छत्‍तीसगढ़ पुलिस को बड़ी कामयाबी, एनकाउंटर में 8 लाख का इनामी नक्‍सली ढेर

गढ़चिरौली में 16 जवानों की हत्‍या के बाद छत्‍तीसगढ़ में भी नक्‍सलियों ने दो ग्रामीणों की जान ले ली।

Monika MinalPublish: Thu, 02 May 2019 10:08 AM (IST)Updated: Thu, 02 May 2019 03:24 PM (IST)
छत्‍तीसगढ़ पुलिस को बड़ी कामयाबी, एनकाउंटर में 8 लाख का इनामी नक्‍सली ढेर

दंतेवाड़ा, एएनआइ। किरंदुल थाना क्षेत्र के पेरपा के जंगलों में गुरुवार को डीआरजी एवं जिला पुलिस बल और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ के दौरान एक नक्‍सली ढेर हो गया। इसके सिर 8 लाख रुपये का इनाम था। दंतेवाड़ा के एसपी अभिषेक पल्‍लव ने इस बात की जानकारी दी और बताया कि मारे गए नक्‍सली के पास से एक राइफल बरामद किया गया है।

एसपी पल्‍लव ने आगे बताया कि मादवी मुइया नामक यह नक्‍सली उस हमले का मास्‍टरमाइंड था जिसमें भाजपा विधायक भीमा मण्‍डावी और 5 पुलिसकर्मी शहीद हुए थे।  इसके अलावा वह पिछले साल हुए दंतेवाड़ा हमले का भी मास्‍टटरमाइंड था जिसमें दो जवान शहीद हुए थे।

इसके पहले छत्तीसगढ़ में नक्सलियों ने ग्रामीणों की हत्या कर दी। यहां सुकमा जिले के किस्ताराम क्षेत्र में बुधवार रात नक्सलियों ने दो ग्रामीणों की हत्या की। घटना की जानकारी मिलने के बाद पुलिस ने घटनास्थल का मुआयना किया और जांच शुरू कर दी है। बता दें कि महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में हुए नक्सल हमले के बाद छत्तीसगढ़ के सभी नक्सल प्रभावित जिलों के एसपी को अलर्ट रहने के निर्देश जारी कर दिए गए थे।

मिली जानकारी के अनुसार, छह दिन पहले ही नक्सलियों ने दो ग्रामीणों की हत्या कर दी थी जिसका खुलासा बुधवार रात हुआ। दोनों ग्रामीणों पर नक्सलियों ने मुखबिरी करने का आरोप था। बता दें कि बीजापुर के इतामपारा और बिरयाभूमि में दो ग्रामीणों की नक्सलियों ने हत्या कर दी। मृतकों में एक सहायक आरक्षक का रिश्तेदार है। नक्सलियों की ओर से परिजनों को रिपोर्ट दर्ज नहीं कराने की धमकी दी गई थी। दहशत के कारण ग्रामीण पुलिस के पास नही पहुंचे।

गढ़चिरौली जिले में नक्सलियों ने बुधवार को ही पुलिस के सी-60 कमांडो के वाहन को आइईडी विस्फोट कर उड़ा दिया। इस हमले में वाहन में सवार 15 जवान शहीद हो गए। इसके अलावा वाहन चालक भी हमले में मारा गया है। यह जिला छत्तीसगढ़ के कांकेर जिले से सटा हुआ है। यहां पर मंगलवार रात को भी नक्सलियों ने इसी इलाके में सड़क निर्माण में लगे 27 वाहनों को जला दिया था। इससे पहले 9 अप्रैल 2019 को नक्सलियों ने हमला कर चार लोगों को मार डाला था।

Edited By Monika Minal

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept