कोरोना के कारण ब्रिटेन ने गैर-आवश्यक अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर लगाया प्रतिबंध, 17 मई से पहले नहीं मिलेगी अनुमति

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन। (फोटो- एएनआइ)

कोरोना महामारी के मद्देनजर ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सोमवार को लगभग 17 मई तक गैर-आवश्यक अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की। महामारी से यात्रा और विमानन क्षेत्र पर सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ा है लेकिन कोरोना के नए स्ट्रेन के कारण यह प्रतिबंध लगाए गए हैं।

TaniskTue, 23 Feb 2021 09:24 AM (IST)

लंदन, एएनआइ। कोरोना महामारी के मद्देनजर, ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने सोमवार को गैर-आवश्यक अंतरराष्ट्रीय यात्रा पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि 17 मई से पहले इसकी अनुमति नहीं दी जाएगी। महामारी से यात्रा और विमानन क्षेत्र पर सबसे ज्यादा प्रभाव पड़ा है, लेकिन कोरोना के नए स्ट्रेन के कारण यह प्रतिबंध लगाए गए हैं। लॉकडाउन के रोडमैप पर उन्होंने कहा कि यह रोडमैप के दूसरे चरण का हिस्सा है और यह आठ मार्च को लागू होने वाले रोडमैप के पहले चरण के कम से कम पांच सप्ताह के बाद लागू होगा।

हालांकि प्रधानमंत्री और उनके सलाहकार इसपर आखिरी फैसला लेंगे। अगर उन्हें आवश्यक लगा तो वे इसे स्थगित भी कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि 17 मई से पहले अंतरराष्ट्रीय छुट्टियों की अनुमति नहीं दी जाएगी। जॉनसन ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय यात्राएं सुरक्षित तरीके से फिर से शुरू करने को लेकर सरकार की ग्लोबल ट्रैवल टास्कफोर्स 12 अप्रैल तक एक रिपोर्ट जारी करने की सिफारिश करेगी। इससे लोगों को गर्मियों के लिए अपनी योजना बनाने के लिए समय मिलेगा।

विमानन क्षेत्र से जुड़े लोगों ने इसे लेकर प्रतिक्रिया दी है। स्काई न्यूज के अनुसार एयरपोर्ट ऑपरेटर्स एसोसिएशन के मुख्य कार्यकारी करेन डे ने कहा कि 2020 में सबसे ज्यादा प्रभावित होने आर्थिक क्षेत्र होने के बाद इस फैसले से यह सुनिश्चित हो गया कि 2021 में भी स्थिति नहीं सुधरेगी। ब्रिटिश एयरवेज के मुख्य कार्यकारी अधिकारी सीन डॉयल ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि हम यात्रा को फिर से शुरू करने का एक तरीका देखें। हम एक डेटा पर आधारित दृष्टिकोण का समर्थन करते हैं, जो सार्वजनिक स्वास्थ्य की सुरक्षा को लेकर है। हम एक रोड मैप पर अब सरकार के टास्क फोर्स के साथ काम करना चाहते हैं, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि विमानन क्षेत्र महामारी से उबरने में ब्रिटेन को समर्थन देने के लिए मजबूत स्थिति में हो। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.