वेबसाइट के खिलाफ एक मुकदमे में मेघन मार्केल को मिली जीत, निजी बातें सार्वजनिक करने पर किया था केस

मेघन मार्केल को एक अखबार के खिलाफ निजता संबंधी एक मुकदमे में जीत हासिल हुई है। यह मुकदमा उनके अपने अलग हो चुके पिता को लिखी चिट्ठियों को प्रकाशित कर उनकी निजी बातों को सार्वजनिक करने के संबंध में है।

Amit SinghThu, 02 Dec 2021 07:05 PM (IST)
वेबसाइट के खिलाफ एक मुकदमे में मेघन मार्केल को मिली जीत

लंदन, रायटर: ब्रिटेन के प्रिंस हैरी की पत्नी और डचेस आफ सुसेक्स मेघन मार्केल को एक अखबार के खिलाफ निजता संबंधी एक मुकदमे में जीत हासिल हुई है। यह मुकदमा उनके अपने अलग हो चुके पिता को लिखी चिट्ठियों को प्रकाशित कर उनकी निजी बातों को सार्वजनिक करने के संबंध में है। लंदन की एक अपीली अदालत ने फरवरी में दिए हाई कोर्ट के फैसले को पलटते हुए कहा कि वर्ष 2018 में प्रिंस हैरी से शादी होने के बाद अमेरिकी अभिनेत्री मेघन की ओर से अपने पिता थामस मार्केल को लिखे पत्रों को प्रकाशित करना गैरकानूनी और उनकी निजता का उल्लंघन है।

प्रकाशकों ने दी थी चुनौती

'मेल आन संडे' और 'मेलआनलाइन' वेबसाइट के प्रकाशकों ने अदालत के फैसले को चुनौती दी थी जिस पर पिछले महीने भी सुनवाई हुई थी। गुरुवार को इस अपील को खारिज करते हुए वरिष्ठ जज जेफरी वास ने संक्षिप्त सुनवाई के बाद कहा, 'पत्र की विषय सामग्री को लेकर डचेस मेघन की निजता बनाए रखने की अपेक्षा उचित है। उनके पत्र में लिखी बातें पूरी तरह से निजी थीं और इसमें ऐसा कुछ भी नहीं था जिसमें जनहित हो।'

कोर्ट का फैसला सबकी जीत

इस फैसले के बाद पूर्व अमेरिकी अभिनेत्री 40 वर्षीय मेघन ने एक बयान जारी करके कहा कि यह फैसला सिर्फ उनकी जीत नहीं है बल्कि उन सभी लोगों की हिम्मत बढ़ाता है जो कभी अपने अधिकारों के लिए खड़े होने में घबरा गए थे। उन्होंने कहा कि इस जीत से यह धारणा भी बनती है कि हम सब अब टेबुलाइट इंडस्ट्री को नया रूप देने जितने बहादुर हो गए हैं, जो लोगों को क्रूर होने के लिए विवश करती है। वह अपने फायदे के लिए झूठ गढ़ते हैं और लोगों को दर्द देते हैं।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.