असम, नागालैंड की दोस्ती होगी और मजबूत, सरमा ने नेफ्यू रियो के साथ चर्चा को सफल बताया

सरमा ने ट्वीट कर कहा कि आपसी हित दोनों राज्यों में लोगों के कल्याण और हमारी दोस्ती को मजबूत करने के मुद्दों पर नागालैंड के सीएम नेफ्यू रियो जी के साथ एक उपयोगी चर्चा की। मैं बैठक के दौरान रियो जी की गर्मजोशी की सराहना करता हूं।

Mahen KhannaPublish: Mon, 24 Jan 2022 10:11 AM (IST)Updated: Mon, 24 Jan 2022 01:17 PM (IST)
असम, नागालैंड की दोस्ती होगी और मजबूत, सरमा ने नेफ्यू रियो के साथ चर्चा को सफल बताया

गुवाहाटी, एएनआइ। असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने रविवार को 'पारस्परिक हित' के मुद्दों पर नागालैंड के मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो के साथ हुई वार्ता को एक 'सफल चर्चा' करार दिया। सरमा ने ट्वीट किया, 'नागालैंड के उप मुख्यमंत्री वाई पैटन और पूर्व सीएम टीआर जेलियांग की उपस्थिति में आपसी हित, दोनों राज्यों में लोगों के कल्याण और हमारी दोस्ती को मजबूत करने के मुद्दों पर नागालैंड के सीएम नेफ्यू रियो जी के साथ एक उपयोगी चर्चा की। मैं बैठक के दौरान रियो जी की गर्मजोशी की सराहना करता हूं।'

दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों की भी हो चुकी है बैठक

बता दें कि पिछले साल जुलाई में, नागालैंड के मुख्य सचिव और असम के मुख्य सचिव के बीच दीमापुर में एक बैठक आयोजित की गई थी, जिसमें स्टैंड के कारण देसोई घाटी आरक्षित वन या सुरंगकोंग घाटी में दो स्थानों पर व्याप्त तनावपूर्ण स्थिति को कम करने के उद्देश्य से बैठक की गई थी। दोनों पक्षों द्वारा यह निर्णय लिया गया कि दोनों राज्यों के सुरक्षाकर्मी गतिरोध वाली जगह से एक साथ अपने-अपने आधार शिविरों में वापस चले जाएंगे।

राज्यों की सेनाओं के बीच हुई थी भीषण मुठभेड़

बताते चलें कि दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद चरम पर पहुंचने के बाद मुख्य सचिवों की यह बैठक हुई थी। गौरतलब है कि दोनों राज्यों की सेनाओं के बीच भीषण मुठभेड़ में असम पुलिस के पांच कर्मियों और एक नागरिक की मौत हो गई थी। एक घायल पुलिसकर्मी ने बाद में दम तोड़ दिया जिससे मारे गए पुलिसकर्मियों की कुल संख्या छह हो गई थी। घटना में कम से कम 50 लोग घायल हो गए थे।

असम और मेघालय के बीच हैं कई विवाद

मई 2021 में हिमंत बिस्वा सरमा के पद संभालने के बाद से सीमा मुद्दे पर उनके और मेघालय के मुख्यमंत्री कॉनराड संगमा के बीच मुख्यमंत्री स्तर की कई वार्ता हो चुकी है। इसके साथ ही दोनों राज्य की सरकारों ने पिछले साल अगस्त माह में जटिल सीमा विवादों को चरणबद्ध तरीके से हल करने के लिए तीन समितियों का गठन भी किया था।

Edited By Mahen Khanna

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept