पाक राष्ट्रपति आरिफ अल्वी पर लगा पद के दुरुपयोग करने का आरोप, सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल

पाकिस्तान के राष्ट्रपति डा. आरिफ अल्वी पर अपने पद का दुरुपयोग करने के आरोप लगाए जा रहे हैं। खबरों है कि उन्होंने अपने पद का इस्तेमाल पारिवारिक बिजनेस को फायदा पहुंचाने के लिए किया है। तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है।

Amit SinghPublish:Tue, 30 Nov 2021 07:19 PM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 08:59 PM (IST)
पाक राष्ट्रपति आरिफ अल्वी पर लगा पद के दुरुपयोग करने का आरोप, सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल
पाक राष्ट्रपति आरिफ अल्वी पर लगा पद के दुरुपयोग करने का आरोप, सोशल मीडिया पर तस्वीर वायरल

लाहौर, एजेंसियां: पाकिस्तान के राष्ट्रपति डा. आरिफ अल्वी पर अपने पद का दुरुपयोग करने के आरोप लगाए जा रहे हैं। खबरों के मुताबिक, उन्होंने अपने पद का इस्तेमाल पारिवारिक बिजनेस को फायदा पहुंचाने के लिए किया है। दरअसल एक व्यवसायिक कार्यक्रम में शामिल होने पहुंचे डा. आरिफ अल्वी की फोटो पाक सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, जिसके बाद से उनके ऊपर तमाम तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं।

जियो न्यूज की एक रिपोर्ट के मुताबिक, पाक राष्ट्रपति के बेटे डा. अवाब अल्वी ने हाल ही में ट्विटर पर यह घोषणा की थी कि, उनके पारिवारिक बिजनेस, अल्वी डेंटल ने ब्रिंगिंग स्माइल्स यूएसए के साथ एक समझौते (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए हैं। साथ ही उन्होंने लिखा कि, दोनों कंपनियां पाकिस्तान में दांत संबंधी सस्ता इलाज उपलब्ध कराने के लिए अस्पतालों की चेन खोलेगी। इसी समारोह की एक तस्वीर पाकिस्तान में सोशल मीडिया पर वायरल हो गई, जिसमें राष्ट्रपति की उपस्थिति दिखाई दे रही है। जिसके बाद से राष्ट्रपति द्वारा अपने पारिवारिक व्यवसाय को फायदा पहुंचाने के लिए अपने आधिकारिक पद का उपयोग करने के बारे में सवाल उठाए जा रहे हैं। जबकि कुछ लोगों का कहना है कि, यह केवल एक पारिवारिक दायित्व था।

आपको बतादें, अल्वी डेंटल राष्ट्रपति के बेटे द्वारा संचालित एक निजी डेन्टल अस्पताल है। 2018 में राष्ट्रपति चुने जाने के बाद डा. आरिफ अल्वी ने अस्पताल से इस्तीफा दे दिया था। लाहौर स्थित एक वकील असद रहीम खान के मुताबिक यह एक निजी व्यवसाय समारोह था, इसमें राष्ट्रपति की उपस्थिति गैर संवैधानिक है। गौरतलब है कि, पाकिस्तान का इतिहास रहा है कि फील्ड मार्शल अयूब के बाद से, परिवार के सदस्यों को राष्ट्रपति पद से निकटता का फायदा हुआ है। पाक में इस प्रथा का विरोध राष्ट्रपति अल्वी ने किया था, लेकिन अब उसके विपरीत नजर आ रहा है।