Liquor Ban In MP: मध्य प्रदेश में शराबबंदी के लिए 14 फरवरी से अभियान शुरू करेंगी उमा भारती

Liquor Ban In MP उमा भारती मध्य प्रदेश में शराबबंदी-नशाबंदी अभियान 14 फरवरी से शुरू करेंगी। यह जानकारी उन्होंने एक के बाद एक कुल छह ट्वीट कर दी। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में नशाबंदी होकर रहेगी। यह अभियान सरकार के खिलाफ नहीं बल्कि शराब और नशा के विरुद्ध है।

Sachin Kumar MishraPublish: Fri, 21 Jan 2022 07:33 PM (IST)Updated: Fri, 21 Jan 2022 09:36 PM (IST)
Liquor Ban In MP: मध्य प्रदेश में शराबबंदी के लिए 14 फरवरी से अभियान शुरू करेंगी उमा भारती

भोपाल, जेएनएन। पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती मध्य प्रदेश में शराबबंदी-नशाबंदी अभियान 14 फरवरी से शुरू करेंगी। यह जानकारी उन्होंने शुक्रवार को एक के बाद एक कुल छह ट्वीट कर दी। उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश में नशाबंदी होकर रहेगी। यह अभियान सरकार के खिलाफ नहीं बल्कि शराब और नशा के विरुद्ध है। भाजपा-कांग्रेस और सरकार में बैठे कुछ लोगों को समझा पाना भी कठिन काम है। उमा भारती ने कहा कि अभियान को लेकर पहले चरण की चर्चा राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के वरिष्ठ स्वयं सेवकों, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष विष्णुदत्त शर्मा और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से हो चुकी है। उन्होंने कहा कि कठिनाई के कुछ हिस्से अभी भी मौजूद हैं। इस कारण अभियान की शुरुआत से पूर्णता तक मुझे स्वयं पूरी तरह से सजग व संलग्न रहना होगा। इसके लिए मैं तैयार हूं। उल्लेखनीय है कि उमा भारती ने इससे पहले भी शराबबंदी अभियान शुरू करने की घोषणा की थी। हालांकि, मुख्यमंत्री से चर्चा के बाद उन्होंने अभियान शुरू नहीं किया था। फिर उन्होंने दो फरवरी 2021 को ट्वीट किया था कि वे महिला दिवस (आठ मार्च 2021) से प्रदेश में नशामुक्ति अभियान शुरू करेंगी। इसके बाद सितंबर 2021 में उन्होंने फिर शराबबंदी को लेकर बयान दिया था।

साध्वी प्रज्ञा ठाकुर ने कहा- कम मात्रा में शराब औषधि है, अधिक में जहर

भोपाल से सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने गुरुवार को कहा कि कम मात्रा में शराब औषधि का काम करती है और अधिक मात्रा में जहर का। जैसे कुछ पीने की दवाओं में भी एल्कोहल की मात्रा रहती है, जो औषधि का काम करती है। साध्वी ठाकुर ने मप्र की पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के प्रदेश में शराबबंदी के अभियान के संकल्प का समर्थन किया। साध्वी ने कहा कि उमा हमेशा तर्कपूर्ण बातें करती हैं। प्रदेश में शराबबंदी होनी चाहिए। रोजाना शराब पीने से पुरुष नशे की लत के आदी हो जाते हैं। नशे में पत्नी व बच्चों के साथ मारपीट करते हैं। कई घर शराब के कारण टूट गए हैं। साध्वी ने रतलाम के गांव सुराना में मुस्लिम समुदाय द्वारा हिंदुओं को परेशान करने पर कहा कि सभी धर्मों को सद्भावना के साथ रहना चाहिए। यदि कोई समस्या है तो शासन-प्रशासन स्तर पर निराकरण किया जाना चाहिए। पलायन करने की कोई जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने सांप्रदायिक सद्भावना बिगाड़ने का काम किया है। साध्वी के बयान पर प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने ट्वीट करके कहा कि सांसद शराब का नहीं, उसकी मात्रा का विरोध कर रही हैं। लगता है कि पूरी भाजपा प्रदेश को शराब में डुबाने में लगी हुई है। शराब सस्ती की जा रही है।

लोग नकली न खरीदें, इसलिए सस्ती की गई है शराब: भाजपा सांसद

मध्य प्रदेश की नई आबकारी नीति से शराब की कीमत कम होने पर गुना से भाजपा सांसद और भाजपा के प्रदेश प्रवक्ता डा. केपी यादव ने कहा कि ऐसा इसलिए किया गया है, ताकि लोग नकली शराब न खरीदें। उन्होंने भिंड में मिलावटी शराब से हुई चार लोगों की मौत का उदाहरण देते हुए कहा कि नकली शराब के कारण एक भी दुर्घटना में अगर किसी की जान जाती है, तो दर्द उसके घर वाले ही समझ सकते हैं। केपी यादव ने बुधवार को यह अजीब सफाई मीडिया से चर्चा में दी। केपी यादव ने यह भी कहा कि लोग कहीं न कहीं से तो शराब लेंगे। नकली शराब बनती है, तो इससे दुर्घटनाएं हो जाती हैं। यह इन्हें रोकने का प्रयास है। उन्होंने यह भी कहा कि नशा मुक्ति के लिए भी लोगों को जागरूक किया जा रहा है। उल्लेखनीय है कि मध्य प्रदेश की शिवराज कैबिनेट ने मंगलवार को नई आबकारी नीति को मंजूरी दी। इसमें शराब सस्ती करने करने के लिए ड्यूटी और विक्रेता का लाभ कम किए जाने का प्रविधान है। इससे शराब 20 प्रतिशत तक सस्ती हो सकती है। यह नीति एक अप्रैल से लागू होगी।

Edited By Sachin Kumar Mishra

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.Accept