यूरोप और और इंडोनेशिया में एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के इस्तेमाल की अनुमति, फिनलैंड ने लगाई रोक

फिनलैंड ने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के इस्तेमाल पर रोक लगाई।

इंडोनेशिया की फूड एंड ड्रग एजेंसी ने शुक्रवार को कहा कि उसने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन से यूरोप के कुछ लाभार्थियों में रक्त के थक्के की शिकायतों से संबंधित रिपोर्ट की समीक्षा के बाद वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है।

Manish PandeySat, 20 Mar 2021 08:08 AM (IST)

वारसॉ, एपी। यूरोपीय संघ के ज्यादातर देशों और इंडोनेशिया में ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन के इस्तेमाल को फिर अनुमति दे दी है। वैक्सीन लेने के बाद कुछ लोगों में खून के थक्के की शिकायत के बाद फ्रांस, जर्मनी, स्पेन और इटली समेत कुछ देशों ने इसके इस्तेमाल पर रोक लगा दी थी।

यूरोपीय संघ के औषधि एजेंसी ने गुरुवार को कहा था कि इसके कोई सुबूत नहीं मिले हैं कि वैक्सीन के इस्तेमाल से खून के थक्कों यानी ब्लड क्लॉटिंग के मामले हैं। हालांकि, एजेंसी ने कुछ दुर्लभ क्लॉटिंग और वैक्सीन के बीच संबंध को खारिज भी नहीं किया था। इटली के स्वास्थ्य मंत्रालय से जुड़ी डॉ. गिओवानी रेजा ने कहा कि वैक्सीन से पाबंदी हटने से बड़ी राहत मिली है। अब टीकाकरण अभियान को और तेजी के साथ शुरू किया जा सकेगा।

वहीं, इंडोनेशिया की फूड एंड ड्रग एजेंसी ने शुक्रवार को कहा कि उसने एस्ट्राजेनेका वैक्सीन से यूरोप के कुछ लाभार्थियों में रक्त के थक्के की शिकायतों से संबंधित रिपोर्ट की समीक्षा के बाद वैक्सीन के इस्तेमाल को मंजूरी दे दी है। एजेंसी ने कहा कि एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को लेने के फायदे ज्यादा हैं, जोखिम कम, इसलिए इसका इस्तेमाल शुरू किया सकता है।

हालांकि, वैज्ञानिकों की टीम एस्ट्राजेनेका वैक्सीन को लेकर जांच में जुटे हुई है। टीम को ऐसी 18 रिपोर्ट मिली है, जिसमें दावा किया जा रहा है कि वैक्सीन लेने के कुछ हफ्तों बाद लोगों में खुन का थक्का देखा जा रहा है ,लेकिन कई वैज्ञानिकों का कहना है कि इस बात का कोई निश्चित प्रमाण नहीं मिला है।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.