पाकिस्तान में पंजाब और सिंध के बीच पानी को लेकर हुआ विवाद, किसानों ने दी यह धमकी

पाकिस्तान में पंजाब और सिंध प्रांत के बीच पानी को लेकर विवाद पैदा हो गया है।

जल बंटवारों को लेकर पाकिस्‍तान की दो राज्‍य सरकारों के बीच तलवारें खिंचती नजर आ रही हैं। पाकिस्तान में पंजाब और सिंध प्रांत के बीच पानी को लेकर विवाद पैदा हो गया है। इसको लेकर किसानों और पीपीपी के कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी है।

Krishna Bihari SinghSun, 16 May 2021 08:07 PM (IST)

इस्लामाबाद, एएनआइ। पाकिस्तान में सिंध प्रांत के किसानों और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के कार्यकर्ताओं ने चेतावनी दी है कि उनके हिस्से का पानी अगर रोका जाना बंद न हुआ तो वे पंजाब सीमा पर धरना देंगे। उल्लेखनीय है कि पंजाब पाकिस्तान का सबसे संपन्न प्रदेश है और वहीं से अधिकतर प्रमुख नेता और अधिकारी आते हैं। इसलिए उसे हर तरह की सुविधाओं में प्रमुखता मिलती है।

सिंध के सिंचाई मंत्री सोहेल अनवर सियाल ने कहा है कि पीपीपी अपने अध्यक्ष बिलावल भुट्टो जरदारी की अगुआई में सिंध-पंजाब सीमा पर धरना देगी। सियाल ने मामले में पंजाब के मुख्यमंत्री उस्मान बुजदार के तमाम नहरें बनवाने के कदम की निंदा की। इससे पंजाब होकर सिंध आने वाली नदियों में पानी कम हो गया है और सिंध के किसानों की फसलें खराब हो रही हैं।

सियाल ने कहा कि उनकी पार्टी राज्य विधानसभा में इस बाबत प्रस्ताव लाएगी और उसके बाद मामला नेशनल असेंबली में उठाया जाएगा। यह पानी की चोरी का मामला है। इसमें हमारी हकमारी हो रही है। सियाल और सिंध के सूचना मंत्री सैयद नासिर हुसैन शाह ने आरोप लगाया कि पंजाब में चश्मा-झेलम और तौंसा-पंजनद लिंक नहर के जरिये पानी की चोरी की जा रही है। कई बार विरोध जताने के बावजूद दोनों नहरों को बंद नहीं किया गया है।

सियाल ने बताया कि सिंध के मुख्यमंत्री सैयद मुराद अली शाह ने मामले को कौंसिल ऑफ कॉमन इंटरेस्ट में पंजाब के मुख्यमंत्री के सामने उठाया लेकिन उसका कोई लाभ नहीं हुआ। प्रधानमंत्री इमरान खान ने भी मामले पर कोई ध्यान नहीं दिया। उल्लेखनीय है कि पंजाब में इमरान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ की सरकार है जबकि सिंध में भुट्टो की पीपीपी की सरकार। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.