top menutop menutop menu

ट्रेन-बस टक्कर में मारे गए 21 सिखों के परिवार को एक करोड़ देगा पाकिस्तान

पेशावर, प्रेट्र। पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत की सरकार ने बुधवार को उन 21 सिख तीर्थ यात्रियों के परिवारों को एक करोड़ रुपये की मदद देने की घोषणा की है, जिनकी पिछले सप्ताह ट्रेन-बस की टक्कर में मौत हो गई थी।भाई जोग सिंह गुरुद्वारा पहुंचे खैबर पख्तूनख्वा के मुख्यमंत्री के विशेष सहयोगी वजीर जादा ने हादसे पर दुख जताया और मुआवजे की घोषणा की।

पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के शेखपुरा जिले में शुक्रवार को ट्रेन से मिनी बस की टक्कर हो गई थी। इसमें 21 सिख तीर्थ यात्रियों की मौत हो गई थी। उन्होंने कहा कि मारे गए सभी लोगों के परिजनों को पांच-पांच लाख रुपये का मुआवजा दिया जाएगा। भारत में भी शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी ने पाकिस्तान में मारे गए सिख तीर्थ यात्रियों के परिजनों को एक-एक लाख रुपये देने की घोषणा की है। कमेटी घायलों को भी 50-50 हजार रुपये का मुआवजा देगी।

पाकिस्तान में पीआइए के 34 और पायलटों के लाइसेंस निलंबित

पाकिस्तान विमानन प्राधिकरण ने पाकिस्तान इंटरनेशल एयरलाइंस (पीआइए) के 34 और पायलटों के लाइसेंस निलंबित कर दिए हैं। प्राधिकरण ने यह कदम फर्जी डिग्री रखने के संदेह में उठाया है। पायलटों के खिलाफ चल रही जांच पूरी होने तक लाइसेंस निलंबित रहेंगे। ध्यान रहे कि पिछले हफ्ते पीआइए ने फर्जी डिग्री समेत विभिन्न आरोपों पर 52 कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी थीं। नेशनल असेंबली में इस बात का रहस्योद्घाटन हुआ था कि कुछ पायलटों के पास 'संदिग्ध और फर्जी लाइसेंस' हैं। जिसके बाद पीआइए ने 140 से ज्यादा पायलटों को विमान उड़ाने से रोक दिया था।मीडिया की खबरों में बताया गया है कि फर्जी लाइसेंस की रिपोर्टो के बाद यूरोपीय संघ विमानन सुरक्षा एजेंसी (ईएएसए) ने मंगलवार को अपने 32 सदस्यों राष्ट्रों को आदेश दिया कि वे पाकिस्तानी पायलटों को काम करने से रोक दें। ईएएसए ने अपने सदस्य राष्ट्रों से पाकिस्तानी पायलटों का विवरण मांगा है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.