घने बादलों में चट्टान से टकराया था जनरल रावत का हेलीकाप्टर, रक्षा मंत्री को आज दी जाएगी विस्तृत जानकारी

आठ दिसंबर को तमिलनाडु में कुन्नूर के पास हेलीकाप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल उनकी पत्नी और 11 अन्य सैनिकों का निधन हो गया था। भारतीय वायु सेना के एक अधिकारी की अध्यक्षता वाली ट्राई-सर्विस जांच दल रक्षा मंत्री को दुर्घटना के कारणों पर जानकारी देने वाला है।

Monika MinalPublish: Wed, 05 Jan 2022 02:13 AM (IST)Updated: Wed, 05 Jan 2022 07:04 AM (IST)
घने बादलों में चट्टान से टकराया था जनरल रावत का हेलीकाप्टर, रक्षा मंत्री को आज दी जाएगी विस्तृत जानकारी

नई दिल्ली, एएनआइ।  चीफ आफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत के हेलीकाप्टर हादसे के कारणों की जांच कर रही एयर मार्शल मानवेंद्र सिंह की अध्यक्षता वाली ट्राई सर्विसेज जांच टीम बुधवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को विस्तृत प्रेजेंटेशन देगी। सूत्रों के मुताबिक सीडीएस का हेलीकाप्टर घने बादलों में चट्टान से टकरा गया था। इस हादसे में जनरल रावत की पत्नी और 12 अन्य सैन्यकर्मियों की भी मृत्यु हो गई थी।

हादसे का विवरण देते हुए रक्षा सूत्रों ने बताया कि एमआइ-17वी5 हेलीकाप्टर जब अचानक घने बादलों में घुस गया था तो वह पहाड़ों पर रेलवे लाइन पर नजर रखते हुए उड़ान भर रहा था। वह काफी कम ऊंचाई पर उड़ रहा था और इलाके को जानने पर यह सामने आ रहा है कि चालक दल ने लैंड करने के बजाय बादलों को पार करने का फैसला किया था और इस प्रक्रिया में एक चट्टान से टकरा गया। चूंकि चालक दल के सभी सदस्य 'मास्टर ग्रीन' श्रेणी के थे, इसलिए ऐसा लगता है कि उन्हें विश्वास था कि वे स्थिति से बच निकलेंगे क्योंकि उन्होंने ग्राउंड स्टेशनों को आपातस्थिति के बारे में कोई सूचना नहीं दी थी। उन्होंने बताया कि 'मास्टर ग्रीन' श्रेणी तीनों सेनाओं के परिवहन विमानों और हेलीकाप्टर बेड़े के सर्वश्रेष्ठ पायलटों को दी जाती है क्योंकि वे ऐसे पायलट होते हैं जो कम दृश्यता में भी लैंड कर सकते हैं या उड़ान भर सकते हैं।

सूत्रों ने बताया कि ट्राई सर्विसेज जांच टीम ने वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों को ले जाने वाले हेलीकाप्टरों के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) में कुछ संशोधनों की सिफारिश भी की है। उनमें एक सिफारिश यह भी है कि भविष्य में चालक दल सदस्यों में 'मास्टर ग्रीन' और अन्य श्रेणियों के पायलटों का मिश्रण होना चाहिए ताकि जरूरत पड़ने पर वे ग्राउंड स्टेशनों से मदद मांग सकें।

दिवंगत सीडीएस की बेटियों को मिली 50 लाख रुपये की सहायता राशि

उत्तर प्रदेश शासन के आदेश पर गौतमबुद्धनगर जिला प्रशासन ने मंगलवार को दिवंगत सीडीएस जनरल बिपिन रावत की दो बेटियों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता रियल टाइम ग्रास सेटलमेंट (आरटीजीएस) के माध्यम से भेजी है। उनकी एक बेटी नोएडा और दूसरी मुंबई में रहती हैं। दोनों के अकाउंट में 25-25 लाख रुपये की सहायता राशि भेजी गई है। पिछले वर्ष आठ दिसंबर को तमिलनाडु में कुन्नूर के पास हेलीकाप्टर दुर्घटना हुई थी। घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और 11 अन्य सैनिकों का निधन हो गया था।

घटना में घायल एक अन्य सैन्य अधिकारी की मौत कुछ दिन बाद हो गई थी। घटना के बाद उत्तर प्रदेश सरकार ने जनरल बिपिन रावत की दोनों बेटियों को 50 लाख रुपये की आर्थिक सहायता राशि देने की घोषणा की थी। जनरल बिपिन रावत का मकान नोएडा के सेक्टर-37 अरुण विहार में है। जहां पर उनकी छोटी बेटी तारिणी रावत रहती हैं। जबकि बड़ी बेटी कृतिका रावत मुंबई में रहती हैं।

Edited By Monika Minal

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept