सीनेट चुनाव में शेख की हार के बाद बौखलाए पीएम इमरान की विपक्षी नेताओं को चेतावनी, जानें क्‍या कहा

इमरान खान ने सीनेट चुनाव में वित्त मंत्री की हार के बाद विश्वास मत हासिल करने का फैसला किया है।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने बुधवार को सीनेट चुनाव में अपने वित्त मंत्री की हार के बाद संसद में विश्वास मत हासिल करने का फैसला किया है। इमरान यहीं नहीं रुके उन्‍होंने विपक्षी नेताओं को चेतावनी भी दी...

Krishna Bihari SinghThu, 04 Mar 2021 09:19 PM (IST)

इस्‍लामाबाद, एजेंसियां। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran Khan) ने बुधवार को सीनेट चुनाव में अपने वित्त मंत्री की हार के बाद संसद में विश्वास मत हासिल करने का फैसला किया है। समाचार एजेंसी एएनआइ के मुताबिक उन्‍होंने गुरुवार को कहा कि मैंने विश्वास मत लेने का फैसला किया है। यह कोई मसला नहीं है कि मैं विपक्ष में बैठूं या संसद से बाहर रहूं। मैं आप (विपक्षी नेताओं) को तब तक नहीं छोड़ूंगा जब तक आप इस मुल्‍क का पाई-पाई वापस नहीं लौटा देते।  

राष्ट्र के नाम संदेश में इमरान ने विपक्ष पर सीनेट चुनाव में अव्यवस्था पैदा करने और लोकतंत्र का मजाक उड़ाने का आरोप लगाया। इमरान खान ने कहा, 'चुनाव आयोग की जिम्मेदारी बनती है कि वह विपक्ष की भूमिका पर से पर्दा हटाए। जब चुनाव को पारदर्शी तरीके से कराने की आयोग की जिम्मेदारी थी, तब गोपनीय मतदान की व्यवस्था क्यों बनाई गई ? इमरान ने कहा, विपक्ष ने सारा ड्रामा हफीज शेख को हराने के लिए रचा, जिससे सरकार को घेरा जा सके। विपक्ष की साजिश का पर्दाफाश करने के लिए ही सरकार विश्वास प्रस्ताव पेश करेगी।'

पाकिस्तान की इमरान खान सरकार शनिवार को संसद में विश्वास मत प्राप्त करने के लिए प्रस्ताव पेश करेगी। बुधवार को सीनेट के चुनाव में वित्त मंत्री अब्दुल हफीज शेख की हार से दबाव में आई सरकार इस कदम से खुद को बहुमत में साबित करने की कोशिश करेगी। प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस आशय की घोषणा गुरुवार को की। कहा, विश्वास मत के दौरान खुले में मत दिए जाएंगे। उनकी पार्टी और सहयोगी दलों के जो सांसद सरकार के खिलाफ मतदान करना चाहें, कर सकते हैं। इस बीच विपक्ष ने प्रधानमंत्री से अविलंब इस्तीफे की मांग की है। 

विदित हो कि बुधवार को हुए सीनेट के चुनाव में इमरान के खास हफीज शेख संयुक्त विपक्ष के प्रत्याशी पूर्व प्रधानमंत्री यूसुफ रजा गिलानी से हार गए थे। इसे सरकार के बहुमत खो देने के संकेत के रूप में पेश किया गया। इसी के बाद सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआइ) पार्टी ने एकमत से फैसला किया कि प्रधानमंत्री नेशनल असेंबली में विश्वास मत पाने के लिए प्रस्ताव पेश करेंगे, नतीजा कुछ भी हो। विश्वास मत को लेकर चल रही चर्चा के बीच सीनेट के चेयरमैन पद के लिए इमरान ने पीटीआइ की ओर से सादिक संजरानी के नाम की उम्मीदवारी घोषित की है। चुनाव 12 मार्च को होगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.