ब्रिटेन के एशियाई धनकुबेरों में हिंदुजा परिवार फिर शीर्ष पर, एक साल में 5 अरब पाउंड से ज्यादा मुनाफा

लंदन, प्रेट्र। लंदन स्थित दिग्गज एनआरआइ उद्योगपतियों में शामिल हिंदुजा परिवार ने 'एशियन रिच लिस्ट 2019' में अपना शीर्ष स्थान लगातार छठे वर्ष बरकरार रखा है। इस वर्ष हिंदुजा परिवार की संपत्ति 25.2 अरब पाउंड (90 रुपये प्रति पाउंड के हिसाब से लगभग 2.26 लाख करोड़ रुपये) आंकी गई है। पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष हिंदुजा परिवार की संपत्ति में लगभग तीन अरब पाउंड (करीब 27,000 करोड़ रुपये) का इजाफा हुआ है।

एशियन बिजनेस अवॉ‌र्ड्स के दौरान शुक्रवार देर शाम को ब्रिटेन में रह रहे 101 सबसे बड़े एशियाई धनकुबेरों की यह सूची जारी की गई। इसे ब्रिटेन में भारत की उच्चायुक्त रुचि घनश्याम ने जारी किया। सूची के मुताबिक इस वर्ष के आकलन के मुताबिक सूची के सभी 101 एशियाई धनकुबेरों की संयुक्त संपत्ति 85.2 अरब पाउंड पर पहुंच गई है। सूची के बारे में एशियन मार्केटिंग ग्रुप (एएमजी) के कार्यकारी संपादक शैलेष सोलंकी ने कहा कि विशेषज्ञों की एक टीम ने यह सूची तैयार की है। यह ब्रिटेन में एशियाई संपत्ति के बारे में सटीक जानकारी देती है।

सूची में शामिल सभी 101 धनकुबेरों की संपत्ति में पिछले 12 महीनों के दौरान पांच अरब पाउंड से ज्यादा का इजाफा हुआ है। इस वर्ष की सूची में सात नए नामों ने जगह बनाने में कामयाबी हासिल की है। इनमें होटल कारोबारी जोगिंदर सैंगर और उनके पुत्र गिरीष सैंगर का भी नाम है, जिन्होंने संयुक्त रूप से 30 करोड़ पाउंड संपत्ति के साथ सूची में 40वां स्थान हासिल किया है।

स्टील दिग्गज लक्ष्मी निवास मित्तल और उनके पुत्र आदित्य मित्तल दूसरे स्थान पर बने रहे हैं। हालांकि पिछले वर्ष के मुकाबले उनकी संपत्ति 2.8 अरब पाउंड घटकर 11.2 अरब पाउंड रह गई है। पेट्रोकेमिकल्स का कारोबार कर रहे एसपी लोहिया ने 5.8 अरब पाउंड संपत्ति के साथ तीसरा स्थान हासिल किया। अग्रणी एनआरआइ कारोबारी लॉर्ड स्वराज पॉल 90 करोड़ पाउंड की संपत्ति के साथ 17वें स्थान पर रहे हैं। पिछले 12 महीनों में उनकी संपत्ति में लगभग 10 करोड़ पाउंड का इजाफा हुआ है।

इस मौके पर हिंदुजा ग्रुप के को-चेयरमैन गोपी चंद हिंदुजा ने कहा कि हमारा सारा कारोबार इस वक्त के उभरते क्षेत्रों में है। हमारा फोकस बैंकिंग और फाइनेंशियल सेवाओं, हेल्थकेयर और जन-सरोकार पर है। उन्होंने कहा कि भारत में ग्रुप ने अपनी कार और बस निर्माता कंपनी अशोक लेलैंड में 1,000 करोड़ रुपये का निवेश किया है। गौरतलब है कि गोपी चंद हिंदुजा के छोटे पुत्र धीरज हिंदुजा अशोक लेलैंड के चेयरमैन हैं।

कंपनी ने हाल ही में चेन्नई के एन्नोर स्थित अपने संयंत्र में एक अत्याधुनिक इलेक्टि्रक वाहन फैसिलिटी शुरू की है। कंपनी अपनी बसों में बैटरी चालित टेक्नोलॉजी पेश कर रही है। हिंदुजा का कहना था कि उनके सभी कारोबार इस वक्त तकनीकी बदलाव के दौर से गुजर रहे हैं। हिंदुजा ग्लोबल सॉल्यूशंस (एचजीएस) अमेरिका में कर्मचारियों की संख्या बढ़ा रही है। वहां कंपनी फ्लोरिडा में इस वर्ष जून तक एक सेंटर स्थापित करेगी, जहां 600 कर्मियों को रोजगार दिया जाएगा। गौरतलब है कि एचटीएमटी की रीब्रांडिंग करके उसे एचजीएस नाम दिया गया है, जिसका परिचालन 12 देशों में है। इनमें फिलीपींस, अमेरिका, ब्रिटेन, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, नीदरलैंड्स, इटली, मॉरीशस, संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) एवं जमैका शामिल हैं।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.