शरीफ इलाज के लिए के विदेश जा सकेंगे या नहीं, पाकिस्‍तान कैबिनेट का फैसला आज

इस्‍लामाबाद, एजेंसी । आज तय होगा कि पाकिस्‍तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ (Nawaz Sharif) इलाज के लिए देश से बाहर जा सकेंगे या नहीं। पाकिस्‍तान मंत्रिमंडल आज एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (ईसीएल) (Exit Control List, ECL) से हटाने का फैसला उप समिति की सिफारिशों के आधार पर करेगी। बीमार पीएमएल-एन नेता को रविवार को पाकिस्तान छोड़ने की उम्मीद थी, लेकिन ईसीएल से उसका नाम नहीं लिए जाने के बाद उनके जाने में देरी हुई।

शरीफ  का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट से नहीं हटाए जाने के कारण उनके विदेश जाने में देरी हो रही है। इससे उनके स्‍वास्‍थ्‍य के लिए गंभीर खतरा पैदा हो गया है। उनकी पार्टी पाकिस्‍तान मुस्लिम लीग नवाज ने आरोप लगाया है कि शरीफ का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट (से नहीं हटाए जाने से उनकी तबियत बिगड़ने का खतरा पैदा हो गया है। 

बता दें कि नवाज शरीफ अपने भाई एवं पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (PML-N) के अध्यक्ष शाहबाज शरीफ (shahbaz sharif) के साथ इलाज कराने के लिए लंदन जाने वाले थे। सूत्रों की मानें तो संघीय सरकार और राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो (National Accountability Bureau) दोनों नवाज शरीफ का नाम एग्जिट कंट्रोल लिस्ट से हटाने में हिचकिचा रहे हैं। इस वजह से उनके विदेश जाने में रुकावट पैदा हो गई है।

राष्ट्रीय जवाबदेही ब्यूरो ने एग्जिट कंट्रोल लिस्ट से शरीफ का नाम हटाने के बजाय गृह मंत्रालय को अपना लिखित जवाब भेज दिया है। दूसरी ओर इमरान खान सरकार भी एग्जिट कंट्रोल लिस्ट से शरीफ के नाम को हटाने की जिम्‍मेदारी नहीं लेना चाहती है। हालांकि, सरकार की ओर से गठित मेडिकल बोर्ड का सुझाव है कि नवाज शरीफ का इलाज विदेश में होना चाहिए ताकि वे जल्‍द स्‍वस्‍थ्‍य हो सकें। वहीं 69 वर्षीय शरीफ ने परिजनों के आग्रह और डॉक्‍टरों की सलाह के बाद शुक्रवार को लंदन में जाकर इलाज कराने पर रजामंदी जताई थी। 

वह रविवार की सुबह को पाकिस्‍तान इंटरनेशनल एयरलाइंस  की प्‍लाइट से लंदन के लिए उड़ान भरने वाले थे। लेकिन एग्जिट कंट्रोल लिस्ट से नाम बाहर नहीं आने के कारण उनकी उड़ान नहीं हो सकी थी। बता दें कि शरीफ विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याओं से ग्रस्‍त हैं। फ‍िलहाल, लाहौर के नजदीक उनके आवास पर उनका ख्‍याल रखा जा रहा है। यही नहीं उसी जगह पर आईसीयू भी स्थापित किया गया है।

देश विदेश की खबरों के लिए यहां क्लिक करें 

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.