This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
OK

पूर्व मंत्री शर्मा राजकीय सम्मान के साथ पंचतत्व में विलीन, अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़, मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

शर्मा के निधन से पूरा सिरोंज क्षेत्र शोक में डूब गया। मंगलवार से जिले में बाजार अनलाक हुआ था लेकिन सिरोंज शहर में उनके सम्मान में व्यापारियों ने पूरे दिन दुकानें बंद रखी। कृषि उपज मंडी में भी नीलामी नहीं हुई।

Bhupendra SinghTue, 01 Jun 2021 09:04 PM (IST)
पूर्व मंत्री शर्मा राजकीय सम्मान के साथ पंचतत्व में विलीन, अंतिम दर्शन के लिए उमड़ी भीड़, मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

विदिशा/सिरोंज, राज्य ब्यूरो। मध्यप्रदेश के सिरोंज से पूर्व विधायक व प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री लक्ष्मीकांत शर्मा मंगलवार को पंचतत्व में विलीन हो गए। सिरोंज में हुए अंतिम संस्कार में उनके अंतिम दर्शन करने समर्थक उमड़ पड़े। यहां पुलिस जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर के साथ उन्हें विदाई दी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दी श्रद्धांजलि

रविवार को भोपाल चिरायु अस्पताल में निधन के बाद उनका पार्थिव शरीर पहले भोपाल के निज निवास पर लाया गया था, जहां उन्हें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्रद्धांजलि अर्पित की। फिर एंबुलेंस से रात करीब 3 बजे सिरोंज की श्रीकृष्णा गोशाला और उसके बाद निज निवास गणेश की अथाई पर लाया गया। सुबह 9 बजे अंतिम यात्रा काशी विश्राम घाट पहुंची। वहां राजकीय सम्मान के साथ भतीजे शिवम शर्मा ने मुखाग्नि दी। इस दौरान उनके भाई नलिनीकांत शर्मा, विधायक उमाकांत शर्मा भी मौजूद थे।

कोरोना प्रोटोकाल से हुआ अंतिम संस्कार 

शर्मा का अंतिम संस्कार प्रशासन द्वारा कोरोना प्रोटोकाल के तहत किया गया। काशी विश्राम घाट के चारों तरफ लगभग 200 मीटर दूर बैरिकेड्स लगाए गए और भीड़ नियंत्रित करने के लिए पूरे जिले सहित 9 पुलिस थानों का पुलिस बल तैनात रहा।

कलेक्टर और एसपी ने भी दी श्रद्धांजलि

गार्ड ऑफ ऑनर दे रहे जवान भी पीपीई किट पहने थे। कलेक्टर डाॅ पंकज जैन और एसपी विनायक वर्मा ने भी उन्हें श्रद्धांजलि दी। उनके अंतिम संस्कार में पूरे जिले से बड़ी संख्या में लोग पहुंचे।

शोक में बंद रहा सिरोंज

शर्मा के निधन से पूरा सिरोंज क्षेत्र शोक में डूब गया। मंगलवार से जिले में बाजार अनलाक हुआ था, लेकिन सिरोंज शहर में उनके सम्मान में व्यापारियों ने पूरे दिन दुकानें बंद रखी। कृषि उपज मंडी में भी नीलामी नहीं हुई।

Edited By: Bhupendra Singh