देश में ओमिक्रोन के सब-वैरिएंट बीए.2 के बढ़ रहे मामले, वैक्‍सीन नहीं लेने वालों के लिए खतरा ज्‍यादा, ICMR ने दी यह सलाह

कोरोना का डेल्‍टा वैरिएंट देश में अभी भी मौजूद है। यही नहीं ओमिक्रोन के मामले भी बढ़ रहे हैं। राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (NCDC) के निदेशक सुजीत कुमार सिंह ने गुरुवार को कहा कि देश में ओमिक्रोन के सब वैरिएंट बीए.2 का प्रसार धीरे-धीरे बढ़ रहा है।

Krishna Bihari SinghPublish: Fri, 28 Jan 2022 01:46 AM (IST)Updated: Fri, 28 Jan 2022 06:53 AM (IST)
देश में ओमिक्रोन के सब-वैरिएंट बीए.2 के बढ़ रहे मामले, वैक्‍सीन नहीं लेने वालों के लिए खतरा ज्‍यादा, ICMR ने दी यह सलाह

नई दिल्‍ली, आइएएनएस। केंद्र सरकार का कहना है कि कोरोना का डेल्‍टा वैरिएंट देश में अभी भी मौजूद है। यही नहीं ओमिक्रोन के मामले भी बढ़ रहे हैं। समाचार एजेंसी आइएएनएस की रिपोर्ट के मुताबिक राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (National Centre for Disease Control, NCDC) के निदेशक सुजीत कुमार सिंह (Sujeet Kumar Singh) ने गुरुवार को कहा कि देश में ओमिक्रोन के सब वैरिएंट बीए.2 (Omicron sub-variant BA.2) का प्रसार धीरे-धीरे बढ़ रहा है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय (Union Health Ministry) की प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (National Centre for Disease Control, NCDC) के निदेशक सुजीत कुमार सिंह (Sujeet Kumar Singh) ने कहा कि ओमिक्रोन सब-वैरिएंट बीए.2 देश में बीए.1 वैरिएंट की तुलना में अधिक प्रचलित है। हालांकि राहत की बात यह है कि देश में अभी बीए.3 सब-वैरिएंट का अभी तक पता नहीं चला है।

एनसीडीसी के निदेशक सुजीत कुमार सिंह (Sujeet Kumar Singh) ने कहा कि पहले देश में यात्रियों से जमा किए गए नमूनों में बीए.1 वैरिएंट प्रमुखता से पाया गया था। अब हमने पाया है कि देश में बीए.2 सब-वैरिएंट धीरे-धीरे बढ़ रहा है। अब तक पाए गए जीनोम सीक्वेंसिंग के आंकड़ों के मुताबिक पिछले साल दिसंबर में ओमिक्रोन के 1,292 मामले पाए गए जबकि डेल्टा मामलों की संख्या 17 हजार से ज्‍यादा थी।

सुजीत कुमार सिंह ने कहा कि इस साल जनवरी महीने में ओमिक्रोन के बढ़ते मामले बढ़ते हुए पाए गए हैं। ऐसा नहीं है कि हर जगह केवल ओमिक्रोन वैरिएंट ही पाया जा रहा है। डेल्टा वैरिएंट अभी तक देश से नहीं गया है। जनवरी में डेल्‍टा वैरिएंट के 4,779 जबकि ओमिक्रोन के 9,672 मामले पाए गए। खास तौर पर महाराष्ट्र, ओडिसा और पश्चिम बंगाल ने जीनोम सीक्वेंसिंग के आधार पर डेल्टा वैरिएंट की सूचना दी है।

कोरोना से हो रही मौतों के बारे में बात करते हुए सुजीत कुमार सिंह ने कहा कि ऐसी घटनाएं उनके साथ देखी जा रही हैं जिन लोगों का टीकाकरण नहीं कराया है और जिन्हें पहले से ही कोई बड़ी बीमारी रही है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में कोरोना महामारी से मरने वालों में लगभग 64 फीसद लोग ऐसे समूह से थे जिनका टीकाकरण नहीं हुआ था।

वहीं आईसीएमआर प्रमुख बलराम भार्गव (ICMR chief Balram Bhargava) ने कहा कि देश में कोविड-19 रोधी वैक्‍सीन अभी तक फायदेमंद रही हैं। आईसीएमआर प्रमुख ने टीकाकरण में पिछड़ रहे राज्यों से अभियान को तेज करने का आग्रह किया। उन्‍होंने कहा कि देश में लगभग 95 फीसद वयस्क आबादी ने कोविड रोधी टीके की पहली खुराक प्राप्त कर ली है जबकि 74 प्रतिशत को पूरी तरह से यानी टीके की दोनों खुराक लगाई जा चुकी है।  

Edited By Krishna Bihari Singh

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept