एमआइटी में पढ़ाई का खर्चा: 50 लाख से अधिक है बजट तो पढ़ सकते हैं विश्व की नंबर 1 यूनिवर्सिटी में

MIT Fee 2022 विश्व भर के विभिन्न विश्वविद्यालयों की क्यूएस रैंकिंग में लगभग हर साल पहला स्थान प्राप्त करने वाले मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में पढ़ाई करने के लिए छात्रों को 50 लाख रुपये से अधिक का बजट बनाना होगा।

Rishi SonwalPublish: Thu, 26 May 2022 12:03 PM (IST)Updated: Thu, 26 May 2022 12:05 PM (IST)
एमआइटी में पढ़ाई का खर्चा: 50 लाख से अधिक है बजट तो पढ़ सकते हैं विश्व की नंबर 1 यूनिवर्सिटी में

नई दिल्ली, एजुकेशन डेस्क। लगभग हर छात्र की चाहत होती है कि वे विश्व की टॉप यूनिवर्सिटी में पढ़ाई कर सके। एमआइटी या किसी अन्य विदेशी विश्वविद्यालय में पढ़ाई वित्तीय संसाधनों की कमी के चलते हर किसी के बस की बात नहीं है, तो दूसरी ओर कई पैरेंट्स इतने सक्षम होते हैं कि वे अपने बच्चों को विदेशों में शिक्षा दिला सकें, लेकिन वे कोर्स, फीस, योग्यता, आदि की जानकारी के आभाव में आवेदन भी नहीं कर पाते हैं। ऐसे ही छात्रों की मदद के लिए आज हम आपको बताते हैं कि विश्व की नंबर वन यूनिवर्सिटी - मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमएआइटी) में दाखिले पर कितना खर्च आता है।

एमआइटी की फीस

संयुक्त राज्य अमरिका (यूएसए) के मैसाचुसेट्स राज्य के कैंब्रिज शहर में स्थित मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (एमआइटी) को विश्व के विश्वविद्यालयों की ग्लोबल रैंकिंग जारी करने वाले Quacquarelli Symonds (QS) द्वारा हर लगभग हर वर्ष पहला स्थान दिया जाता है। एमआइटी द्वारा विभिन्न स्ट्रीम में 7 माह से लेकर 5 वर्ष तक की अवधि के अंडर-ग्रेजुएट, ग्रेजुएट और शोध स्तर के पाठ्यक्रमों का संचालन किया जाता है। इन पाठ्यक्रमों की फीस 50 हजार से 80 हजार अमेरिकी डॉलर के बीच यानि कि 39 लाख से 60 लाख के बीच होती है। इनमें से यूजी की फीस पीजी की तुलना में अधिक होती है। जहां, अंडर-ग्रेजुएट कोर्सेस की फीस 70 से 77 हजार यूएस डॉलर के बीच यानि 52 से 57 लाख रुपये होती है, तो वहीं पीजी की फीस 52 से 57 हजार यूएस डॉलर अर्थात यानि 39 से 42 लाख के बीच होती है।

यह भी पढ़ें - विश्व की नंबर वन यूनिवर्सिटी एमआइटी में 100 आवेदकों में से 6 को मिलता है दाखिला; जानें कोर्सेस, फीस, खर्च और औसत पैकेज

एमआइटी में दाखिले के बाद अन्य खर्च

मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में दाखिले के बाद फीस के अतिरिक्त छात्रों को रहने, खाने, किताबों और स्टेशनरी, आदि पर भी खर्च करना होगा। एमआइटी में ऑन-कैंपस रहने व खाने का खर्चा 12 लाख रुपये तक आ जाता है, जबकि ऑफ-कैंपस में 6 लाख रुपये में भी काम चल सकता है। इसके अतिरिक्त स्टूडेंट्स को 2 लाख या अधिक रुपयों की जरूरत बुक्स, स्टेशनरी और अन्य के लिए होती है।

Edited By Rishi Sonwal

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept