 40 लाख रुपए किए दान

भुवनेश्वर, शेषनाथ राय। मेरे पति के इलाज के लिए बहुत से लोगों ने मेरी मदद की थी। हालांकि पूरी कोशिश के बावजूद पति को हम नहीं बचा पाए। अब पैसा लेकर क्या करूंगी। लोगों द्वारा मदद के रूप में दिए गए इस पैसे से और कुछ जरूरतमंद परिवार के चेहरे पर हंसी लौटे, यह पैसा कुछ जरूरतमंद परिवार के काम आए, यह कहते हुए ओडिशा के भद्रक जिले के वासुदेवपुर इलाके की बहुचर्चित मृतक अभिषेक महापात्र की पत्‍नी मौसमी महापात्र ने मानवीयता का महान परिचय दिया है। मौसमी ने पति के इलाज के लिए लोगों से दान में मिले 40 लाख रुपये को एक दिन पहले सोमवार को भद्रक जिलाधीश को सौंप दिया। मौसमी ने 40 लाख रुपये में से 30 लाख रुपया मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए और 10 लाख रुपये का ड्राफ्ट भद्रक जिला रेडक्रास फंड के लिए दान के रूप में दिया है।

इंटरनेट मीडिया से मांगी थी मदद

जानकारी के मुताबिक भद्रक जिले के वासुदेवपुर मंदारी इलाके के अभिषेक महापात्र की पिछले साल मई महीने में शादी हुई थी। शादी के मात्र 8 दिन बाद अभिषेक को कोरोना हो गया और उनकी हालत गम्भीर हो गई। उनकी आर्थिक अवस्था ठीक ना होने से उनकी नव-विवाहिता पत्‍नी मौसमी ने विभिन्न मीडिया एवं इंटरनेट मीडिया के माध्यम से हाथ जोड़कर इलाज के लिए सहयोग करने का निवेदन किया। ऐसे में ओडिशा के साथ ही देश के विभिन्न जगहों से लोगों ने सहयोग का हाथ बढ़ाया। मौसमी के पास लोगों से सहायता के तौर पर लगभग 80 लाख रुपये की धनराशि एकत्र हो गई। 21 दिन तक वेंटिलेटर पर रहने वाले मौसमी के पति अभिषेक को 9 जून को एकमो चिकित्सा के लिए एयरलिफ्ट कर कोलकाता लिया गया। यहां पर डाक्टरों की पूरी कोशिश के बावजूद चिकित्साधीन अवस्था में तीन सितम्बर 2021 को अभिषेक की मृत्यु हो गई।

मुख्यमंत्री राहत कोष में मौसमी ने जमा करायी राशि

अभिषेक के इलाज के बाद मिली सहायता राशि में मौसमी के पास 40 लाख रुपये बच गए थे। इस रुपये को अब अन्य लोगों की मदद करने का निर्णय लिया। इसके बाद मौसमी ने सोमवार को अपने परिवार वालों के साथ भद्रक रोटरी क्लब मीड टाउन के जरिए भद्रक जिलाधीश त्रिलोचन माझी को ड्राफ्ट के आकार में 40 लाख 6 हजार रुपया प्रदान किया है। इस राशि में से मुख्यमंत्री राहत कोष में मौसमी ने 30 लाख 2 हजार 500 रुपया दिया है जबकि 10 लाख 3 हजार 500 रुपया रेडक्रास फंड को दिया है। मौसमी ने कहा है कि पति के इलाज के लिए लोगों ने जो मदद की थी इस राशि से अब और किसी का जीवन बचे, इसी कामना के साथ हमने यह राशि लौटायी है।जिलाधीश को ड्राफ्ट प्रदान करने के समय मौसमी महापात्र के साथ उनके पिता चितरंजन महांति, रोटरियनअतिस बेहेरा, भाई अन्नदा शंकर महांति, वकील धीरेन्द्र राय, जिला सूचना जनसंपर्क अधिकारी रमेश चन्द्र नायक प्रमुख उपस्थित थे। जिलाधीश माझी ने मौसमी के इस कार्य के लिए उच्च प्रशंसा की है।

सरकारी नौकरी देने के लिए निवेदन

मौसमी विज्ञान विषय से स्नातक हैं। बुद्धिजीवियों ने सरकार से मौसमी को उसकी योग्यता के अनुसार सरकारी नौकरी देने के लिए निवेदन किया है। इस संदर्भ में वरिष्ठ वकील अतिश कुमार बेहेरा ने कहा है कि शादी के 8 दिन बाद ही अभिषेक को कोरोना हो गया था। इसके बाद उन्हें इकमो चिकित्सा की जरूरत पड़ी। अभिषेक का परिवार गरीब है ऐसे में मौसमी ने इंटरनेट मीडिया के जरिए मदद करने के लिए लोगों से निवेदन किया। अभिषेक के जीवन को बचाने के लिए लोगों ने 10 रुपये से लेकर 10 हजार रुपये तक दान किया था। हालांकि भाग्य की विडंबना देखिये कि अभिषेक का निधन हो गया। इसके बाद मौसमी ने बिना किसी लालच के अन्य कोई इस तरह का सामना ना करे, किसी का संसार इस तरह से ना टूटने पाए, दूसरों के चेहरे पर खुशी लाने के उद्देश्य से मौसमी ने मुख्यमंत्री एवं रेडक्रास फंड को सहायता के तौर पर मिले 40 लाख रुपये को दान कर दिया है। मौसमी ने ऐसा कर अन्य लोगों के लिए उदाहरण पेश किया है। मौसमी के इस कार्य की जिलाधीश के साथ अन्य लोगों ने भी प्रशंसा किया है।

Edited By Babita Kashyap

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept