Qutub Minar News: केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने कुतुब मीनार परिसर की खुदाई करने की अफवाहों पर लगाया विराम, कहा- ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया

Qutub Minar News केंद्रीय संस्कृति मंत्री जीके रेड्डी ने मीडिया रिपोर्ट्स पर कहा कि अभी ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया है। वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद परिसर में शिवलिंग मिलने के बाद यह अफवाह उड़ रही थी कि कुतुबमीनार परिसर की खुदाई होगी।

Achyut KumarPublish: Sun, 22 May 2022 03:27 PM (IST)Updated: Sun, 22 May 2022 03:49 PM (IST)
Qutub Minar News: केंद्रीय संस्कृति मंत्री ने कुतुब मीनार परिसर की खुदाई करने की अफवाहों पर लगाया विराम, कहा- ऐसा कोई निर्णय नहीं लिया गया

 हैदराबाद, एएनआइ। केंद्रीय संस्कृति मंत्री जीके रेड्डी ने रविवार को स्पष्ट किया कि भारतीय पुरातत्व विभाग के द्वारा कुतुबमीनार परिसर में खुदाई करने का कोई निर्णय नहीं लिया गया है। दरअसल, कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया था कि भारतीय पुरातत्व विभाग कुतुबमीनार परिसर की खुदाई करेगी।

ASI को कुतुबमीनार की सच्चाई पता लगाने की मिली जिम्मेदारी

बता दें, कुतुबमीनार को लेकर उपजे विवाद के बीच भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) को कुतुबमीनार की सच्चाई पता लगाने की जिम्मेदारी दी गई है। केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय के सचिव गोविंद मोहन भी कुतुब मीनार का जायजा ले चुके हैं।

एएसआइ के पूर्व निदेशक ने बताया था वेधशाला

कुतुबमीनार विवाद ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआइ) के पूर्व क्षेत्रीय निदेशक धर्मवीर शर्मा के बयान के बाद तूल पकड़ा है, जिसमें उन्होंने इसे सूर्य स्तंभ वेधशाला बताया है। उनके अनुसार, इसे कुतुबुद्दीन ऐबक ने नहीं, उससे 700 साल पहले राजा चंद्रगुप्त विक्रमादित्य ने आचार्य वाराहमिहिर के नेतृत्व में बनवाया था। कई अन्य शोधकर्ता भी यही बात दोहराते हैं।

पर्यटकों की संख्या में हुआ इजाफा

इस विवाद के बाद इस भीषण गर्मी में भी अन्य स्मारकों की अपेक्षा इस स्मारक में पर्यटकों की बढ़ोत्तरी हुई है, जबकि दिल्ली के अन्य स्मारकों में गर्मी के चलते पर्यटक पहुंचने कम हुए हैं। कुतुबमीनार में दिल्ली के रहने वाले पर्यटकों के अलावा राजस्थान, गुजरात, उत्तर प्रदेश, बिहार, हिमाचल और हरियाणा से भी पर्यटक पहुंच रहे हैं।पर्यटक सीधे कुतुबमीनार के पास पहुंचते हैं, जहां वह इस बात पर चर्चा करते हैं कि यह कुतुबमीनार है या वेधशाला।

Edited By Achyut Kumar

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept