50 लाख से अधिक स्वास्थ्य कर्मी, वरिष्ठ नागरिकों को मिली COVID-19 की 'प्रीकाशन खुराक'

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को बड़ी घोषणा की। उन्होंने बताया कि 10 जनवरी से अब तक 50 लाख से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 वर्ष व उससे अधिक उम्र के नागरिकों को कोविड-19 के टीके की प्रीकाशन खुराक दी जा चुकी है।

Ashisha RajputPublish: Tue, 18 Jan 2022 04:16 PM (IST)Updated: Tue, 18 Jan 2022 04:24 PM (IST)
50 लाख से अधिक स्वास्थ्य कर्मी, वरिष्ठ नागरिकों को मिली COVID-19 की 'प्रीकाशन खुराक'

नई दिल्ली, पीटीआइ। देश भर में तेजी से कोविड-19 के खिलाफ टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने मंगलवार को बड़ी घोषणा की। उन्होंने बताया कि 10 जनवरी से अब तक 50 लाख से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 वर्ष व उससे अधिक उम्र के नागरिकों को कोविड-19 के टीके की प्रीकाशनखुराक दी जा चुकी है।

वहीं स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने मंगलवार को जानकारी देते हुए बताया कि देश मेंं वैक्सीनेशन अभियान के तहत, केंद्र सरकार ने सभी राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को कोविड-19 वैक्सीन की 158.16 करोड़ से अधिक डोज उपलब्ध करवाई है। मंत्रालय ने अपने एक आधिकारिक बयान में बताया कि केंद्र सरकार ने प्रत्येक राज्यों व केंद्रशासित प्रदेशों को मुफ्त चैनल और प्रत्यक्ष राज्य खरीद श्रेणी के माध्यम से अब तक 158 करोड़ 16 लाख 75 हाजार 635 वैक्सीन की डोज दी जा चुकी है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने ट्वीट कर दी जानकारी

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर ट्वीट कर लिखा, 'एक और दिन, एक और मील का पत्थर 50 लाख से अधिक स्वास्थ्य कर्मियों, फ्रंटलाइन वर्कर्स और 60 वर्ष या उससे अधिक आयु के नागरिकों को 10 जनवरी से प्रीकाशन खुराक मिली है।' उन्होंने एक ट्वीट में आगे कहा, 'मैं उन सभी से अनुरोध करता हूं जो अपना ऐतिहासिक खुराक पाने योग्य हैं, वह जल्द से जल्द अपनी खुराक ले लें।'

आपको बता दें कि 25 दिसंबर को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में, प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने घोषणा की थी कि 10 जनवरी, 2022 से स्वास्थ्य कर्मीयों, फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं और 60 वर्ष से ऊपर के नागरिकों के लिए वैक्सीन की एहतियाती खुराक देने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। जिसके बाद देश में लगातार बढ़ रहे ओमिक्रोन वैरिएंट के मामलों के बीच भारत ने स्वास्थ्य कर्मियों, चुनाव ड्यूटी के लिए तैनात कर्मियों सहित फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं और 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के लोगों के लिए COVID-19 वैक्सीन की एहतियाती खुराक का प्रशासन शुरू किया गया।

देश भर में टीकाकरण अभियान 16 जनवरी, 2021 को शुरू किया गया था, जिसमें स्वास्थ्य कर्मियों (एचसीडब्ल्यू) को पहले चरण में टीका लगाया गया था। फ्रंटलाइन वर्कर्स (FLWs) का टीकाकरण 2 फरवरी से शुरू हुआ था।

जबकि COVID-19 टीकाकरण का अगला चरण एक मार्च से 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और 45 वर्ष और उससे अधिक आयु वाले लोगों के लिए शुरू किया गया था।

देश ने 1 अप्रैल, 2021 से 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के लिए टीकाकरण शुरु किया गया था।

इसके बाद भारत सरकार ने 1 मई से 18 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों को टीकाकरण की अनुमति देकर अपने टीकाकरण अभियान का विस्तार करने का निर्णय लिया। वहीं 15-18 वर्ष के आयु वर्ग के किशोरों के लिए इस वर्ष 3 जनवरी से COVID-19 टीकाकरण का अगला चरण शुरू हो चुका है। 

Edited By Ashisha Rajput

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept
ट्रेंडिंग न्यूज़

मौसम