खुजली दूर करने के लिए हाथी ने लगाया ऐसा जुगाड़, वीडियो देख हंसी नहीं रोक पाएंगे

हाथी को खुजली हो रही थी और वह खुजाने मिटाने की कोशिश कर रहा था लेकिन वह सफल नहीं हो पा रहा था। वह इधर- उधर देखता है। जब उसे खुजली हटाने के लिए कुछ नहीं दिखता है तो उसकी नजर पेड़ पर पड़ती है।

Pravin KumarPublish: Thu, 17 Feb 2022 03:30 PM (IST)Updated: Thu, 17 Feb 2022 03:30 PM (IST)
खुजली दूर करने के लिए हाथी ने लगाया ऐसा जुगाड़, वीडियो देख हंसी नहीं रोक पाएंगे

दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। सोशल मीडिया पर एक वायरल वीडियो हो रहा है, जिसे देख आप अपनी हंसी नहीं रोक पाएंगे। इस वीडियो में हाथी की शरारत देखने लायक है। सोशल मीडिया पर लोग हाथी की करतूत पर हास्यास्पद कमेंट कर रहे हैं। इस वीडियो में साफ देखा जा सकता है कि एक हाथी अपनी ताकत का जोर आजमाइश कर रहा है। एक पल तो ऐसा लगा कि मानो हाथी सड़क पर पेड़ गिराकर रास्ता रोकने की कोशिश करना चाह रहा है। वहीं, दूसरे पल हाथी की बचकानी हरकत देख लोग हंसते-हंसते लोटपोट हो रहे हैं।

हाथी सड़क किनारे एक पेड़ पर सूंढ़ से टक्कर मार रहा है। वहीं, रास्ते से गुजर रहे लोग यह देख रुक जाते हैं। कुछ लोग मोबाइल पर रिकॉर्ड करने लगता है। तभी हाथी सूंढ़ की मदद से पेड़ को उखाड़ कर गिरा देता है। पेड़ सड़क पर गिर जाता है। इससे रास्ता अवरुद्ध हो जाता है। हाथी यहीं पर नहीं रुकता है और आगे बढ़कर पेड़ के पास जाता है। लोग यह देख सोचते हैं कि हाथी सड़क ही रोकना चाहता है।

इसके बाद हाथी पेड़ की टहनी पर शरीर के पिछले हिस्से को रगड़ने लगता है। मानो हाथी को खुजली हो रही थी और वह खुजाने मिटाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन वह सफल नहीं हो पा रहा था। वह इधर- उधर देखता है। जब उसे खुजली हटाने के लिए कुछ नहीं दिखता है, तो उसकी नजर पेड़ पर पड़ती है। वह मन ही मन मुस्कराने लगता है। इसके बाद हाथी बिना देरी के पेड़ को सूंढ़ की मदद से गिरा देता है और इत्मीनान से खुजली दूर करता है।

इस वीडियो को रूपिन शर्मा ने शेयर की है

इस वीडियो को भारतीय वन सेवा के अधिकारी रूपिन शर्मा ने सोशल मीडिया ट्विटर पर अपने अकांउट से दोबारा शेयर किया है। इस वीडियो को तकरीबन 10 हजार बार देखा गया है। कुछ लोगों ने कमेंट किया है। एक यूजर ने लिखा है-सर ये देख कर खुजली वाली फीलिंग आ गई और खुजली के बाद जो सकुन मिलता है वो अलग प्रकार का परमा आनंद मिलता है। एक जय प्रकाश ने लिखा है- मजबूरी थी पेड़ तोड़ना पड़ा।कोई खुजलाने के लिए नहीं मिला।मुझे पेड़ तोड़ने का दोष मत दो।

Image Credit: Rupin Sharma IPS

Edited By Pravin Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept