देवरिया मेडिकल कालेज में कुत्तों का आतंक, बढ़ी लोगों की परेशानी

गुस्साए लोगों ने वार्ड के बगल में स्टाफ नर्स के वेटिंग रूम में रात में ही तोड़फोड़ किया था।

JagranPublish: Mon, 04 Jul 2022 12:07 AM (IST)Updated: Mon, 04 Jul 2022 12:07 AM (IST)
देवरिया मेडिकल कालेज में कुत्तों का आतंक, बढ़ी लोगों की परेशानी

देवरिया मेडिकल कालेज में कुत्तों का आतंक, बढ़ी लोगों की परेशानी

देवरिया: महर्षि देवरहा बाबा से संबद्ध जिला अस्पताल व महिला अस्पताल में कुत्तों का आतंक है। दोनों अस्पतालों में तीन दर्जन से अधिक कुत्तों का निवास है। जब ये झुंड में चलते हैं तो रोगी भयभीत हो जाते हैं। कई बार रोगियों व तीमारदारों पर हमला कर उन्हें जख्मी कर चुके हैं। सबसे अधिक खतरा महिला अस्पताल के वार्ड में है, यहां छोटे बच्चों के लिए ये कभी भी जानलेवा साबित हो सकते हैं। जिला अस्पताल में दो दिन पूर्व सर्जिकल वार्ड में भर्ती एक रोगी के तीमारदार को रात में शौच के लिए जाते वक्त वार्ड के बरामदे में कुत्तों के झुंड ने हमला बोल लहूलुहान कर दिया। गुस्साए लोगों ने वार्ड के बगल में स्टाफ नर्स के वेटिंग रूम में रात में ही तोड़फोड़ किया था। इसके बाद भी इसे गंभीरता से नहीं लिया गया। चार माह पूर्व कुत्तों ने शव को नोच दिया था महिला अस्पताल परिसर वार्ड के पीछे एक गली में नाबदान के पास एक युवक का शव बरामद हुआ था। अस्पताल के कुत्ते युवक के शव का हाथ सिर व शरीर के अधिकांश हिस्से को नोच कर खा गए थे। इससे उनके हिंसक होने का अनुमान लगाया जा सकता है। वार्ड में नौनिहालों के जान को है सर्वाधिक खतरा महिला अस्पताल के वार्ड के बाहर बरामदे में ये हिंसक कुत्ते दिन में आराम फरमाते हैं और रात में झुंड बनाकर अस्पताल में इधर उधर दौड़ते व भोंकते हैं, जिससे रोगियों की नींद खुल जाती है। यहां प्रसव के बाद बेसुध महिला अपने नवजात को सुला कर सो जाती हैं। ऐसे में यहां कभी भी ये हिंसक कुत्ते किसी नवजात को अपना निशाना बना सकते हैं। यह गंभीर प्रकरण है। कुत्तों को अस्पताल से बाहर भगाने का इंतजाम किया जाएगा। रोगियों की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है। उन्हें कोई परेशानी न हो इसके लिए पूरा प्रयास किया जाएगा। डा. राजेश कुमार बरनवाल, प्रधानाचार्य, महर्षि देवरहा बाबा मेडिकल कालेज

Edited By Jagran

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept