top menutop menutop menu

FATF से Pakistan को मिली 5 माह की राहत, अब अक्टूबर में होगी समीक्षा

इस्लामाबाद। कोरोना महामारी के दौरान पाकिस्तान को एक अप्रत्याशित राहत मिली है। दरअसल एफएटीएफ (FATF) ने पाकिस्तान को अगले 5 माह के लिए ग्रेस पीरिएड दे दिया है। अब पाकिस्तान को एफएटीएफ की ओर से पूछे गए 27 सवालों के जवाब अक्टूबर तक देने होंगे। इस दौरान पाकिस्तान को आतंकियों के लिए फंडिंग और उसको रोकने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में विस्तृत रिपोर्ट पेश करनी होगी। पाकिस्तान मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए भी आतंकियों की मदद करता है। पाकिस्तान के प्रमुख अखबार डॉन में इस खबर को प्रकाशित किया गया है।

पाकिस्तान के एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी ने बताया कि हमें स्टेट बैंक ऑफ पाकिस्तान के माध्यम से एफएटीएफ से सिर्फ एक सूचना मिली है कि 21-26 जून के लिए हमारी समीक्षा स्थगित कर दी गई है। अब देश के प्रदर्शन की समीक्षा अक्टूबर में की जाएगी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को पहले 20 अप्रैल तक एक प्रदर्शन रिपोर्ट प्रस्तुत करने की आवश्यकता थी। हम अब अपनी रिपोर्ट अगस्त में FATF को भेजेंगे, जिसकी अक्टूबर में समीक्षा की जाएगी।

उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी को देखते हुए ये एफएटीएफ की ओर से ये समय दिया गया है। चूंकि इस दौरान पूरी दुनिया ही कोरोना वायरस से परेशान है ऐसे में इस तरह की रिपोर्ट प्रस्तुत कर पाना मुश्किल था। इससे राहत मिल जाएगी और रिपोर्ट तैयार करने में सहूलियत होगी। 

फरवरी में वित्तीय अपराधों के खिलाफ पेरिस स्थित ग्लोबल वॉचडॉग (वैश्विक प्रहरी) ने पाकिस्तान को धनशोधन और आतंक के वित्तपोषण के खिलाफ अपनी 27-सूत्रीय कार्य योजना को पूरा करने के लिए चार महीने का ग्रेस पीरिएड दिया था। इसके लिए पाकिस्तान को 27 बिंदुओं के साथ नोटिस दिया गया था जिस पर पाकिस्तान ने 14 बिंदुओं का जवाब तैयार किया था मगर 13 सवालों पर कोई जवाब नहीं दिया था।

अधिकारियों ने कहा कि पाकिस्तान ने फरवरी में एफएटीएफ को इन बकाया सवालों के भी जवाब तैयार करके जल्द रिपोर्ट देने के लिए कहा था। इसके लिए कुछ और समय देने की मांग की थी। उनकी ओर से कहा गया था कि वो बाकी के बिंदुओं पर काम कर रहे हैं जल्द ही रिपोर्ट दे देंगे। मगर वो अब तक उसे नहीं दे पाए।

एफएटीएफ ने 21 फरवरी को घोषणा की थी कि पाकिस्तान को 27 सूत्रीय कार्ययोजना को पूरा करने के लिए समय दिया गया था मगर सभी समय सीमाएं समाप्त हो गई थीं, पाकिस्तान इन 27 में से केवल 14 का ही जवाब दिया, बाकी 13 सवालों पर कोई जवाब नहीं दिया। 

इसके लिए पाकिस्तान को जून 2020 का समय दिया गया था, यदि पाकिस्तान इस समय तक इन सभी सवालों का जवाब नहीं देता तो एफएटीएफ उसे ब्लैक लिस्ट कर देता उसी से बचने के लिए पाकिस्तान ने बार-बार समय मांगा। अब उसे 5 माह का अतिरिक्त समय मिल गया है। इस दौरान उसे इन सभी 27 सवालों का जवाब देना होगा। यदि फिर भी पाकिस्तान सभी सवालों का जवाब नहीं देता है तो उसे ब्लैक लिस्ट करने के बारे में एफएटीएफ को ही निर्णय लेना होगा।  

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.