This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

तालिबान ने दी बदला लेने की धमकी

पाकिस्तान तालिबान ने मुंबई हमलों के दोषी अजमल कसाब को फांसी देने का बदला लेने के लिए भारतीयों को निशाना बनाने की धमकी दी है। साथ ही भारत से कसाब के शव को उसके परिजनों को सौंपने की मांग की है। ऐसा न करने पर उसने भारतीयों के अपहरण की धमकी दी है। लश्कर-ए-तैयबा पहले ही कसाब को अपना हीरो बता चुका है।

Thu, 22 Nov 2012 10:15 PM (IST)
तालिबान ने दी बदला लेने की धमकी

इस्लामाबाद। पाकिस्तान तालिबान ने मुंबई हमलों के दोषी अजमल कसाब को फांसी देने का बदला लेने के लिए भारतीयों को निशाना बनाने की धमकी दी है। साथ ही भारत से कसाब के शव को उसके परिजनों को सौंपने की मांग की है। ऐसा न करने पर उसने भारतीयों के अपहरण की धमकी दी है। लश्कर-ए-तैयबा पहले ही कसाब को अपना हीरो बता चुका है।

तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के प्रवक्ता एहसानुल्ला एहसान ने अज्ञात स्थान से पत्रकारों को किए फोन पर कहा कि उनका संगठन कसाब को फांसी देने का बदला लेगा। दुनिया के किसी भी कोने में भारतीय उनके निशाने पर रहेंगे। उसने कहा कि भारतीय अधिकारियों को कसाब का शव उसके परिजनों या तालिबान को सौंप देना चाहिए। उसने धमकी दी है कि अगर कसाब के शव को नहीं सौंपा गया तो तालिबान भारतीयों को अगवा कर उनकी हत्या कर देगा और उनके शवों को वापस नहीं लौटाएगा। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के निवासी 25 वर्षीय कसाब को बुधवार को पुणे की यरवदा जेल में फांसी दे दी गई थी। उसके शव को जेल में ही दफन कर दिया गया था। उसकी फांसी पर पाकिस्तानी सरकार ने सधी हुई प्रतिक्रिया देते हुए कहा था कि इस्लामाबाद सभी प्रकार के आतंकवाद की निंदा करता है और आतंकवाद के खात्मे के लिए सभी देशों के साथ सहयोग का इच्छुक है।

पाक में भारतीय दूतावास व राजनयिकों की सुरक्षा बढ़ी

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। भारत के आग्रह पर पाकिस्तान में भारतीय दूतावास एवं राजनयिकों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। भारत ने पाकिस्तान में सुरक्षा हालात और मुंबई आतंकी हमले के दोषी अजमल कसाब की फांसी के मद्देनजर सुरक्षा बढ़ाने को कहा था।

सरकारी सूत्रों के मुताबिक कसाब की फांसी से पहले मंगलवार को भारतीय उप उच्चायुक्त गोपाल बागले ने जब पाकिस्तान विदेश मंत्रालय के अधिकारियों से मुलाकात की थी तो सुरक्षा संबंधी आग्रह का एक पत्र भी सौंपा था।

सूत्रों ने माना कि पाकिस्तान में सुरक्षा चिंताओं और संभावित उपद्रव की आशंकाओं के मद्देनजर भारत ने इस संबंध में आग्रह किया था। कसाब की फांसी के बाद तालिबान ने भी भारतीय ठिकानों पर हमलों की धमकी दी है। महत्वपूर्ण है कि पाकिस्तान में तैनात भारतीय राजनयिकों को पहले भी धमकियां मिलती रही हैं। 2010 में भारतीय उच्चायुक्त समेत अन्य राजनयिकों के अपहरण की आतंकी साजिश का भी खुलासा हुआ था।

उस समय गिरफ्तार किए गए दो भगोड़ों ने रहस्योद्घाटन किया था कि तालिबान की योजना भारतीय राजनयिकों का अपहरण करके उनके बदले अपने कमांडरों को छुड़ाने की थी। उस समय भी भारतीय राजनयिकों और उनके परिवारों की सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी।

ताजा सुरक्षा हालात के मद्देनजर ही पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायोग के नजदीक सुरक्षा पिकेट में तैनाती बढ़ाई है। गौरतलब है कि वियना समझौते के तहत सभी देश अपने यहां मौजूद राजनयिकों कि हिफाजत के लिए जिम्मेदार हैं।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर

Edited By