This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

कोरोना वैक्सीन की पहली डोज देने में अमेरिका से आगे निकला भारत, विश्व के अन्य देश काफी पीछे

अमेरिका में 16.9 करोड़ लोग ऐसे थे जिनको वैक्सीन की कम से एक डोज लग चुकी थी। वहीं भारत में ऐसे लोगों की संख्या 17.2 करोड़ थी। इसी तरह से ब्रिटेन में वैक्सीन की कम-से-कम एक डोज लेने वालों की संख्या 3.9 करोड़ और जर्मनी में 3.8 करोड़ है।

Bhupendra SinghFri, 04 Jun 2021 10:30 PM (IST)
कोरोना वैक्सीन की पहली डोज देने में अमेरिका से आगे निकला भारत, विश्व के अन्य देश काफी पीछे

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कोरोना की वैक्सीन लेने वालों की संख्या के मामले में भारत पहले स्थान पर पहुंच गया है। भले ही अमेरिका वैक्सीन के डोज के मामले में पहले स्थान पर बना हुआ है, लेकिन ऐसे लोगों की संख्या वहां भारत से कम हैं, जिन्हें वैक्सीन की कम से कम एक डोज जरूर मिल गई है। वैक्सीन देने के मामले में दुनिया के अन्य देश भारत से काफी पीछे छूट गए हैं।

पहली डोज के मामले में अमेरिका से आगे और दोनों डोज के मामले में अमेरिका से पीछे

नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) और वैक्सीन पर गठित उच्चाधिकार समिति के प्रमुख डाॅ. वीके पाल के अनुसार गुरुवार तक अमेरिका में 16.9 करोड़ लोग ऐसे थे, जिनको वैक्सीन की कम से एक डोज लग चुकी थी। वहीं भारत में ऐसे लोगों की संख्या 17.2 करोड़ थी। इसी तरह से ब्रिटेन में वैक्सीन की कम-से-कम एक डोज लेने वालों की संख्या 3.9 करोड़ और जर्मनी में 3.8 करोड़ है। दोनों डोज देने वालों में अमेरिका जरूर भारत से आगे बना हुआ है।

पहली डोज के मामले में अमेरिका से आगे निकलना भारत की बड़ी उपलब्धि: डाॅ. पाल

डाॅ. पाल ने इसे भारत की एक बड़ी उपलब्धि बताया। उन्होंने कहा कि भारत की आबादी बहुत ज्यादा है, इसलिए उसके अनुपात में टीकाकरण पीछे दिख सकता है, लेकिन सच्चाई यह है कि वैक्सीन लगाने वाले लोगों की संख्या दुनिया में सबसे अधिक अपने देश में है। उन्होंने चीन में टीकाकरण के आंकड़ों पर संदेह जताते हुए उससे किसी प्रकार की तुलना को बेमानी बताया।

कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित 45 पार के लोगों को टीकाकरण में पहली प्राथमिकता

टीकाकरण की नीति को सही ठहराते हुए उन्होंने कहा कि हमारी पहली प्राथमिकता उस समूह को सबसे पहले टीका लगाने की है, जो कोरोना से सबसे अधिक प्रभावित होता है और इसमें 45 साल से अधिक उम्र के लोग आते हैं। कोरोना संक्रमण के चलते 88 फीसद मौतें इसी समूह से हुई हैं।

पाल ने कहा- 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण पर विशेष ध्यान देने की जरूरत

इसी नीति के चलते देश में अब तक 60 साल से अधिक उम्र के 43 फीसद और 45 साल से अधिक उम्र के 37 फीसद लोगों को कम से कम एक टीका लगा चुका है। उन्होंने राज्यों से 45 साल से अधिक उम्र के लोगों के टीकाकरण पर विशेष ध्यान देने की गुजारिश की।

दूसरी लहर के बावजूद भारत की स्थिति अन्य देशों की तुलना में बेहतर

प्रति 10 लाख जनसंख्या पर कोरोना के मामले

विश्व- 22,181

भारत -20,519

ब्रिटेन- 65,900

अमेरिका-1,02,069

प्रति 10 लाख आबादी पर मृत्यु

विश्व- 477

भारत- 245

अमेरिका-1838

ब्राजील-2100