काबुल के लिए कमर्शियल फ्लाइट्स का संचालन फिर से शरू करने जा रहा है पाकिस्तान

पीआईए के प्रवक्ता अब्दुल्ला हाफीज खान ने कहा कि पाकिस्तान को उड़ान संचालन के लिए सभी तकनीकी मंजूरी मिल गई है और एक एयरबस ए 320 जेट यात्रियों को इस्लामाबाद से काबुल ले जाएगा। काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद यह पहली फ्लाइट होगी।

Neel RajputSun, 12 Sep 2021 11:19 AM (IST)
काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद से बंद थीं फ्लाइट्स

इस्लामाबाद, आइएएनएस। पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस (PIA) ने घोषणा की है कि उसने सोमवार से काबुल के लिए वाणिज्यिक उड़ानों का संचालन फिर से शुरू करने का फैसला किया है। पीआईए के सीईओ अरशद मलिक ने शनिवार को समाचार एजेंसी सिन्हुआ को यह जानकारी दी है। मलिक ने कहा कि पहली उड़ान सोमवार को इस्लामाबाद से अफगानिस्तान की राजधानी काबुल के लिए रवाना होगी। काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद यह पहली फ्लाइट होगी।

पीआईए के अधिकारी ने कहा कि काबुल हवाई अड्डे पर फ्लाइट के उतरने के लिए अनुमति अफगानिस्तान के नागरिक उड्डयन प्राधिकरण की ओर से दी गई है। इस बीच, पीआईए के प्रवक्ता अब्दुल्ला हाफीज खान ने कहा कि पाकिस्तान को उड़ान संचालन के लिए सभी तकनीकी मंजूरी मिल गई है, और एक एयरबस ए 320 जेट यात्रियों को इस्लामाबाद से काबुल ले जाएगा। पिछले महीने काबुल पर तालिबान के कब्जे के बाद, पीआईए ने अफगानिस्तान की राजधानी में अपना अभियान अस्थायी रूप से स्थगित कर दिया था।

पाकिस्तानी आतंकी को एनआइए कोर्ट ने सुनाई सात साल की सजा

यहां की एक विशेष एनआइए अदालत ने शुक्रवार को लश्कर-ए-तैयबा के एक पाकिस्तानी आतंकवादी को सीमा पार से अपने आकाओं के निर्देश पर भारत में आतंकी हमले की साजिश रचने के मामले में सात साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई। एनआइए के एक अधिकारी ने कहा, कराची के मुहम्मद आमिर को गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम, शस्त्र अधिनियम, विस्फोटक पदार्थ अधिनियम, विदेशी अधिनियम, भारतीय वायरलेस टेलीग्राफी अधिनियम और भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत सजा सुनाई गई। एनआइए अधिकारी ने कहा कि आमिर ने तीन अन्य लोगों के साथ सीमा पार स्थित अपने आकाओं के निर्देश पर भारत के विभिन्न स्थानों पर आतंकी हमले करने के इरादे से हथियारों, गोला-बारूद और अन्य युद्धक सामग्री के साथ पाकिस्तान से भारत में घुसपैठ की थी। उसे नवंबर 2017 में जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा के मगम से गिरफ्तार किया गया था, जबकि उसके तीन साथी उसी महीने सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ में मारे गए थे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.