पाकिस्तानी अल्पसंख्यक सांसदों के दल ने ध्वस्त मंदिर का लिया जायजा, कहा- दोषियों को दी जाएगी सजा

पाकिस्तान के खैबर पख्तूंख्वा प्रांत में जलाया गया था मंदिर

धार्मिक और अल्पसंख्यक मामलों की संसदीय सचिव स्नेहनेला रावत ने बताया कि पाकिस्तान सरकार ने इस मामले को बेहद गंभीरता से लिया है। दोषियों को सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस घृणित अपराध के बाद पाकिस्तान सरकार की कार्रवाई से यहां के अल्पसंख्यक संतुष्ट हैं।

Publish Date:Tue, 12 Jan 2021 10:00 PM (IST) Author: Dhyanendra Singh Chauhan

पेशावर, प्रेट्र । पाकिस्तान के खैबर पख्तूंख्वा प्रांत में पिछले हफ्ते कट्टरपंथियों की भीड़ के हाथों ध्वस्त कर जलाए गए हिंदुओं के मंदिर का जायजा लेने के लिए पाकिस्तान के अल्पसंख्यक समुदाय के सांसदों का एक प्रतिनिधिमंडल गया है।

मंगलवार को धार्मिक और अल्पसंख्यक मामलों की संसदीय सचिव स्नेहनेला रावत के नेतृत्व में अल्पसंख्यक समुदाय के सांसदों ने घटनास्थल का दौरा किया। इस दल में विभिन्न दलों के लोग शामिल हैं।

दोषियों को दी जाएगी सजा

रावत ने बताया कि पाकिस्तान सरकार ने इस मामले को बेहद गंभीरता से लिया है। दोषियों को सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा कि इस घृणित अपराध के बाद पाकिस्तान सरकार की कार्रवाई से यहां के अल्पसंख्यक संतुष्ट हैं। उन्होंने धार्मिक सद्भावना बनाए रखने के लिए सोशल मीडिया का भी धन्यवाद दिया।

बता दें कि पाकिस्तान की पुलिस ने शुक्रवार को मंदिर जलाने के मुख्य आरोपित को गिरफ्तार करने का दावा किया था। उसकी पहचान फैजुल्लाह के रूप में की गई है।

इस मामले में अब तक 110 लोगों को किया गया गिरफ्तार

पुलिस ने दावा किया है कि फैजुल्लाह ने ही भीड़ को भड़का कर मंदिर तोड़ने के लिए उकसाया था और मंदिर तोड़ने वाली हिंसक भीड़ का नेतृत्व किया था। इस पूरे मामले की जांच करते हुए पुलिस ने बताया कि इस मामले में अब तक 110 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

गौरतलब है कि करक जिले के टेरी गांव में हुई इस शर्मनाक घटना में धर्मगुरु परमहंस की समाधि को तबाह करने के बाद मंदिर में जमकर तोड़फोड़ की गई और उसे जला दिया गया था।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.